गोलियों की तड़तड़ाहट से दहला कश्मीर: आमने-सामने पाक सैनिक और BSF जवान

जम्मू और कश्मीर के 10 जिलों में 2जी सेवाएं बहाल कर दी गई हैं। सोशल मीडिया पर प्रतिबंध जारी रहेगा। जम्मू-कश्मीर के मुख्य सचिव रोहित कंसल ने कहा है कि जम्मू क्षेत्र के 10 जिलों में इंटरनेट सेवाएं बहाल की जा रही हैं।

जम्मू कश्मीर: 26 जनवरी पर देश में दहशतगर्दी फैलाने के नापाक दरादे से पाकिस्तान लगातार साजिश रच रहा है, लेकिन सेना के जवान इसका मुहतोड़ जवाब दे रहे हैं।आज फिर पाकिस्तान ने राजौरी जिले के लाम, नौशेरा सेक्टर में नियंत्रण रेखा पर संघर्ष विराम का उल्लंघन किया जिस पर भारतीय सेना ने जवाबी कार्रवाई की। इसमें किसी तरह के नुकसान की कोई खबर नहीं आई है।

बता दें कि पाकिस्तान ने एक महीने में पुंछ जिले के मेंढर सेक्टर में नियंत्रण रेखा पर 1230 घंटे से लेकर 1315 घंटे तक संघर्ष विराम का उल्लंघन किया है, भारतीय सेना ने जवाबी कार्रवाई की।

10 जिलों में 2जी सेवाएं बहाल कर दी गई हैं

जम्मू और कश्मीर के 10 जिलों में 2जी सेवाएं बहाल कर दी गई हैं। सोशल मीडिया पर प्रतिबंध जारी रहेगा। जम्मू-कश्मीर के मुख्य सचिव रोहित कंसल ने कहा है कि जम्मू क्षेत्र के 10 जिलों में इंटरनेट सेवाएं बहाल की जा रही हैं।

ये भी पढ़ें—ED ने आम्रपाली के प्रमोटर अनिल शर्मा और शिव प्रिया को हिरासत में लिया

उन्होंने शनिवार को कहा कि उत्तर कश्मीर के बांदीपोरा और कुपवाड़ा में 2जी इंटरनेट सेवाएं बहाल की जा रही हैं। कश्मीर घाटी के बैंकों में ब्रॉडबैंड सेवाएं पूरी तरह से चालू कर दी गई हैं। मुख्य सचिव ने कहा कि वाइस कॉलिंग की सेवा के साथ ही एसएमएस सेवाएं भी शुरू कर दी गई हैं।

प्री-पेड कनेक्शन से भी हटा बैन

मुख्य सचिव रोहित कंसल ने बताया कि अब घाटी में प्री-पेड कनेक्शन से भी बैन हटा लिया गया है। गौरतलब है कि केंद्र सरकार ने 5 अगस्त को संसद में जम्मू-कश्मीर राज्य पुनर्गठन बिल पेश किया था। इसी दिन जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने का संकल्प भी पारित किया था। इससे एक दिन पहले 4 अगस्त को पूरे प्रदेश में टेलीफोन और मोबाइल सेवाएं बंद कर दी गई थीं।

ये भी पढ़ें—गजब शौक नेताजी के: महिला के कपड़े पहनना था पसंद! श्रीदेवी के साथ किया काम

कई नेताओं को भी किया गया रिहा

जम्मू-कश्मीर में कल शाम चार और राजनीतिक नेताओं को हाउस अरेस्ट से रिहा कर दिया गया। इसमें नेशनल कांफ्रेंस के नजीर गुरजी, PDP के अब्दुल हक खान, पीपल्स कॉन्फ्रेंस के मोहम्मद अब्बास वानी और कांग्रेस के अब्दुल रशीद शामिल हैं। इन नेताओं को 5 अगस्त 2019 से आर्टिकल-370 हटाने के बाद से अब तक हाउस अरेस्ट में रखा गया था।