काम की खबर! कब और कहां पैदा हुए थे माता-पिता, जनगणना में पूछे जायेंगे सवाल

हर दस साल में देश की जनसंख्या की गिनती की जाती है, पिछली बार जनगणना 2011 में हुई थी। अब अप्रैल, 2020 से इसपर काम शुरू हो जाएगा, इस दौरान ट्रेनिंग चलेगी और फिर 2021 तक जनगणना का काम पूरा होगा।

नई दिल्ली: हर दस साल में जनसंख्या की गणना की जाती है। पिछली जनगणना 2011 में हुई थी। इस बार आने वाले साल 2021 में होनी है। गौरतलब है कि इस समय देश नागरिकता संशोधन एक्ट (CAA) नेशनल पॉपुलेशन रजिस्टर (NPR) और नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटीजन (NRC) के मुददे को लेकर देश का माहौल गरम है।

ये भी देखें : जानें साल 2020 में किन-किन राशि वालों की चमकेगी किस्मत

बता दें कि इस बीच 2021 में होने वाली जनगणना की तैयारियां भी शुरू हो चुकी हैं। मोदी कैबिनेट ने मंगलवार को जनगणना, NPR अपडेट को मंजूरी दे दी है।

सेंसस इंडिया की वेबसाइट पर है जानकारी

जनगणना होनी है तो आपके मन में यह सवाल जरूर आ रहा होगा कि जनगणना के वक्त क्या सवाल पूछे जा सकते हैं? क्या आपको कुछ कागजात इकट्ठा करने होंगे। ऐसे में हम आपको बताते हैं कि 2021 की जनगणना होते वक्त आपसे किस तरह के सवाल पूछे जायेंगे। जिसकी सारी जानकारी आपको सेंसस इंडिया की वेबसाइट htttp://www.censusindia.gov।in पर जनगणना 2021 का फॉर्म डाल दिया गया है, जिसमें पूरी जानकारी दी गई है।

ये भी देखें : गुजरात के CM बोले- मुस्लिमों के लिए 150 देश, हिंदुओं के पास सिर्फ एक

गौरतलब है कि हर दस साल में देश की जनसंख्या की गिनती की जाती है, पिछली बार जनगणना 2011 में हुई थी। अब अप्रैल, 2020 से इसपर काम शुरू हो जाएगा, इस दौरान ट्रेनिंग चलेगी और फिर 2021 तक जनगणना का काम पूरा होगा। सेंसस इंडिया की तरफ से जो फॉर्म दिया गया है, उसमें दो साइड हैं। साइड A, साइड B,

delhi_750_122519030552.jpg

जानें जनसंख्या के दौरान कौन-से सवाल पूछे जा सकते हैं?

-भवन संख्या

-जनगणना मकान नंबर

-मकान का फर्श, छत, दीवार की सामग्री

-फर्श कैसा है: (मिट्टी/टाइल/मार्बल)

-दीवार कैसी है: कच्ची/पक्की

-मकान के उपयोग का पता

-परिवार संख्या

-परिवार के मुखिया का नाम

-मकान के स्वामित्व की स्थिति

-परिवार के रहने के लिए कितने कमरे?

-पेयजल का मुख्य स्त्रोत

-प्रकाश का मुख्य स्त्रोत

-शौचालय की सुलभता

-गंदी नाली का पानी किस तरह निकलता है

-घर के परिसर में नहाने की सुविधा है या नहीं?

-रसोई घर, LPG/PNG का कनेक्शन है या नहीं?

-खाना पकाने के लिए प्रमुख ईंधन क्या है?

-रेडियो/ट्रांजिस्टर/मोबाइल/स्मार्टफोन

-टेलीविजन/डिश/फ्री डिश

-इंटरनेट है या नहीं

-लैपटॉप/कंप्यूटर

-साइकिल/स्कूटर/मोटर साइकिल

-कार/जीप/वैन

-परिवार के सदस्य बैंकिंग सेवा का उपयोग करते हैं?

-मोबाइल नंबर/फोटो

ये भी देखें : किसानों सावधान! अगर किया ऐसा, तो नहीं मिलेगा सरकार की इस योजना का लाभ

 

आपको बता दें कि केंद्र सरकार के द्वारा जनसंख्या के लिए करीब 8700 करोड़ का बजट भी पास किया गया है, इसके साथ ही नेशनल पॉपुलेशन रजिस्टर (NPR) को अपडेट करने की प्रक्रिया को भी मंजूरी दे दी गई है। हालांकि, विपक्ष आरोप लगा रहा है कि NPR, NRC का ही एक हिस्सा है, ऐसे में इसे लागू नहीं किया जा सकता है।

कब और कहां पैदा हुए थे माता-पिता

सरकार की ओर से सफाई दी गई है कि NPR-NRC अलग हैं और ना ही इसका किसी की नागरिकता से कोई लेना-देना है। बता दें कि NPR पहली बार 2010 में तैयार किया गया था। इसके दो प्रमुख उद्देश्य बताए गए थे। पहला- देश के सभी निवासियों के व्यक्तिगत ब्योरे को इकट्ठा करना। दूसरा-ग्रामीण और नगरीय क्षेत्र के 15 साल और इससे ज्यादा उम्र के सभी निवासियों के फोटोग्राफ और अंगुलियों की छाप लेना।