बाढ़ का ऐसा खौफनाक मंजर नहीं देखा होगा आपने, 150 पहुंचा मरने वालों का आकड़ा

बिहार और असम में बाढ़ और बारिश काल बनकर वहां के जन-जीवन में त्राही-त्राही मचा रखी है। बाढ़ की वजह से मरने वालों की संख्या लगभग 150 तक पहुंच चुकी है। वहीं, मरने को अलावा करीब 1.15 करोड़ लोगों का जीवन इससे प्रभावित हुआ है।

flood.

flood.

नई दिल्ली : बिहार और असम में बाढ़ और बारिश काल बनकर वहां के जन-जीवन में त्राही-त्राही मचा रखी है। बाढ़ की वजह से मरने वालों की संख्या लगभग 150 तक पहुंच चुकी है। वहीं, मरने को अलावा करीब 1.15 करोड़ लोगों का जीवन इससे प्रभावित हुआ है।

बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने बयान जारी करके मृतकों के परिवारों के प्रति संवेदना जताई और परिजनों को चार लाख रुपये का मुआवजा देने की घोषणा की।

यह भी देखें… महाराष्ट्र: यहां भीषण बारिश में बह गया पुल का बड़ा हिस्सा

बात करें अगर वहां के निवासियों की तो उनकी सारी ग्रहस्ति तो पानी में डूब ही गई, सोने भर के लिए आसियाना भी नही बचा।

तबाही की तस्वीरें

flood

तस्वीरें में देखें बारिश और बाढ़ ने लोगों के जीवन को किस तरह अस्त-व्यस्त कर दिया हैं।

त्राही की तस्वीर

Flood

मौत का आकड़ा

बिहार में बीते 24 घंटों में विभिन्न इलाकों में बाढ़ के कारण मरने वालों की संख्या 14 हो गई जिससे इस मानसूनी बारिश में यह आंकड़ा बढ़कर 92 तक पहुंच गया है।

यह भी देखें… यूपी के कई जिलों में भारी बारिश की वजह से पैदा हुए बाढ़ के हालात

aasam flood

राज्य में राहत और पुनर्वास अभियान पूरी क्षमता से चलाये जा रहे हैं और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने 180 करोड़ रूपये से अधिक धनराशि वाला एक अभियान शुरु किया।

aasam flood

आपदा प्रबंधन विभाग के अनुसार बाढ़ से सबसे अधिक प्रभावित जिला सीतामढ़ी है। राज्य में कल तक हुई कुल 78 मौतों में यहां 27 लोगों की जानें जा चुकी हैं। यहां का इलाका अचानक आई बाढ़ से प्रभावित है। यह बाढ़ नेपाल में गत सप्ताह हुई मूसलधार बारिश की वजह से आई है।

राहत ढूढ़ते लोग

aasam flood

असम में बाढ़ में 11 और लोगों की मौत के साथ मृतकों की संख्या बढ़कर 47 हो गई है जबकि राज्य के 33 में से 27 जिलों में 48.87 लाख लोग प्रभावित हैं। असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एएसडीएमए) ने कहा कि 11 और लोगों की मौत की खबर मिली है, जिनमें बारपेटा और मोरीगांव में 3-3 लोगों की मौत हुई है।

यह भी देखें… हिमाचल प्रदेश: बारिश-भूस्खलन के चलते सोलन में कालका-शिमला हेरिटेज ट्रैक हुआ बंद

Flood

प्राधिकरण ने अपने बुलेटिन में कहा कि 3,705 गांवों में 48,87,443 लोग बाढ़ की चपेट में हैं।

दक्षिण पश्चिम मानसून के प्रभाव के चलते शुक्रवार को दूसरे दिन भी केरल के कई हिस्सों में भारी बारिश हुई। सात मछुआरे लापता हैं और दो जिलों में राहत शिविर खोले गये हैं। मौसम विभाग के अनुसार इडुक्की, कोझीकोड, वायनाड, मल्लपुरम और कन्नूर जिलों में शुक्रवार को 20 सेमी से अधिक बारिश के चलते रेड अलर्ट (बहुत ज्यादा बारिश) जारी किया गया है।

यह भी देखें… अरुणाचल प्रदेश में लगे 5.5 की तीव्रता के भूकंप के झटके

इन जगहों पर 19-22 जुलाई को भारी बारिश का अनुमान की गयी थी, जबकि सुदूर उत्तर के कासरगोड जिले में शनिवार को रेड अलर्ट घोषित कर दिया जायेगा।