Top

पूर्व नक्सली सिल रहा पुलिस की वर्दी, बंदूक छोड़ थामा सूई धागा का दामन

पूर्व नक्सली राम पोद्दो कहते हैं कि, सरेंडर करने के बाद उनकी ज़िंदगी पूरी तरह से बदल गई है। नक्सली संगठन में रहने के दौरान कभी चैन सुकून नहीं मिला।

Roshni Khan

Roshni KhanBy Roshni Khan

Published on 17 Feb 2021 8:50 AM GMT

पूर्व नक्सली सिल रहा पुलिस की वर्दी, बंदूक छोड़ थामा सूई धागा का दामन
X
पूर्व नक्सली सिल रहा पुलिस की वर्दी, बंदूक छोड़ थामा सूई धागा का दामन (PC: social media)
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

रांची: कभी जिन हाथों में बंदूक हुआ करता था आज उनमें सूई धागा है। कभी पुलिस की आहट से घबरा जाने वाला नक्सली आज पुलिस के बीच रहकर ज़िंदगी ग़ुज़ार रहा है। कभी पुलिस को देखकर ही बंदूक तानने वाला नक्सली आज पुलिस की वर्दी सिल रहा है। हम बात कर रहे हैं कि, रांची तमाड़ के पूर्व नक्सली राम पोद्दो की।

कई आईपीएस अधिकारी राम पोद्दो के हाथों से सिली वर्दी पहन चुके हैं। राज्य सरकार की सरेंडर पॉलिसी के तहत राम पोद्दो ने साल 2013 में सरेंडर किया। सज़ा काट लेने के बाद रांची के पुलिस लाइन में उन्हे दुकान दी गई जहां वे पुलिस की वर्दी सिलते हैं।

ये भी पढ़ें:पीलीभीत: बांसुरी चौराहा बना शहर की नई पहचान, DM ने करवाया ये शानदार काम

चैन सुकून की ज़िंदगी

पूर्व नक्सली राम पोद्दो कहते हैं कि, सरेंडर करने के बाद उनकी ज़िंदगी पूरी तरह से बदल गई है। नक्सली संगठन में रहने के दौरान कभी चैन सुकून नहीं मिला। हर वक्त पुलिस का डर सताता रहता था। पुलिस की आहट भर से घबरा जाते थे। संगठन में रहकर सिर्फ अपने पेट का इंतज़ाम कर पाते थे। राम पोद्दो कहते हैं कि, साल 2013 के बाद उनकी ज़िंदगी पूरी तरह से बदल गई है। अब डर खौफ की ज़िंदगी खत्म हो गई है। अपनी कमाई से परिवार का भरण पोषण करते हैं। परिवार वाले भी खुश हैं। मुख्यधारा में लौटने के बाद ज़िंदगी को एक मायने मिला है।

[video width="640" height="352" mp4="https://newstrack.com/wp-content/uploads/2021/02/WhatsApp-Video-2021-02-17-at-00.09.07.mp4"][/video]

ये भी पढ़ें:मोदी सरकार की बड़ी तैयारी, बेचेगी इस हेरिटेज रेल लाइन को, हो रहा करोड़ों का घाटा

सरकार की पुनर्वास नीति

झारखंड सरकार की योजना नई दिशा के तहत नक्सलियों को मुख्यधारा में शामिल कराया जा रहा है। इसके तहत कई नक्सलियों ने सरेंडर किया है। राम पोद्दो उन्ही में से एक हैं। रांची के ग्रामीण एसपी नौशाद आलम कहते हैं कि, राम पोद्दो को देखकर नहीं लगता कि, वे अपनी मर्जी से नक्सली संगठन में शामिल हुए। उन्होने बताया कि, पूर्व नक्सली के हाथों से सिली वर्दी किसी मामले में कम नहीं है। उन्होने खुद भी अपनी वर्दी सिलाई है। ग्रामीण एसपी कहते हैं कि, नक्सली संगठन से जुड़े लोगों को सरकार मौका दे रही है कि, वे मुख्यधारा में लौटें और इत्मीनान की ज़िंदगी ग़ुज़ारें। सरकार उनके पुनर्वास में हर संभव मदद करेगी।

[video width="640" height="352" mp4="https://newstrack.com/wp-content/uploads/2021/02/WhatsApp-Video-2021-02-17-at-00.09.05.mp4"][/video]

रिपोर्ट- शाहनवाज़

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Roshni Khan

Roshni Khan

Next Story