Top

फेस्टिवल व पार्टी की जान है दही बड़ा,यहां से हुआ इसका इजाद

suman

sumanBy suman

Published on 24 March 2019 4:09 AM GMT

फेस्टिवल व पार्टी की जान है दही बड़ा,यहां से हुआ इसका इजाद
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

दही बड़े का नाम आते ही मुंह में पानी आ जाता है। शादी या पार्टी में दही न बनें ऐसा हो नहीं सकता है। पंजाबी या नॉर्थ इंडिया के तीज-त्योहार में यह खट्टा-मीठा पकवान तो बनता ही है। इसे बच्चे से लेकर बड़े तक चाव से खाते हैं. आसानी से बनने वाले इस दही बड़े के इजाद की कहानी भी रोचक है। दही वड़े या दही बड़े भारतीय उपमहाद्वीप की ही देन है और पूरे दक्षिण एशिया में बड़े चाव से खाया जाता है। तुअर के दाल से बना वड़ा जहां काफी स्वादिष्ट होता है। वहीं दही को पाचन तंत्र के लिए अच्छा माना जाता है।

केंद्रीय मंत्री उमा भारती को बीजेपी ने दी बड़ी जिम्मेदारी, बनी राष्ट्रीय उपाध्यक्ष

अगर दही वड़े के इतिहास में जाएं तो यह 12 वीं शताब्दी में कर्नाटक के राजा सोमेश्वर तृतीय द्वारा रचित ग्रंथ 'मनसोल्लास' में इसका वर्णन 'क्षीरवड़ा' के नाम से मिलता है. यह स्वादिष्ट व्यंजन जितना रंगीन होता है इसके नाम भी अलग-अलग हैं। उत्तर भारत से लेकर दक्षिण तक इसका स्वाद अलग-अलग होता है। उर्दू में दही बड़े, पंजाबी में दही भल्ला, तमिल में थायिर वड़ाई, मलयालम में थायरु वड़ा और तेलुगू में पेरुगु वड़े के नाम से फेमस है। दही बड़े से थोड़े अलग दही भल्ले होते है। भल्लों में पपड़ी, तले आलू और चने का इस्तेमाल किया जाता है जो इसे एक नया स्वाद देते हैं। जबकि दही वड़ों को दही के साथ कुछ मिर्च-मसालों के साथ परोसा और खाया जाता है.वड़े को तलने के बाद नमक मिले गुनगुने पानी में डाला जाता है. इसके बाद गाढ़े दही में डुबोया जाता है. धनिया या पुदीने की पत्तियां, लाल मिर्च पाउडर, पिसी काली मिर्च, चाट मसाला, जीरा, नारियल का बूरा छिड़कर इसे लजीज बनाया जाता है।

विजय संकल्प सभा: UP में आज से उतरेगी BJP की ‘फौज’, शाह-योगी समेत ये नेता होंगे यहां…

कई राज्यों में मीठे दही के साथ भी इसे खाया जाता है. महाराष्ट्र और गुजरात में तो मीठी दही वाले दही बड़े ही ज्यादा चलते हैं. वहीं कई राज्यों में इमली की चटनी इसमें जरूर डाली जाती है।अन्य राज्यों से इतर उत्तर भारत में खाया जाने वाला वड़ा दक्षिण भारत से थोड़ा अलग होता है. उत्तर भारत में इसका स्वाद बढ़ाने के लिए हरी चटनी, सोंठ या इमली की चटनी डाली है तो वहीं दक्षिण में यह नारियल और हरी मिर्च के पेस्ट के साथ खाया जाता है.नॉर्थ इंडिया में दही पकौड़े, दही भल्ला, दही पापड़ी और दही गुझिया भी खूब खाई जाती है. वड़े को इडली, सांभर आदि के साथ भी परोसा जाता है. वड़े की वैरायटी में मेदुवड़ा काफी फेमस है. कन्नड़ में मेदु का अर्थ होता है 'मुलायम' और वड़ा का अर्थ है टिकिया. सबसे पहले कर्नाटक के मद्दुर में मेदुवड़ा बनाया गया था.

suman

suman

Next Story