अपनाए ये तरीकें और बचें प्रदूषण भरी दिवाली से

हर जगह आज बड़े ही धूमधाम के साथ दिवाली मनाई जा रही है। लोग इस दिन अपने घर को बहुत अच्छे से सजाकर मां लक्ष्मी और भगवान गणेश की पूजा करते हैं।

Published by Roshni Khan Published: October 27, 2019 | 1:41 pm
Modified: October 27, 2019 | 1:46 pm

लखनऊ: हर जगह आज बड़े ही धूमधाम के साथ दिवाली मनाई जा रही है। लोग इस दिन अपने घर को बहुत अच्छे से सजाकर मां लक्ष्मी और भगवान गणेश की पूजा करते हैं। दिवाली हो और लोग पटाके न जलाए ऐसा हो नहीं सकता। लोग दिवाली में पटाके तो बहुत मजे से जलातें हैं। लेकिन उसके बाद पटाको से निकल ने वाले धुएं से हो रहे प्रदूषण को लोगो को बहुत नुकशान पहुंचता है। इस समय प्रदूषण की समस्या से पूरा देश परेशान है।

ये भी देखें:LIVE: कुछ देर में शुरू होगा मनोहर लाल खट्टर का शपथ-ग्रहण, जानिए हर अपडेट

सबसे ज्यादा तो देश की राजधानी दिल्ली इससे प्रभावित हो रही है। अगर आप दिवाली पर होने वाले प्रदूषण को लेकर चिंतित हैं और खुद को इससे बचाना चाहते हैं तो आपको कुछ बातों का ध्यान जरूर रखना चाहिए। तो आइए आज हम आपको बताते हैं दिवाली पर होने वाले प्रदूषण से बचने के लिए आपको क्या करना चाहिए।

पटाखे जलाने का एक निश्चित समय

रात भर जलाने की बजाए पटाखें जलाने का एक टाइम निश्चित कर लें। कम से कम पटाखों को जलाएं, जिसे प्रदूषण की मात्रा को कुछ हद तक तम किया जा सकता है। तेज आवाज वाले पटाखों को जलाने से बचें। तेज आवाज वाले पटाखों के कारण दिल के मरीजों का खतरा और बढ़ सकता है।

ध्वनि प्रदूषण न फैलाएं

50 डेसीबल से ज्यादा का शोर मनुष्य के लिए घातक होता है। ज्यादा शोर होने से कान के पर्दों को नुकसान पहुंचता है लेकिन दिवाली के दौरान जो पटाखे जलाते हैं वो 100 डेसीबल से ज्यादा के होते हैं। इतना शोर किसी भी इंसान के लिए काफी खतरनाक है। इसलिए ध्वनि प्रदूषण न फैलाएं।

कचरा घर के आसपास न फेंके

दिवाली आने से पहले ही घर की साफ-सफाई का काम शुरू हो जाता है। सफाई के दौरान घर से निकलने वाले कचरे को आप घर के आसपास न फेंके और न जमा करें। इसे कुड़े फेंकने की सही जगह पर ही फेंके।

ये भी देखें:अभी-अभी दर्दनाक हादसा: दिवाली मनाने जा रहे थे लोग, खाई में गिरी कार, 4 की मौत

अस्थमा मरीज न निकलें बाहर

दिवाली पर पटाखे जलाने से प्रदूषण बढ़ जाता है और हवा में जहर घुल जाता है। ऐसे में अगर घर में किसी सदस्य को अस्थामा या सांस से जुड़ी कोई बीमारी हो तो आप उसे खुले में बाहर न निकलने दें। सांस से जुड़ी बीमारी के मरीजों की प्रदूषित हवा से परेशानी और बढ़ सकती है। लेकिन अगर आपको काम के लिए बाहर जाना है तो उन्हें मास्क पहनकर बाहर निकले।