मोटापे की दवा से होगा कैंसर: एफडीए ने जारी किया चेतावनी

मोटापा आज दुनिया में एक गंभीर बीमारी बन चुकी है। वजह ये है कि लोग आलसी होते जा रहे हैं। इससे निपटने के लिए मार्केट में कई दवाएं भी आ चुकी हैं। लोग इन दवाओं का सेवन करते तो हैं लेकिन शायद उन्हें ये नहीं पता होता कि ये दवा उनके लिए घातक हो सकती है।

मोटापा

मोटापा

मुंबई: मोटापा आज दुनिया में एक गंभीर बीमारी बन चुकी है। वजह ये है कि लोग आलसी होते जा रहे हैं। इससे निपटने के लिए मार्केट में कई दवाएं भी आ चुकी हैं। लोग इन दवाओं का सेवन करते तो हैं लेकिन शायद उन्हें ये नहीं पता होता कि ये दवा उनके लिए घातक हो सकती है। तो आइए हम आपको बताते हैं इसके बारे में

संघीय नियामक वजन घटाने वाली दवाओं से कैंसर के संभावित बढ़े जोखिम के बारे में लोगों को आगाह​ किया है। एक शोध के मुताबिक मोटापा घटाने की दवाओं से कैंसर होने की संभावना बढ़ जाती है। वजन कम करने वाली गोली लोरसेरिन कैंसर का कारण बनती है, इसके लिए दवा नियामक प्राधिकरण ने बाजार से इसे वापस लेने की सलाह दी है। अमेरिकी खाद्य एवं औषधि प्रशासन द्वारा मंगलवार को चेतावनी जारी किया गया। मोटापाग्रस्त लोगों को दवा लेने वालों को अपने डॉक्टरों से बात करनी चाहिए।

12,000 लोगों पर हुआ शोध

एफडीए ने कहा, “पांच साल से अधिक के 12,000 प्रतिभागियों से जुड़े एक परीक्षण में पाया गया कि” प्लेसबो लेने वाले रोगियों की तुलना में लोरसेरिन लेने वाले अधिक रोगियों को कैंसर का निदान किया गया था, “एफडीए ने कहा, जिसने 2012 में दवा को मंजूरी दी थी।” नैदानिक ​​परीक्षण के परिणाम और हमारे अंतिम निष्कर्षों और सिफारिशों का संचार करेंगे जब हमने अपनी समीक्षा पूरी कर ली है।

ये भी पढ़ें—खुशखबरी: होली से पहले मोदी सरकार का बड़ा तोहफा, खाते में आएंगे इतने पैसे

Eisal Inc. द्वारा निर्मित, जापान की Eisal Co. Ltd की सहायक कंपनी, Lorcaserin को मोटे और अधिक वजन वाले लोगों की मदद करने के रूप में बिल भेजा जाता है, जो कि भूख को कम करने के लिए पाउंड को कम करते हैं जो कि कुछ आहारों को प्रेरित करते हैं। भूख दबाने वाला मस्तिष्क रसायनों को उत्तेजित करके काम करता है जो अपने उपयोगकर्ताओं को अधिक भरा हुआ महसूस कराते हैं।

दवा निर्माता सीबीएस मनीवाच के एक प्रवक्ता ने बुधवार को बताया, “रोगी सुरक्षा Eisai की प्राथमिकता है और हम नैदानिक ​​परीक्षण के परिणामों का मूल्यांकन करने के लिए FDA के साथ मिलकर काम करना जारी रखेंगे। ऐसे में एफडीए ने कहा है कि ये दवां कैंसर को बढ़ावा देती हैं।

ये भी पढ़ें—हाफिज सईद पर पाकिस्तान का ये प्लान: FATF की बैठक के बाद लेगा बड़ा फैसला