Top
TRENDING TAGS :Coronavirusvaccination

सावधानः इस मौसम में पैरों की सुरक्षा है जरूरी, करें ये काम

मानसून का मौसम है तो बारिश कभी भी आएगी ही, शरीर, कपड़ों और जूतों को तो जैसे-तैसे बचा लेते हैं, लेकिन अपने पैरों को बारिश के पानी, नमी और कीचड़ से हर समय बचा पाना लगभग नामुमकिन सा हो जाता है। इस मौसम पैरों का ज्यादा देर तक नमी में और गीला रहना आम बात हो जाती है।

Suman

SumanBy Suman

Published on 13 Aug 2020 4:21 AM GMT

सावधानः इस मौसम में पैरों की सुरक्षा है जरूरी, करें ये काम
X
बारिश मे अपने पैरों की ज्यादा देखभाल करें
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ : मानसून का मौसम है तो बारिश कभी भी आएगी ही, शरीर, कपड़ों और जूतों को तो जैसे-तैसे बचा लेते हैं, लेकिन अपने पैरों को बारिश के पानी, नमी और कीचड़ से हर समय बचा पाना लगभग नामुमकिन सा हो जाता है। इस मौसम पैरों का ज्यादा देर तक नमी में और गीला रहना आम बात हो जाती है। जिससे इस मौसम में लोगों के पैरों में सूजन, फोड़े-फुंसियां आदि समस्याएं आती हैं। ऐसे में मानसून के इस मौसम में जरूरी है कि आप अपने पैरों की ज्यादा देखभाल करें। इस मौसम में पैर लंबे समय तक बारिश के कारण गंदे पानी के संपर्क में रहता है और ऐसे में फंगल इंफेक्शन हो जाता है। इससे बचने के कुछ घरेलू उपाय हैं...

* पैरों में फंगल संक्रमण हो तो हल्दी लगा सकते हैं। हल्दी में ऐंटीबैक्टीरियल और ऐंटीफंगल गुण पाए मिलते है जिससे फंगल संक्रमण खत्म हो जाता है। पैरों में फंगल संक्रमण हो गया है तो मुल्तानी मिट्टी लगा सकते हैं। यह रक्त संचरण को बढ़ा देती है और त्वचा के स्वास्थ्य में भी सुधार करने में सहायक होती है। इसके पेस्ट बनाकर लगा सकते हैं।

पैरों में फंगल संक्रमण हो जाए तो नींबू लगा सकते हैं। इसमें ऐंटीऑक्सिडेंट्स होते हैं और इसमें ऐंटी बैक्टीरियल प्रॉपर्टीज भी होती हैं। इसे लगाने के लिए नींबू का रस, सिरका और ग्लिसरीन मिलाकर लगा सकते हैं। पैरों में फंगल संक्रमण होने पर मेहंदी पाउडर और गुलाब जल को अच्छी तरह से मिक्स करने के बाद लगाने से लाभ होगा। मेहंदी एक प्राकृतिक उपचारक है, और इसमें ऐसे ऐंटीसेप्टिक गुण होते हैं।

अपने पैरों को रोजाना दिन में तीन बार अवश्य धोएं। पैरों को गुनगुने साबुन वाले पानी से साफ करें। इसके बाद उन्हें ठंडे पानी से धोएं। पैरों को सूखे तौलिए से सुखाने के बाद फुट क्रीम लगाकर मसाज भी दें। इस बात का विशेष ध्यान रखें कि पैर मैले न रहें।

यह पढ़ें...अच्छा तो इसलिए होती हैं शराब की बोतलें रंगीन, वजह जानकर हो जाएंगे हैरान

foot care

यदि आप घर पर ही पैडीकेयर (पैडीक्योर) कर रहे हैं तो आपको यह ध्यान रखना होगा कि आप जो उत्पाद इस्तेमाल कर रहे हैं वे आपके पैरों को सूट कर रहे हैं या नहीं। पैरों को स्टोन से अच्छे से रगड़कर साफ करना चाहिए। उंगलियों के बीच में विशेष सफाई करें।

एड़ियों को भी रगड़कर साफ करें। उम्दा क्वालिटी के फुट स्क्रबर का इस्तेमाल करना चाहिए। सोने से पहले अच्छे से पैर धो कर ही बिस्तर पर जाएं।

नाखून ज्यादा लंबे ना रखें। लंबे नाखून भी कई बीमारियों को न्यौता देते हैं। नाखूनों में गंदगी जमा हो तो बैक्टीरिया को निमंत्रण देते हैं।

कभी ऐसा लगे कि पैरों में सूजन आ रही है तो फिटकरी के गर्म पानी में करीब 15 से 20 मिनट तक पैरों को डुबोकर रखें। यदि पैरों में ज्यादा सूजन हो तो एक सप्ताह में करीब 3 या 4 बार अवश्य ऐसा कर लें। इससे निश्चित ही पैरों की सूजन को आराम मिलेगा। यदि ज्यादा दिन तक आराम न हो तो डॉक्टर की सलाह लें।

यह पढ़ें...सुशांत केस: जांच को लेकर आज सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई, सभी पक्ष लिखित में दाखिल करेंगे जवाब

foot care

ज्यादा देर तक बारिश के पानी में पैर रहने से मोटे-मोटे दाने निकल आते हैं। यह देखने में छोटे लगते हैं लेकिन मांस के अंदर गांठ बन जाती है तो काफी दर्द देते हैं। पैर नीचे रखने में यह बहुत ज्यादा चुभते हैं। फोड़े फुंसियों की शुरूआत होते ही डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

Suman

Suman

Next Story