Top

कुटिया में रहते हैं दुनिया के सबसे गरीब भारतीय सांसद, जानें इनके बारे में

उन्होंने बालासोर और मयूरभंज जिले के आदिवासी इलाकों में कई स्कूल बनवाएं हैंं वो साइकिल से चलते हैं। कहा जा जाता है कि वो नरेंद्र मोदी के करीबी हैं और जब भी प्रधानमंत्री ओडिशा जाते हैं तो उनसे मुलाकात भी करते हैं।

Shivakant Shukla

Shivakant ShuklaBy Shivakant Shukla

Published on 27 May 2019 11:55 AM GMT

कुटिया में रहते हैं दुनिया के सबसे गरीब भारतीय सांसद, जानें इनके बारे में
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: लोकसभा चुनाव 2019 में एनडीए ने प्रचंड़ जीत दर्ज किया है। ऐसे में इन दिनों सोशल मीडिया पर खूबसूरत सांसदों की चर्चा तेज हो गई है। ऐसे में आज हम आपको एक ऐसे सांसद के बारे में बताने जा रहे हैं जो कि सबसे गरीब सांसद है। उनका नाम है प्रताप चन्द्र सारंगी| तो आइये जानते हैं इनके बारे में...

ओडिशा की बालाशोर लोकसभा सीट से इस बार बीजेपी के प्रताप चन्द्र सारंगी को जीत मिली है। उन्होंने बीजेडी के रबिन्द्र कुमार जेना को 12,956 वोटों से हराया। साल 2014 में वो हार गए थे। लेकिन इस बार उन्होंने आखिरकार जीत दर्ज की। इन दिनों हर तरफ प्रताप चंद्र सारंगी की चर्चा है। लोग उन्हें ओडिशा का मोदी कहने लगे हैं। वो कई सालो से समाजसेवा में लगे हैं।

ये भी पढ़ें— यह हैं भारत की सबसे युवा सांसद चंद्राणी, इंजीनियरिंग कर ढूंढ रही थीं नौकरी

सोशल मीडिया पर इन दिनों हर तरफ प्रताप चंद्र सारंगी की चर्चा है। लोग उन्हें ओडिशा का मोदी कहने लगे हैं। सारंगी कई सालों से समाजसेवा में लगे हैं। इसके अलावा उन्होंने शादी भी नहीं की है। सारंगी कुटिया मे रहते है और उनकी आर्थिक हालत बेहद कमजोर है, लेकिन इलाके की जनता पर उनकी गहरी पकड़ है।

जानें प्रताप चंद्र सारंगी के बारे में

प्रताप सारंगी का जन्म बालासोर के गोपीनाथपुर में एक गरीब परिवार में हुआ। उन्होंने उत्कल यूनिवर्सिटी के फकीर कॉलेज से ग्रेजुएशन किया। कहा जाता है कि प्रताप सारंगी बचपन से ही बेहद आध्यात्मिक थे।

ये भी पढ़ें— मुरादाबाद के RSS कार्यवाह विपिन चौधरी ने माउंट एवरेस्ट पर फहराया भगवा ध्वज

वो रामकृष्ण मठ में साधु बनना चाहते थे। इसके लिए वो कई बार मठ भी गए थे। लेकिन जब मठ वालों को पता लगा कि उनके पिता नहीं है और उनकी मां अकेली हैं, तो मठ वालों ने उन्हें मां की सेवा करने को कहा।

उन्होंने बालासोर और मयूरभंज जिले के आदिवासी इलाकों में कई स्कूल बनवाएं हैंं वो साइकिल से चलते हैं। कहा जा जाता है कि वो नरेंद्र मोदी के करीबी हैं और जब भी प्रधानमंत्री ओडिशा जाते हैं तो उनसे मुलाकात भी करते हैं।

Shivakant Shukla

Shivakant Shukla

Next Story