संभोग के बाद इसलिए चिपके रहते हैं कुत्ते, महाभारत से जुड़ी है कथा

हम सभी ने अक्सर देखा है कि कुत्ते आपस में चिपक जाते हैं और बहुत मुश्किल से छूट पाते हैं, लेकिन संभोग के दौरान कुत्तों के चिपकने की वजह एक श्राप है। इस बारे में शायद ही लोग जानते हों। कहा जाता है कि महाभारत के समय द्रोपदी ने कुत्तों को दिया था।

नई दिल्ली: हम सभी ने अक्सर देखा है कि कुत्ते आपस में चिपक जाते हैं और बहुत मुश्किल से छूट पाते हैं, लेकिन संभोग के दौरान कुत्तों के चिपकने की वजह एक श्राप है। इस बारे में शायद ही लोग जानते हों। कहा जाता है कि महाभारत के समय द्रोपदी ने कुत्तों को दिया था। आज आपको इस श्राप के पीछे की कहानी के बारे में बताते हैं।

द्रौपदी 5 पांडव पतियों की साझी पत्नी थी। द्रौपदी संग अंतरंग समय बिताने के लिए पांडव ने एक गजब का तरीका खोज निकाला था, जिससे कि उन्हें एक दूसरे से उलझन न हो।

यह भी पढ़ें…अनुच्छेद 370: कश्मीर के लिए आज बड़ा दिन, SC में 8 याचिकाओं पर अहम सुनवाई

पांडवों ने यह तय किया कि जब भी कोई भाई द्रौपदी के कमरे में दाखिल हो, तो वह दरवाजे पर ही अपनी जूतियां उतार दे, ताकि बाकी लोगों को भी यह पता चल जाए कि द्रौपदी अकेली नहीं है।

एक दिन एक भाई बाहर दरवाजे पर अपनी जूतियां उतारकर तो भीतर चला गया। मगर वहां से गुजर रहा एक कुत्ता खेल-खेल में वहां रखी जूतियां उठाकर ले गया।

यह भी पढ़ें…सऊदी अरब के तेल कुओं पर अटैक, 100 साल में पहली बार खड़ा हुआ ये बड़ा संकट

ठीक उसी वक्त दूसरा पांडव भाई, जो द्रौपदी संग वक्त बिताना चाहता था, यह देखकर कि दरवाजे पर कोई जूती नहीं है, यह मान बैठा कि वह अकेली हैं। जिसकी एक शर्मनाक स्थिति बन गई। इससे द्रौपदी नाराज हो गईं।

द्रौपदी को एहसास हुआ कि यह सब एक कुत्ते की वजह से हुआ है, जिसकी वजह से उसे बेहद शर्मिंदगी झेलनी पड़ी और तब जाकर उसने सभी कुत्तों को श्राप दिया कि वे भी उसी की तरह शर्म का सामना करेंगे जैसे द्रोपदी को करना पड़ा। तब से संभोग के बाद कुत्ते एक दूसरे से जुड़े रहते है।