अगर आपके साथ भी ऐसा हो रहा है तो हो जाएं सतर्क

दोस्तों आज हम बात करते हैं भूत प्रेतों की। भूतों से बच्चे से लेकर बड़े – बूढ़े तक सब भयभीत रहते हैं। एक अनजाना सा भय सब पर हावी रहता है।

लखनऊ: दोस्तों आज हम बात करते हैं भूत प्रेतों की। भूतों से बच्चे से लेकर बड़े बूढ़े तक सब भयभीत रहते हैं। एक अनजाना सा भय सब पर हावी रहता है।

इसीलिए हम जीते जागते इंसान से उतना भयभीत नहीं होते लेकिन अगर किसी की मृत्यु हो जाए और उसके शव के पास अकेले बैठना पड़े तो घबड़ाहट सी होने लगती है।

अगर किसी को बहुत बड़े घर में एकाकी रहना पड़े तो भी उसे घबड़ाहट हो सकती है। लेकिन आपको शायद इसकी जानकारी न हो कि कुछ घर भी प्रेत बाधित होते हैं।

ये भी पढ़ें…सावधान! फ्रिज में न रखें गुंथा हुआ आटा, वरना घर पर हो जायेंगा भूतों का बसेरा!

घर में कई कारणों से नकारात्मक शक्तियों का वास

इस संबंध में कहा जाता है कि फलां घर में नकारात्मक शक्तियों का वास है। घर में नकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह शुरू होने के कई कारण हो सकते हैं।

इसीलिए ऐसे घरों को भूतावेशित घर, प्रेतबाधा ग्रसित घर कहा जाता है। कई बार ऐसे घर वास्तु पूजन या आध्यात्मिक शुद्धि से ठीक हो जाते हैं तो कई बार ठीक नहीं हो पाते हैं।

किसी घर निवास करने वाली ये शक्तियां या घर में रहने वालों के मृत पूर्वज घर में रहनेवालों को निरंतर कष्ट देते रहते हैं। इसके लिए यह आवश्यक है कि हम ऐसे घर के लक्षणों को पहचान सकें जिससे समस्या को समाप्त करने का उपाय किया जा सके।

ऐसे घरों की पहचान अत्यंत सात्विक संत जिसकी छठी इंद्रिय जागृत हो कर सकता है। मोटे तौर पर भूतबाधा ग्रसित घर की पहचान के लिए हम यहां कुछ लक्षण दे रहे हैं। जिसके आधार पर आप जान सकते हैं कि आपके घर में कुछ है या नहीं।

ये भी पढ़ें…ये 10 बाबा थे ‘हवस के पुजारी’, अपनी वासना को बुझाने के लिए धर्म को बनाया हथियार

कैसे जानें घर सही है या नहीं

घर से वस्तुओं का अचानक गायब हो जाना और पुनः मिल जाना, घर में ऐसी वस्तुओं का आ जाना जिन्हें आप लाए ही नहीं।

घर की दीवारों पर अनजाने खरोंच के निशान या आकृतियों का उभरना। अलमारियों अथवा दीवारों पर भयानक चेहरों का उभर आना।

शांत घर में आहटें भुनभुनाहट अस्पष्ट बातचीत की ध्वनि या चीख सुनाई देना अथवा दरवाजों का अपने आप खुलना और बंद हो जाना, ऐसा लगे जैसे कोई किसी को मार रहा है। या किसी के हंसने की आवाज आए।

अचानक कमरे का तापमान बढ़ने लगे या फिर अचानक से ठंडा हो जाए। बिना किसी कारण के बत्तियां अथवा बिजली के उपकरण बिना तार छुए जलने-बंद होने लगें।

ये भी पढ़ें…कुंभ 2019: नागा सन्यासी बनना एक ईश्वरीय वरदान है, जो जन्म से प्राप्त होता है

सात्त्विक पौधों का अचानक से मुरझा जाना संकेत

सात्त्विक पौधों जैसे तुलसी का मुरझा जाना, कुत्ते अथवा बिल्ली का रोना अथवा अकारण भौंकना, अकारण पालतू जानवर जैसे बिल्ली का मर जाना, कीडे-मकोडों जैसे खटमल, लाल चीटियां, तिलचट्टे अथवा चूहों का अनायास बढ़ जाना। धार्मिक चिह्नों जैसे क्रॉस अथवा ॐ का घर में उभरना

घर में अकारण अशांति तथा शत्रुता उत्पन्न होना, घर में अकारण बार बार रोग अथवा अन्य समस्याएं होना, घर में लगातार मृत्यु होना, किसी की उपस्थिति का अहसास होना।

कपडों, वस्तुओं अथवा फर्श पर अकारणरक्त के धब्बे दिखना। अगर आपके साथ बार बार ऐसा हो रहा है तो सतर्क हो जाइए। किसी जानकार से संपर्क करिये।