भैया Please! मेरी बहन ने बहुत ज्यादा शराब पी ली है, हमारी मदद कर दें…

रात में दस बजे से ज्यादा का वक्त हो चला था। लड़के ने इस पर ध्यान भी नहीं दिया था कि ऑटो में कौन बैठा है। ऑटो चले अभी थोड़ी देर ही हुई थी कि उस लड़के के बगल में बैठी लड़की ऑटोवाले से बोली भैया डालीगंज हो कर चलना। ऑटो वाले ने कहा मेरा रूट उधर से नहीं है।

भैया Please! मेरी बहन ने बहुत ज्यादा शराब पी ली है, हमारी मदद कर दें...

भैया Please! मेरी बहन ने बहुत ज्यादा शराब पी ली है, हमारी मदद कर दें...

पंडित रामकृष्ण वाजपेयी

लखनऊ : भैया मेरी बहन ने बहुत ज्यादा शराब पी ली है आप हमारी मदद कर दें। यह शब्द उस बहन के हैं जो अपनी बहन के साथ एक पार्टी से लौट रही थी। और वापसी में केसरबाग के पास से एक ऑटो में बैठकर घर के लिए जा रही थी, तभी परिवर्तन चौक के पास एक लड़का ऑटो में सवार होता है जिसे त्रिवेणीनगर जाना है।

यह भी देखें… एकाकी महिला, रात का सफर… घात में हैं भेड़िये

भैया Please! मेरी बहन ने बहुत ज्यादा शराब पी ली है, हमारी मदद कर दें...

लड़के से ऐसे व्यवहार करने लगी लड़की

रात में दस बजे से ज्यादा का वक्त हो चला था। लड़के ने इस पर ध्यान भी नहीं दिया था कि ऑटो में कौन बैठा है। ऑटो चले अभी थोड़ी देर ही हुई थी कि उस लड़के के बगल में बैठी लड़की ऑटोवाले से बोली भैया डालीगंज हो कर चलना। ऑटो वाले ने कहा मेरा रूट उधर से नहीं है। मै नहीं जाऊंगा लेकिन लड़की जब जिद करने लगी तो उसने कहा आप तीन लोग ही ऑटो में हैं अगर भाई साहब को आपत्ति न हो तो चल सकता हूं लेकिन आपको किराया ज्यादा पड़ेगा।

लड़का इन दोनों की बातचीत से अलग अभी भी अपनी किसी सोच में डूबा था। तभी उस लड़की ने लड़के की बांह पकड़कर कहा भैया आप हम पर एक अहसान कर दें हमें घर तक छोड़ दें। अब चौंकने की बारी लड़के की थी उसने लड़की को गौर से देखा कहा क्या मतलब मै आपको छोड़ने क्यों जाऊंगा।

भैया आप नहीं समझ रहे हैं हमारी मजबूरी

लड़की लड़के से चिपटते हुए गिड़गिड़ाने सा लगी बोली भैया आप नहीं समझ रहे हैं हमारी मजबूरी। आप हमें घर तक छोड़ दीजिए। फिर चले जाइएगा। लड़के ने कहा क्यों क्या बात है। आप घर से किसी को बुला लें और चली जाएं। और आप थोड़ा दूर होकर बैठें।

लेकिन लड़की पर उसका कोई असर ही नहीं पड़ा। वह और चिपटते हुए कान के पास मुंह लाकर बोली दरअसल मेरी बहन ने बहुत ज्यादा पी ली है और मै उसको संभाल नहीं पा रही हूं।

भैया Please! मेरी बहन ने बहुत ज्यादा शराब पी ली है, हमारी मदद कर दें...

यह भी देखें… नहीं मिल रहीं भक्तों को खिलाने के लिए देवी स्वरूपा कन्याएं

पापा को पता चला तो बहुत मारेंगे

अब उस लड़के ने दूसरी लड़की को देखा जो लगभग निढाल से बैठी थी। लड़के ने कहा देखिये मुझे जरूरी काम से जाना है मै नहीं जा पाऊंगा आप घर तक ऑटो लिए जाएं। लड़की अनिश्चितता में बड़बड़ाते हुए बोली आप नहीं समझ रहे हैं घर में पापा को पता चला तो बहुत मारेंगे। अब साथ बैठी लड़की ने भी दोहराया हां दीदी पापा बहुत मारेंगे।

लड़के का दिमाग काम नहीं कर रहा था। वह इस नई मुसीबत से बाहर निकलने का रास्ता तलाश रहा था क्योंकि उसे यह चिंता सता रही थी कि इसके घर पहुंचने पर ये क्या हल्ला मचा दे क्या कह दे। और एक नई मुसीबत खड़ी हो जाए।

भैया Please! मेरी बहन ने बहुत ज्यादा शराब पी ली है, हमारी मदद कर दें...

लड़के ने कहा- रोको रोको रोको

इसी ऊहापोह में ऑटो जैसे ही आईटी चौराहे पर पहुंची लड़के ने कहा रोको रोको रोको। अरे मै अपना लैपटॉप तो होटल में ही भूल आया रोको रोको मुझे जल्दी लौटना होगा। ऑटो रुकते ही वह किसी तरह वहां से निकला।

ये घटना बदलते लखनऊ की एकबानगी मात्र है जहां लड़किया आज कल खुले आम सिगरेट पी रही हैं। बीयर का चलन चाय की जगह आम हो चला है। दोस्तों की कंपनी में दारू कम या ज्यादा हो जाना आम है। ऐसे में अभिभावकों की जिम्मेदारी बनती है कि वह बच्चों की गतिविधियों पर सतर्क निगाह रखें। क्योंकि हादसे बताकर नहीं हुआ करते हैं।

यह भी देखें… भौकाली नाई! करोड़ों की रखते हैं कारें, अंबानी जैसी इनकी लाइफ