इस स्थिति के लिए ममता स्वयं जिम्मेदार

भाजपा के किसी नेता ने इस मर्यादा का उल्लंघन नहीं किया। लेकिन कुछ तो है जो ममता बनर्जी को देख कर लोग जय श्री राम कहने लगते हैं। यह सब स्वतः स्फूर्त होता है। ऐसा लगता है कि ममता बनर्जी को चिढ़ाने में बड़ी संख्या में आमजन को आनन्द मिलता है।

Published by डॉ दिलीप अग्निहोत्री Published: January 24, 2021 | 7:39 pm
Mamta Banerjee

ममता बनर्जी (फोटो: सोशल मीडिया)

Dr Dilip Aginhotri

डॉ दिलीप अग्निहोत्री

विगत छह वर्षों में नरेंद्र मोदी ने सरकारी समारोहों में अनेक गैर भाजपा मुख्यमंत्रियों के साथ मंच साझा किए हैं। ममता बनर्जी के सामने जय श्रीराम की गूंज कोई नई बात नहीं है। पिछले कई साल से अनगिनत बार उन्हें ऐसी स्थिति का सामना करना पड़ा। वह जितना चिढ़ती है, विरोधी उन्हें उतना ही चिढ़ाते हैं। ऐसा करने वाले इसका संकट भी जानते हैं। उन्हें राज्य की पुलिस व तृणमूल कार्यकर्ताओं के हांथो प्रताड़ित होना पड़ता है।

ब्रिटिश काल में वंदेमातरम बोलने पर भी सजा मिलती थी। फिर भी लोग इसका उद्घोष करते थे। कुछ ऐसा ही नजर पश्चिम बंगाल में देखने को मिल रहा है। नेता जी सुभाष जयंती पर कोलकत्ता में आयोजित समारोह में भी यही हुआ। यहां मुख्यमंत्री ममता बनर्जी जय श्री राम और भारत माता की जय के उद्घोष से क्रोधित हुईं। उन्होंने भाषण नहीं दिया। कार्यक्रम केंद्र सरकार का था।

भाजपा के किसी नेता ने इस मर्यादा का उल्लंघन नहीं किया। लेकिन कुछ तो है जो ममता बनर्जी को देख कर लोग जय श्री राम कहने लगते हैं। यह सब स्वतः स्फूर्त होता है। ऐसा लगता है कि ममता बनर्जी को चिढ़ाने में बड़ी संख्या में आमजन को आनन्द मिलता है। वस्तुतः इसके लिए ममता बनर्जी स्वयं जिम्मेदार है। उन्होंने तुष्टिकरण को इतना प्रश्रय दिया कि उसकी प्रतिक्रिया होनी ही थी। इस समय पश्चिम बंगाल में यही हो रहा है।

ये भी पढ़ें…खुशहाल बालिका भविष्य देश का

ममता बनर्जी ने यह मान लिया था कि तुष्टिकरण मात्र से वह भी वामपंथियों की तरह लंबे समय तक सत्ता में काबिज रह सकती है। लेकिन उन्होंने बदली हुई परिस्थियों पर विचार नहीं किया। उस समय इस प्रदेश में भाजपा लगभग नदारत थी। कांग्रेस और वामपंथियों के विचार में विशेष अंतर नहीं था। अब भाजपा वहां सत्ता पक्ष के मुकाबले में सबसे आगे है। इससे उन बहुसंख्यकों का विश्वास बढ़ा जो तुष्टिकरण से परेशान थे। अवैध घुसपैठियों से यहां समीकरण बदल रहे थे।

ये भी पढ़ें…किसानों को यों मनाएँ

राज्य सरकारें अवैध घुसपैठ को संरक्षण संवर्धन दे रही थी। कुछ समय से ममता बनर्जी भी दुर्गा पूजा विवेकानन्द के हिन्दुतत्व की बात करने लगी हैं। मतलब साफ है। वह भाजपा के बढ़ते प्रभाव से परेशान हैं। लेकिन चुनाव के कुछ समय पहले के इस बदलाव पर लोगों का विश्वास नहीं है। इसलिए ममता बनर्जी के सामने जय श्री राम के नारे लगते हैं। विक्‍टोरिया मेमोरियल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का सन्देश पूरे पश्चिम बंगाल में गूंजा। इस समारोह में आजाद हिंद फौज के जंवाज, उनके परिजन भी सम्मलित थे। नेताजी सुभाषचंद्र बोस की एक सौ पच्चीसवीं जयंती को केंद्र सरकार पराक्रम दिवस के रूप में मनाने का निर्णय किया था। इसी संदर्भ में नरेन्द्र मोदी कोलकत्ता गए थे।

ये भी पढ़ें…शक्ति के साथ शांति का संदेश देता भारत

नरेंद्र मोदी ने कहा कि हम सब का कर्तव्य है कि नेताजी के योगदान को पीढ़ी दर पीढ़ी याद किया जाए। इसलिए देश ने तय किया है कि नेताजी की एक सौ पच्चीसनवीं जयंती के वर्ष को ऐतिहासिक अभूतपूर्व भव्य आयोजनों के साथ मनाएंगे। देश ने ये तय किया है कि अब हर साल हम नेताजी की जयंती को पराक्रम दिवस के रूप में मनाया करेंगे।

दोस्तों देश दुनिया की और  को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App