कौन हैं अदिति सिंह, जिसे कांग्रेस ने किया निलंबित, कब और कैसे आई थीं चर्चा में

कांग्रेस ने विधायक अदिति सिंह को पार्टी की महिला विंग के महासचिव पद से निलंबित कर दिया गया है। साथ ही उनके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई शुरू कर दी है।

Published by Aditya Mishra Published: May 21, 2020 | 11:31 am
Modified: May 21, 2020 | 11:33 am

लखनऊ: कांग्रेस ने विधायक अदिति सिंह को पार्टी की महिला विंग के महासचिव पद से निलंबित कर दिया गया है। साथ ही उनके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई शुरू कर दी है।

यूपी की रायबरेली से कांग्रेस की विधायक अदिति सिंह ने बसों के मुद्दे पर भाजपा की लाइन लेते हुए बुधवार को अपनी ही पार्टी पर निशाना साधा था।

कांग्रेस विधायक ने कहा, “कोटा में जब हजारों बच्चे फंस गए तब राजस्थान सरकार उन्हें सीमाओं तक नहीं छोड़ सकती थी। तब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बच्चों को घर पहुँचने की सुविधा दी।

अदिति सिंह ने अपनी ही पार्टी पर सवाल उठाते हुए कहा कि ऐसे समय निम्न स्तर की राजनीति की क्या आवश्यकता थी? 1,000 बसों की सूची दी।

उनमें से आधे नकली या कबाड़ थीं। यह क्रूर मजाक क्यों? यदि आपके पास बसें थी तो आपने उन्हें राजस्थान, मध्यप्रदेश और महाराष्ट्र क्यों नहीं भेजा। वहीं, सूत्रों के अनुसार, कांग्रेस का गढ़ रही रायबरेली संसदीय सीट के लिए भाजपा अदिति सिंह को तैयार कर रही है।

शादी के बाद जाएगी अदिति सिंह की विधायकी! जानें क्या है वजह

अदिति के खिलाफ पहले भी उठ चुकी है कार्रवाई की मांग

कांग्रेस सचिव और रायबरेली प्रभारी के एल शर्मा ने के मुताबिक पिछले साल पार्टी व्हिप का उल्लंघन करने के लिए विधानसभा में अदिति सिंह के खिलाफ एक नोटिस दिया गया था अभी तक जो लंबित है।

अदिति सिंह के ट्वीट पर प्रतिक्रिंया देते हुए उन्होंने कहा, “वह जवाब देने से बच रही है और अध्यक्ष भी कार्रवाई नहीं कर रहे हैं।” पार्टी ने उनके विधायक पद से अयोग्य घोषित करने का भी अनुरोध किया है।

कांग्रेस ने अदिति सिंह को जारी किया कारण बताओ नोटिस, ये है पूरा मामला

कौन है अदिति सिंह

सदर विधानसभा क्षेत्र से लगातार पांच बार विधायक रहे अखिलेश सिंह ने अपने जीवन में ही बेटी अदिति सिंह को विरासत सौंपकर विधायक बनवा दिया।

बेटी की भविष्य की चिंता उन्हें सता रही थी। इसीलिए निधन से कुछ समय पहले ही उन्होंने बेटी की सगाई पंजाब में कांग्रेस विधायक अंगद सैनी के साथ कर दी थी। हालांकि यह बात अखिलेश सिंह के निधन के बाद सार्वजनिक हुई। शादी की सभी रस्में दिल्ली के एक होटल में हुईं थी।

बता दें कि अदिति की तरह ही अंगद भी पहली बार वर्ष 2017 में पंजाब विधानसभा के लिए चुने गए। वे पंजाब के शहीद भगत सिंह नगर से विधायक हैं। विधायक अंगद सिंह स्वर्गीय दिलबाग सिंह के परिवार से हैं। दिलबाग सिंह नवांशहर सीट से छह बार विधायक रहे थे।

कांग्रेस विधायक अदिति सिंह ने दिखाए बगावती तेवर, बीजेपी में जाने के दिये संकेत