Top

बाबूलाल मरांडी को सर्वसम्मति से चुना गया भाजपा विधायक दल का नेता

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के विधायकों ने आज बाबूलाल मरांडी को विधायक दल का नेता और झारखंड विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष चुना है। इसके लिए उन्होंने अपनी पार्टी को धन्यवाद कहा है।

Aditya Mishra

Aditya MishraBy Aditya Mishra

Published on 24 Feb 2020 3:02 PM GMT

बाबूलाल मरांडी को सर्वसम्मति से चुना गया भाजपा विधायक दल का नेता
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

रांची: भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के विधायकों ने आज बाबूलाल मरांडी को विधायक दल का नेता और झारखंड विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष चुना है। इसके लिए उन्होंने अपनी पार्टी को धन्यवाद कहा है।

हाल ही में उन्होंने अपनी पार्टी का बीजेपी में विलय किया था। इसके बाद से ही कयास लाए जा रहे थे कि उन्हें कुछ अहम पद दिया जा सकता है। इसके लिए पार्टी ने ओम माथुर और मुरलीधर राव को पर्यवेक्षक बनाकर भेजा था।

अपने ट्वीट में मरांडी ने लिखा, 'भारतीय जनता पार्टी, झारखंड प्रदेश का विधायक दल का नेता एवं नेता प्रतिपक्ष बनाने के लिए पार्टी को धन्यवाद। इस पद पर रहकर झारखंड प्रदेश के लिए अपने कर्तव्यों का पालन करूंगा और पार्टी को मजबूत बनाने के लिए कार्यरत रहूंगा। जय हिंद!'

ये भी पढ़ें...Newstrack की खबर पर लगी मुहर, BJP में शामिल हुए बाबूलाल मरांडी



माओवादियों ने चुनाव से न हटने पर जान से मारने की धमकी दी-बाबूलाल मरांडी

बीते 17 फरवरी को बाबूला मरांडी की पार्टी झारखंड विकास मोर्चा (झाविमो) का बीजेपी में विलय हुआ था। बीजेपी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की मौजूदगी में झाविमो के प्रमुख बाबूलाल मरांडी भाजपा में शामिल हुए।

झारखंड के पहले मुख्यमंत्री हैं बाबूलाल मरांडी

बाबूलाल मरांडी झारंखड के पहले मुख्यमंत्री हैं। लगभग 14 साल बाद बीजेपी में उनकी वापसी हुई। बाबूलाल की घर वापसी के बाद झारखंड में बीजेपी की सियासत में आमूल-चूल बदलाव होने के संकेत मिल रहे थे।

राज्य में एक अदद आदिवासी चेहरे की तलाश कर रही बीजेपी को बाबूलाल मरांडी के रूप में पुन: ऐसा नेता मिल गया है, जिसकी जड़ें संघ से जुड़ी हैं। मरांडी झारखंड की राजनीति का जाना-माना नाम है। पार्टी ने इन्हीं कारणों से उन्हें नेता प्रतिपक्ष बनाया है।

मरांडी में आदिवासी क्षेत्र में चुनाव लड़ने की हिम्मत नहीं : मुख्यमंत्री रघुवर दास

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story