Top

बीजेपी में आने को तैयार बाबूलाल मरांड़ी, इस डेट को होगी वापसी

बाबूलाल मरांडी की बीजेपी में वापसी के साथ रघुवरदास को केंद्रीय राजनीति में भी बुलाए जाने की भी जानकारी सामने आ रही है। बता दें कि साल 2000 में जब बिहार से अलग होकर झारखंड राज्य बनाया गया था, उस समय बाबूलाल मरांडी भाजपा के दिग्गज नेता माने जाते थे और प्रदेश के पहले मुख्यमंत्री बने थे।

Shivakant Shukla

Shivakant ShuklaBy Shivakant Shukla

Published on 10 Feb 2020 6:20 AM GMT

बीजेपी में आने को तैयार बाबूलाल मरांड़ी, इस डेट को होगी वापसी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: झारखंड में पिछले काफी दिनों से सियासी उठापटक के बाद रविवार को झारखंड विकास मोर्चा के अध्यक्ष बाबू लाल मरांडी ने बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा और झारखंड के चुनाव प्रभारी ओम प्रकाश माथुर के साथ मुलाकात की। इसके बाद अब आखिरकार साफ हो गया कि बाबूलाल मरांडी की बीजेपी में वापसी होगी।

मिली जानकारी के मुताबिक 17 फरवरी को झारखंड विकास मोर्चा का बीजेपी में विलय होगा। यही नहीं बाबूलाल मरांडी को झारखंड में कोई बड़ी और महत्वपूर्ण जिम्मेदारी दी जा सकती है। बताते चलें कि पिछले दिनों विधानसभा चुनावों में झारखंड विकास मोर्चा को तीन सीटों पर जीत मिली थी, दो विधायक प्रदीप यादव और बंधु टर्की को निकाल दिया गया है। इन दोनों विधायकों ने हेमंत सोरेन को समर्थन दिया था।

ये भी पढ़ें—कोरोना का कहर: एक दिन में 97 लोगों की मौत, भारत ने चीन के टूरिस्ट को भेजा वापस

बाबूलाल मरांडी की बीजेपी में वापसी के साथ रघुवरदास को केंद्रीय राजनीति में भी बुलाए जाने की भी जानकारी सामने आ रही है। बता दें कि साल 2000 में जब बिहार से अलग होकर झारखंड राज्य बनाया गया था, उस समय बाबूलाल मरांडी भाजपा के दिग्गज नेता माने जाते थे और प्रदेश के पहले मुख्यमंत्री बने थे।

आदिवासियों को भाजपा से जोड़ेंगे मरांडी

मरांडी की रणनीति देश भर में दौरे करके आदिवासियों को भाजपा से जोडऩे की है। यही नहीं, भारतीय जनता पार्टी के लिए पश्चिम बंगाल चुनाव के मददेनजर मरांडी की जरूरत सरकार से अधिक पार्टी में है। उन्हें पश्चिम बंगाल चुनाव की कमान भी दी जाएगी।

झांरखंड और पश्चिम बंगाल की लम्बी सीमा एक-दूसरे से मिलती है। ऐसे में बाबूलाल मरांडी अपने दौरों से झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी दोनों के लिए परेशानी का सबब बन सकते हैं। मरांडी फिलहाल देश से बाहर हैं। 14 जनवरी को स्वदेश लौटने के बाद उनकी पार्टी और भाजपा में विलय का औपचारिक एलान कर दिया जाएगा।

ये भी पढ़ें—5G लाने की तैयारी में रियलमी, ‘So Good’ टाइटल का किया इस्तेमाल, जानिए क्यों

Shivakant Shukla

Shivakant Shukla

Next Story