चौथी बार मुख्यमंत्री बनने के बाद शिवराज ने सिंधिया और कांग्रेस के बागियों को कहा शुक्रिया

शिवराज सिंह चौहान ने मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद बीजेपी में शामिल होने वाले कांग्रेस के बागी विधायकों का खास तौर पर शुक्रिया अदा किया।

भोपाल: शिवराज सिंह चौहान ने मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद बीजेपी में शामिल होने वाले कांग्रेस के बागी विधायकों का खास तौर पर शुक्रिया अदा किया। इतना ही नहीं, उन्होंने कांग्रेस छोड़कर बीजेपी का दामन थामने वाले इन 22 पूर्व विधायकों को भरोसा दिलाया कि वह उनका विश्वास कभी टूटने नहीं देंगे।

दरअसल, कांग्रेस के दिग्गज नेता रहे ज्योतिरादित्य सिंधिया की बीजेपी में शामिल और 22 बागियों के चलते ही एमपी की सत्ता एक बार फिर शिवराज की वापसी हुई है।

आपका बता दें कि न्यूजट्रैक वेबसाइट और अपना भारत अखबार ने पहले बता दिया था कि मध्य प्रदेश में कमलनाथ की सरकार गिर जाएगी और शिवराज मुख्यमंत्री बनेंगे।

यह भी पढ़ें…सिंधिया नहीं माने तो कमलनाथ सरकार गई, शिवराज होंगे मुख्यमंत्री

सीएम पद की शपथ लेने के बाद शिवराज ने ट्वीट कर कहा कि जिन 22 पूर्व विधायकों ने अपनी पार्टी की सदस्यता त्याग कर बीजेपी की सदस्यता ग्रहण की है, मैं उन साथियों के प्रति आभार प्रकट करता हूं और उन्हें धन्यवाद देता हूं। मैं उन्हें आश्वस्त करता हूं कि उनकी उम्मीदों पर खरा उतरूंगा और उनके विश्वास को कभी टूटने नहीं दूंगा।

यह भी पढ़ें…कांग्रेस से जंग जीतने के बाद भाजपा के भीतर छिड़ी ये बड़ी जंग

शिवराज सिंह चौहान ने शपथ के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया भी शुक्रिया अदा किया। उन्होंने कहा कि वह सिंधिया के साथ मिलकर एमपी के विकास के लिए काम करते रहेंगे। सिंधिया पहले ही कांग्रेस के साथ बगावत में अपना साथ देने वाले सभी 22 पूर्व विधायकों को उपचुनाव में बीजेपी का टिकट दिलाने का वादा कर चुके हैं।

यह भी पढ़ें…यहां न ICU, ना ही वेंटिलेटर आखिर कोरोना से कैसे लड़ेंगे जंग…

चौथी बार मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने वाले शिवराज ने आगे कहा कि उनकी पहली प्राथमिकता कोरोना वायरस से मुकाबला है बाकी सब बाद में। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें एमपी के मुख्यमंत्री की शपथ लेने के लिए बधाई दी। प्रधानमंत्री ने ट्वीट कर उन्हें एक अनुभवी प्रशासक और राज्य के विकास के लिए बेहद जुनूनी बताया।

चौहान ने सोमवार रात को भोपाल में मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। राज्यपाल लालजी टंडन ने उन्हें पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई।