Top

भाजपा ऐसी पार्टी है, जो कोरोना के संकट में भी राजनीति में लगी हुई है: शिवसेना

कोरोना वायरस ने भारत में सबसे ज्यादा नुकसान मुंबई शहर को पहुंचाया है। इसे लेकर सियासत भी खूब हो रही है। राजनीतिक दल एक दूसरे को घेरने का कोई भी मौक़ा हाथ से गंवाना नहीं चाहते।

Aditya Mishra

Aditya MishraBy Aditya Mishra

Published on 11 Jun 2020 5:32 AM GMT

भाजपा ऐसी पार्टी है, जो कोरोना के संकट में भी राजनीति में लगी हुई है: शिवसेना
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

मुंबई: कोरोना वायरस ने भारत में सबसे ज्यादा नुकसान मुंबई शहर को पहुंचाया है। इसे लेकर सियासत भी खूब हो रही है। राजनीतिक दल एक दूसरे को घेरने का कोई भी मौक़ा हाथ से गंवाना नहीं चाहते।

कोरोना के बढ़ते केस और इसकी वजह से हो रही मौतों को लेकर कुछ दिनों पहले बीजेपी ने राज्य सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया था। शिवसेना नेता और मंत्री आदित्य ठाकरे ने अब बीजेपी पर पलटवार किया है।

बीजेपी और देवेंद्र फडणवीस पर हमला बोलते हुए कहा कि दुनिया में भाजपा ही ऐसी पार्टी है, जो कोरोना के संकट में भी राजनीति में लगी हुई है। साथ ही उन्होंने कहा कि लॉकडाउन या अनलॉक किसी प्लानिंग के तहत ही होना चाहिए।

दिल्ली में कोरोना संकट से हालात बिगड़े, फिर लिया जा सकता है ये सख्त फैसला

सैकड़ों का इलाज करने वाले झोलाछाप डॉक्टर को हुआ कोरोना, मचा हड़कंप

हमारी सरकार कोरोना के खिलाफ मजबूती से जंग लड़ रही: शिवसेना

एक इंटरव्यू में आदित्य ठाकरे ने कहा कि हमारी सरकार पूरी मजबूती के साथ कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रही है, सीएम के साथ मिलकर हर मंत्री अपनी ओर से पूरी कोशिश कर रहा है।

उन्होंने आगे कहा कि सोशल मीडिया और मीडिया में सियासी जंग दिख रही है, लेकिन हम इस चक्कर में नहीं पड़े हैं और कोरोना के खिलाफ लड़ाई को बनाये रखा है।

आदित्य यहीं नहीं रुके बल्कि एक बार फिर लॉकडाउन और अनलॉक को लेकर सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन को चार घंटे के नोटिस पर नहीं किया जा सकता, लॉकडाउन को प्लान करना जरूरी है। हमने इसकी काफी पहले तैयारी शुरू की थी। जब हम सरकार में आए तो हमारा लक्ष्य राज्य में विकास करने का था, लेकिन इस बीच कोरोना संकट आ गया।

जबकि अनलॉक 1 पर आदित्य ने कहा कि जिंदगी और काम को लेकर बैलेंसिंग जरूरी है, लेकिन लॉकडाउन को खोलने में काफी ध्यान रखना पड़ेगा। क्योंकि किसी को पता नहीं है कि खुलने के बाद किस तरह की प्रतिक्रिया देखने को मिलेगी, इसलिए खोलने से ज्यादा जरूरी लोगों की जान बचाना है।

देश भर में कोरोना के 276,583 मरीज, अब तक 135,206 हुए ठीक, 7,745 की मौत

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story