×

झारखंड की हेमंत सरकार में दरार, दिल्ली पहुंचे कांग्रेस MLA, महागठबंधन में हड़कंप

झारखंड की महागठबंधन सरकार में दरार पड़ती दिखाई दे रही है। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के नेतृत्व में चल रही गठबंधन सरकार से कांग्रेस के 9 विधायक नाराज हैं।

Newstrack
Updated on: 30 July 2020 4:03 AM GMT
झारखंड की हेमंत सरकार में दरार, दिल्ली पहुंचे कांग्रेस MLA, महागठबंधन में हड़कंप
X
Hemant Soren
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

नई दिल्ली: झारखंड की महागठबंधन सरकार में दरार पड़ती दिखाई दे रही है। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के नेतृत्व में चल रही गठबंधन सरकार से कांग्रेस के 9 विधायक नाराज हैं। इनमें से तीन विधायक केंद्रीय नेतृत्व के सामने अपनी बात रखने के लिए दिल्ली भी पहुंच गए हैं।

कांग्रेस के नाराज 9 विधायकों में फिलहाल तीन विधायक इरफान अंसारी, उमाशंकर अकेला और राजेश कच्छप ही मुख्य रूप से सामने आए हैं। ये तीनों विधायक राज्यसभा सांसद धीरज प्रसाद साहू की अगुवाई में दिल्ली पहुंचे हैं और दो दिनों से दिल्ली में ही हैं।

पार्टी के प्रदेश प्रभारी से भी विधायक नाराज

कांग्रेस विधायक हेमंत सरकार के कामकाज के अलावा पार्टी के प्रदेश प्रभारी आरपी सिंह से भी नाराज हैं। इन विधायकों को लगता है कि कांग्रेस प्रभारी ही सरकार और मंत्रियों पर दबाव बनाने की उनकी हर कोशिश को विफल कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें...कोरोना पर भारत के लिए अच्छी खबर: 10 लाख संक्रमित मरीज हो गए ठीक

दिल्ली गए इन नाराज विधायकों ने कांग्रेस प्रभारी से मुलाकात करने की जगह पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव केसी वेणुगोपाल और वरिष्ठ नेता अहमद पटेल से मुलाकात की। ये विधायक चाहते हैं कि वो सोनिया गांधी और राहुल गांधी से भी मिलकर अपनी बात रख सकें। लेकिन कोरोना संक्रमण काल के दौरान अभी इन विधायकों की पार्टी के अन्य वरिष्ठ नेताओं से मुलाकात संभव नहीं हो पाई है।

यह भी पढ़ें...कांग्रेस को झटका: पार्टी के इस दिग्गज नेता का हुआ निधन, मचा हड़कंप

एक मीडिया रिपोर्ट में प्रदेश कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता के हवाले से कहा गया है कि पार्टी के कुछ विधायकों ने अपनी नाराजगी से पूर्व में ही सरकार को अवगत करा दिया। इन विधायकों ने कहा कि वे सरकार में शामिल हैं, लेकिन क्षेत्र में चल रहे विकास योजनाओं में उनके सुझाव की अनदेखी की जा रही है।

यह भी पढ़ें...राजस्थान सियासी संकट की गुत्थी और उलझी, राज्यपाल ने बढ़ाईं गहलोत की मुसीबतें

कुछ विधायक इस बात से नाराज हैं कि जिले-प्रखंडों में उपायुक्त, पुलिस अधीक्षक, अनुमंडल पदाधिकारी, प्रखंड विकास पदाधिकारी समेत अन्य अधिकारियों की नियुक्ति में उनकी पैरवी भी को भी दरकिनार कर दिया जा रहा है।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story