Top

महबूबा मुफ्ती और उमर अब्दुल्ला के बाद अब इस राजनेता को किया नजरबंद

राज्यसभा में गृह मंत्री अमित शाह ने जवाब देते हुए कहा कि, ‘मैं आज सदन के सामने जम्मू कश्मीर को लेकर ऐतिहासिक संकल्प और बिल लेकर उपस्थित हुआ हूं। मैं सदन के सामने स्पष्ट करना चाहता हूं कि जम्मू कश्मीर में एक लंबे रक्तपात भरे युग का अंत धारा 370 हटने के बाद होने जा रहा है।’

Manali Rastogi

Manali RastogiBy Manali Rastogi

Published on 8 Aug 2019 4:08 AM GMT

महबूबा मुफ्ती और उमर अब्दुल्ला के बाद अब इस राजनेता को किया नजरबंद
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

जम्मू: जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने के बाद अब केंद्र सरकार ने एक बार फिर स्थानीय नेताओं को नजरबंद कर दिया है। मालूम हो, रविवार को आर्टिकल 370 हटाने से पहले केंद्र की मोदी सरकार द्वारा पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती और उमर अब्दुल्ला को नजरबंद कर दिया गया था। इसके बाद अब दोबारा एक स्थानीय नेता को ऐहतियात के तौर पर नजरबंद कर दिया गया है।

जम्मू के इस नेता को किया नजरबंद

पुलिस ने पूर्व मंत्री और डोगरा स्वाभिमान संगठन पार्टी के अध्यक्ष चौधरी लाल सिंह को नजरबंद कर दिया है। बता दें, वह जम्मू के पहले नेता हैं, जिन्हें नजरबंद किया गया है। जम्मू के गांधीनगर में उनके सरकारी आवास से चौधरी लाल सिंह को निकलने की इजाजत नहीं है। दरअसल, राज्य में अभी भी इंटरनेट सेवाएं बंद हैं। इसके अलावा जम्मू-कश्मीर में अभी भ धारा 144 लागू है।

यह भी पढ़ें: भारत के आर्टिकल 370 हटाने से बौखलाया पाकिस्तान, गुस्से में उठाया ये कदम

बता दें, रविवार देर रात पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती, एनसीपी नेता और पूर्व मुख्यमंत्री उमर अबदुल्ला, सज्जाद लोन, इमरान अंसारी समेत कई नेताओं को नजरबंद किया गया था। गिरफ्तारी के बाद महबूबा को गेस्ट हाउस ले जाया गया है।

Image result for Lal Singh Chaudhary

जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन विधेयक हुआ पास

मालूम हो, राज्यसभा में सोमवार को जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन विधेयक पास हो गया। इस बिल के पक्ष में 125 वोट और 61 विपक्ष में वोट पड़े जबकि एक सदस्य गैर हाजिर था।

यह भी पढ़ें: टीम इंडिया और वेस्टइंडीज के बीच पहला वनडे मैच आज

इस बिल में जम्मू कश्मीर से लद्दाख को अलग करने और दोनों को केंद्र शासित प्रदेश का दर्जा देने के प्रावधान शामिल हैं। गृह मंत्री अमित शाह ने जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 के प्रावधान हटाने संबंधी प्रस्ताव पर राज्यसभा में जवाब दिया।

राज्यसभा में गृह मंत्री ने दिया जवाब

राज्यसभा में गृह मंत्री अमित शाह ने जवाब देते हुए कहा कि, ‘मैं आज सदन के सामने जम्मू कश्मीर को लेकर ऐतिहासिक संकल्प और बिल लेकर उपस्थित हुआ हूं। मैं सदन के सामने स्पष्ट करना चाहता हूं कि जम्मू कश्मीर में एक लंबे रक्तपात भरे युग का अंत धारा 370 हटने के बाद होने जा रहा है।’

यह भी पढ़ें: बड़ा बम धमाका : ब्लास्ट से हिल गया पुलिस हेडक्वार्टर, दूर तक हुआ असर

Manali Rastogi

Manali Rastogi

Next Story