Top

मध्य प्रदेश: शिवराज ही नहीं मुख्यमंत्री पद की रेस में ये 3 दिग्गज नेता भी शामिल

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद मप्र विधानसभा में सरकार का शुक्रवार को फ्लोर टेस्ट होना था, लेकिन इससे पहले ही मुख्यमंत्री कमलनाथ ने इस्तीफा दे दिया है। इसके बाद बीजपी ने नई सरकार के गठन की तैयारियां शुरू कर दी है। फिलहाल अभी तक तो शिवराज सिंह चौहान का ही नाम सबसे आगे चल रहा है। लेकिन पार्टी नेता किसी का भी नाम लेने से बच रहे हैं।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumarBy Dharmendra kumar

Published on 20 March 2020 8:02 AM GMT

मध्य प्रदेश: शिवराज ही नहीं मुख्यमंत्री पद की रेस में ये 3 दिग्गज नेता भी शामिल
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

भोपाल: सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद मप्र विधानसभा में सरकार का शुक्रवार को फ्लोर टेस्ट होना था, लेकिन इससे पहले ही मुख्यमंत्री कमलनाथ ने इस्तीफा दे दिया है। इसके बाद बीजपी ने नई सरकार के गठन की तैयारियां शुरू कर दी है। फिलहाल अभी तक तो शिवराज सिंह चौहान का ही नाम सबसे आगे चल रहा है। लेकिन पार्टी नेता किसी का भी नाम लेने से बच रहे हैं।

पार्टी नेताओं की मानें तो बीजेपी आलाकमान ही इस बारे में फैसला आखिरी करेगा। फिलहाल ऐसे वक्त पर शिवराज सिंह चौहान के सरकार बनाने की पूरी उम्मीद है।

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान प्रदेश की राजनीति के सबसे बड़े नेता माने जाते हैं। प्रदेश में इनको 'मामा' कहकर पुकारा जाता है। मुख्यमंत्री पद की रेस में सबसे आगे इन्हीं का नाम है। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को तो सीएम पद का दावेदार माना ही जा रहा है। 13 साल तक प्रदेश की बागडोर संभालने वाले पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को चौथी बार भी मुख्यमंत्री बनने का मौका मिल सकता है।

यह भी पढ़ें...अभी-अभी BJP को झटका: MP में फ्लोर टेस्ट से पहले इस विधायक ने दिया इस्तीफा

प्रदेश के दूसरा सबसे बड़े नेता का नाम है केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर का। कहा जाता है कि मध्य प्रदेश में कमलनाथ सरकार तख्ता पलट करने में तोमर का सबसे बड़ा हाथ रहा है। इस कद्दावर नेता ने इस बार सियासत की ऐसी बिसात बिछाई कि बीजेपी कांग्रेस को तोड़ने में कामयाब हो गई। केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर हैं।

नरेंद्र सिंह तोमर जमीन से जुड़े नेता हैं। मध्यप्रदेश के ग्वालियर-चंबल संभाग में काफी प्रभाव है और कांग्रेस के ज्यादातर बागी विधायक भी इन्हीं संभाग से आते हैं, जिनके बगावत पर उतरने के कारण कमलनाथ को इस्तीफा देना पड़ा।

यह भी पढ़ें...निर्भया के दोषियों को फांसी पर बोले पीएम मोदी, कही इतनी बड़ी बात

बीजेपी की ओर से नरोत्तम मिश्रा का तीसरा बड़ा नाम है। नरोत्तम मिश्रा पर हालांकि ई टेंडरिंग घोटाले की जांच चल रही है। कहा जाता है कि मध्य प्रदेश भाजपा का ये मैनेजमेंट संभालते हैं। नरोत्तम की भूमिका भी अहम मिश्रा पहले भी बीजेपी के प्रदेशाध्यक्ष और मप्र विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष की दौड़ में शामिल रहे हैं। कुछ समय पहले तक नरोत्तम मिश्रा और शिवराज सिंह चौहान के बीच गहरे मतभेद की बाते सामने आती रही हैं। हालांकि सरकार के लिए जोड़-तोड़ के दौरान दोनों नेताओं के बीत समझौता हो गया है।

यह भी पढ़ें...कोरोना वायरस: वसीम रिजवी ने मुस्लिमों के शव पर कही ये बात, मच सकता है बवाल

मध्य प्रदेश के नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव का नाम भी बीजेपी के बड़े नेताओं में शुमार है। भार्गव को शिवराज का करीबी माना जाता है। पहले नरोत्तम मिश्रा को नेता प्रतिपक्ष की जिम्मेदारी सौंपी जा रही थी, लेकिन बाद में गोपाल भार्गव का चुनाव हुआ था।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumar

Next Story