महाराष्ट्र: अमित शाह बोले, शिवसेना की नई शर्तें हमें मंजूर नहीं

महाराष्ट्र में सत्ता के लिए जंग अभी जारी है। शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के बीच सरकार बनाने के लिए बातचीत जारी है। मंगलवार को सरकार गठन को लेकर तीन पार्टियों में चर्चा चल ही रही थी और कोई फैसला होता उससे पहले ही प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लग गया।

नई दिल्ली: महाराष्ट्र में सत्ता के लिए जंग अभी जारी है। शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के बीच सरकार बनाने के लिए बातचीत जारी है। मंगलवार को सरकार गठन को लेकर तीन पार्टियों में चर्चा चल ही रही थी और कोई फैसला होता उससे पहले ही प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लग गया। राज्यपाल की सिफारिश पर मंगलवार शाम को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने मंजूरी दी।

Updates…

कांग्रेस-NCP की बैठक रद्द

कांग्रेस-एनसीपी की बैठक रद्द हो गई है। अजीत पवार ने कहा कि वह बारामती के लिए जा रहे हैं। बैठक क्यों रद्द हुई, इस पर उन्होंने कोई भी टिप्पणी करने से इंकार कर दिया।

शिवसेना की नई शर्तें हमे मंजूर नहीं

महाराष्ट्र में सरकार गठन पर अमित शाह ने कहा कि इससे पहले किसी भी राज्य में इतना समया नहीं मिला था। महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए 18 दिन दिए गए थे। राज्यपाल ने विधानसभा कार्यकाल समाप्त होने के बाद ही पार्टियों को आमंत्रित किया।

अमित शाह ने कहा कि सरकार बनाने को लेकर न तो हमने दावा किया, न शिवसेना और न ही कांग्रेस और एनसीपी ने। अगर आज भी किसी पार्टी के पास संख्या है तो वह राज्यपाल से संपर्क कर सकती है। हमें शिवसेना की नई शर्तें मंजूर नहीं हैं। अमित शाह ने कहा कि बंद कमरे की बाते हम सार्वजनिक नहीं बता सकते हैं और हमने कोई विश्वासघात नहीं किया है।

सरकार बनाने के लिए कांग्रेस तैयार

महाराष्ट्र में एनसीपी-शिवसेना के साथ सरकार बनाने के लिए कांग्रेस राजी हो गई है, तो वहीं जयपुर में ठहरे कांग्रेस के विधायक मुंबई पहुंच चुके हैं। कांग्रेस ने महत्वपूर्ण राजनीतिक मुद्दों पर चर्चा करने के लिए 16 नवंबर को दिल्ली में एआईसीसी महासचिव, सचिव, पीसीसी अध्यक्ष और सीएलपी नेताओं की बैठक बुलाई है।

कांग्रेस नेताओं से मिले उद्धव

महाराष्ट्र में सत्ता के लिए जंग जारी है। शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कांग्रेस नेताओं से मुलाकात की है। होटल में मुलाकात के बाद उद्धव ठाकरे जब बाहर आए तो उन्होंने सिर्फ इतना ही कहा कि कांग्रेस नेताओं से क्या बात हुई है, आपको कैसे बताऊं? बता दें कि एनसीपी, कांग्रेस और शिवसेना तीनों एक कॉमन मिनिमम प्रोग्राम बनाने की कोशिश में लगे हैं।

यह भी पढ़ें…फिर जहरीली हुई दिल्ली-NCR की हवा, 437 पर पहुंचा AQI

शिवसेना नेता संजय राउत को लीलावती अस्पताल से छुट्टी मिल गई है। अस्पताल से बाहर आते ही संजय राउत ने कहा है कि अब तबीयत ठीक है और वो काम पर वापस लौट रहे हैं। उन्होंने कहा कि एक बात निश्चित है कि महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री शिवसेना का ही होगा।

कांग्रेस विधायकों ने आलाकमान पर छोड़ा फैसला

कांग्रेस विधायकों ने कहा कि आलाकमान जो फैसला करेगा, हम वही मानेंगे। जयपुर के रिजॉर्ट में सभी विधायक पिछले कुछ दिनों से रुके हुए थे। हालांकि, कुछ विधायकों ने सीधे तौर पर कहा कि हमें शिवसेना के साथ मिलकर सरकार बनानी चाहिए, इसमें विचारधारा आड़े में नहीं आएगी। विधायकों का कहना है कि बीजेपी को दूर रखने के लिए किसी के भी साथ जाएंगे।

यह भी पढ़ें…SC: कर्नाटक के अयोग्य करार दिए गए विधायकों को मिली राहत, अब लड़ सकेंगे चुनाव

बीजेपी की बैठक

मुंबई में बीजेपी ने मध्यावधि चुनाव पर चर्चा के लिए बैठक बुलाई है। महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगने के बाद बीजेपी ने तीन दिन की बड़ी बैठक बुलाई है। बीजेपी की बैठक में महाराष्ट्र बीजेपी के सभी विधायक शामिल होंगे, ये बैठक मुंबई में होगी। इस बैठक में बीजेपी नेता राज्य के हालात, मध्यावधि चुनाव जैसे मुद्दों पर चर्चा करेंगे।

यह भी पढ़ें…पाकिस्तान ने सीमा पर की गोलीबारी, सेना ने ढेर किए 4 पाक सैनिक, कई चौकियां तबाह

एनसीपी ने बनाई कमेटी

राष्ट्रपति शासन लगने के बाद शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस सरकार गठन के लिए बातचीत कर रही हैं। एनसीपी नेता अजीत पवार ने कहा कि राष्ट्रपति शासन लगने के बाद हम आगे की रणनीति पर बात करेंगे। शरद पवार समेत कुछ अन्य नेता अब संसद के सत्र के लिए दिल्ली जाएंगे। उन्होंने कहा कि हमने 5-6 लोगों की कमेटी बनाई है, जो आगे की रणनीति पर काम करेगी। इस दौरान शिवसेना पर भी चर्चा होगी। हम जल्द से जल्द सरकार बनाना चाहते हैं, क्योंकि किसान काफी परेशानी में है।