महाराष्ट्र: सरकार बनाने के लिए प्रयासरत BJP, उद्धव ने भी दिया संकेत

महाराष्ट्र में सत्ता की लड़ाई चरम पर पहुंच चुकी है। प्रदेश में बीजेपी के सरकार बनाने से इंकार करने के बाद राज्यपाल के द्वारा पहले शिवसेना और अब राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) को सरकार बनाने के लिए न्योता दिया गया है।

amit-uddhav

नई दिल्ली: महाराष्ट्र में सत्ता की लड़ाई चरम पर पहुंच चुकी है। प्रदेश में बीजेपी के सरकार बनाने से इंकार करने के बाद राज्यपाल के द्वारा पहले शिवसेना और अब राष्ट्रवादी कांग्रेस (एनसीपी) को सरकार बनाने के लिए न्योता दिया गया है।

शिवसेना के पास विधायकों का समर्थन दिखाने के लिए 24 घंटे का समय था, लेकिन उसने कुछ और समय मांगा। राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने और समय देने से मना कर दिया। इसके बाद राज्यपाल की ओर से एनसीपी को न्योता दिया। अब खबर आ रही है कि महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लग चुका है।

Updates…

बीजेपी सरकार बनाने के लिए प्रयासरत: नारायण राणे

महाराष्ट्र राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री और बीजेपी नेता नारायण राणे ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि बीजेपी सरकार बनाने के लिए प्रयासरत है।

हमने बीजेपी से अपने विकल्प को खत्म नहीं किया: उद्धव ठाकरे

होटल रिट्रीट में शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए कहा कि राज्यपाल ने हमें कम समय दिया। शासन से घबराने की जरूरत नहीं है, हमें 48 घंटे का वक्त चाहिए था लेकिन हमें राज्यपाल ने समय नहीं दिया। कांग्रेस-NCP के साथ बातचीत जारी है। हमारा दोष क्या है, हम स्पष्टीकरण चाहते हैं। वहीं बीजेपी पर बड़ा बयान देते हुए कहा कि हमने बीजेपी से अपने विकल्प को खत्म नहीं किया बल्कि बीजेपी ने खत्म किया है।

NCP की चिट्ठी तैयार नहीं थी

शिवसेना को समर्थन की चिट्ठी नहीं मिलने के रहस्य से पर्दा उठा है। सुशील कुमार शिंदे संकेत दे रहे है कि कांग्रेस की चिट्ठी कल शाम तैयार थी। NCP से पूछा कि आपकी चिट्ठी तैयार किए है क्या? NCP की चिट्ठी तैयार नहीं थी। इसलिए शिवसेना को ख़ाली हाथ राज भवन जाना पड़ा।

अहमद पटेल ने कहा- सरकार बनाने के लिए कांग्रेस को न्योता न देना गलत है

कांग्रेस और एनसीपी की साझा प्रेस कांफ्रेंस में कांग्रेस नेता अहमद पटेल ने कहा कि महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाकर लोकतंत्र और संविधान का मजाक उड़ाने की कोशिश की गई। उन्होंने कहा कि कांग्रेस राष्ट्रपति शासन की आलोचना करती है। अहमद पटेल ने कहा कि केंद्र ने कभी नियमों का पालन नहीं किया और कई राज्यों में मनमानी की। अहमद पटेल ने कहा कि राज्यपाल द्वारा महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए कांग्रेस को न्योता न देना गलत है।

महाराष्ट्र को फिर से चुनाव के फेर में नहीं लाना चाहते: शरद पवार

वहीं शरद पवार ने कहा कि हम महाराष्ट्र को फिर से चुनाव के फेर में नहीं लाना चाहते। हमारी तरफ से कांग्रेस और एनसीपी शिवसेना को मिलकर बात कर रहे हैं। सरकार जरूर बनाएंगे।

सरकार बनाएंगे, धैर्य रखिए: उद्धव

मलाड के होटल रिट्रीट में शिवसेना विधायकों को संबोधित करते हुए उद्धव ठाकरे ने कहा कि विधायकों को राष्ट्रपति शासन की चिंता नहीं करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति शासन की वजह से सरकार बनाने में कोई दिक्कत नहीं होगी। उन्होंने कहा कि उनकी कांग्रेस और एनसीपी से बात चल रही है, और उन्हें धैर्य रखना चाहिए।

होर्स ट्रेडिंग को बढ़ावा देगा राष्ट्रपति शासन: सिब्बल

कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने कहा है कि महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने का मकसद होर्स ट्रेडिंग को बढ़ावा देना है। उन्होंने कहा कि ये अनैतिक कदम है। सिब्बल ने कहा कि जहां तक राज्यपाल का सवाल है वो केन्द्र के इशारे पर चलते हैं। जब ये जाहिर था कि शिवसेना बीजेपी के साथ नहीं जाना चाहती है तो 9 नवंबर तक का इंतजार क्यों किया गया? और शिवसेना एनसीपी को मात्र 24-24 घंटे का समय दिया गया।

बैठक के बाद होगा फैसला

इस बीच शरद पवार की अगुवाई में एनसीपी की बैठक हुई है। बैठक के बाद एनसीपी नेता नवाब मलिक ने पार्टी विधायकों की बैठक के बाद प्रेस कांफ्रेंस कर जानकारी दी। उन्होंने कहा कि इस बैठक में 54 विधायक मौजूद रहे। यह प्रस्ताव पारित किया गया कि इस बारे में फैसला लेने का अधिकार शरद पवार को दिया गया। उन्होंने एक समिति बनाकर इस पर फैसला करने की बात कही है। कांग्रेस के तीन बड़े नेता मुंबई पहुंच रहे हैं। 5 बजे कांग्रेस से बैठक करने के बाद अंतिम फैसला किया जाएगा।’

राज्यपाल ने की राष्ट्रपति शासन की सिफारिश

कहा जा रहा है कि राज्यपाल ने महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाए जाने की सिफारिश कर दी। राष्ट्रपति भवन को राज्यपाल की चिट्ठी मिल गई है। कहा जा रहा है पीएम मोदी के घर पर हो रही कैबिनेट की आपात बैठक में इस फैसला हो सकता है। तो वहीं शिवसेना ने कहा कि अगर डेडलाइन खत्म होने से पहले राष्ट्रपति शासन लगता है तो वह सुप्रीम कोर्ट जाएगी। इसके लिए शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल से बात की है।

राष्ट्रपति शासन की तैयारी

महाराष्ट्र में राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी राष्ट्रपति शासन की तैयारी कर रहे हैं। वह शाम तक का इंतजार करेंगे और इसके बाद राष्ट्रपति शासन की सिफारिश कर देंगे। उन्होंने राष्ट्रपति शासन की तैयारी पूरी कर चुके हैं।

‘शिवसेना की बनेगी सरकार’

शिवसेना नेता मनोहर जोशी ने कहा कि शिवसेना की ही सरकार बनेगी।

सोनिया के घर मीटिंग

सोमवार को कांग्रेस कोर ग्रुप की बैठक बेनतीजा रहने के बाद मंगलवार को एक बार फिर सोनिया गांधी के आवास पर मीटिंग बुलाई गई है। बैठक में महाराष्ट्र पर चर्चा होनीहै। केसी वेणुगोपाल और एके एंटनी समेत बड़े नेता पहुंच चुके हैं।

‘आज समर्थन देना मुश्किल’

एनसीपी को राज्यपाल ने सरकार बनाने का ऑफर दिया है। इस मामले पर एनसीपी नेता अजित पवार ने कहा कि रात 8.30 बजे तक विधायकों के समर्थन के बारे में बताना मुश्किल है, क्योंकि कांग्रेस नेता दिल्ली में हैं, कांग्रेस विधायक जयपुर और दिल्ली में हैं।

कॉमन मिनिमम प्रोग्राम के तहत बनेगी सरकार

शिवसेना के सूत्रों ने कहा कि कॉमन मिनिमम प्रोग्राम बनाने के लिए तीनों पार्टियों शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के वचन पत्र के प्रमुख बिंदुओं को शामिल किया जा रहा है। न्यूनतम साझा कार्यक्रम तय होने के बाद इस सरकार गठन की प्रक्रिया शुरू होगी इसमें तकरीबन 2 दिन का वक्त लगेगा।

शिवसेना के सूत्र बातचीत शिवसेना के 5 साल के सीएम के फार्मूले पर ही चल रही है, सरकार बनेगी तो एनसीपी और कांग्रेस दोनों सरकार में शामिल होंगे।

अस्पताल में राउत से मिले शरद पवार

महाराष्ट्र में सियासी उठापठक के बीच एनसीपी प्रमुख शरद पवार संजय राउत से अस्पताल जाकर मुलाकात की है। सोमवार दोपहर संजय राउत की तबीयत बिगड़ गई थी जिसके बाद उन्हें मुंबई के लीलावती अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

हमारी तरफ से कोई देरी नहीं: एनसीपी

एनसीपी नेता अजित पवार ने मंगलवार को कहा कि सोमवार को हमने पूरा दिन कांग्रेस के समर्थन पत्र का इंतजार किया क्योंकि कांग्रेस के बिना हमारे समर्थन का कोई मतलब नहीं है। उन्होंने कहा कि कहा कि स्थायी सरकार देने के लिए कांग्रेस को आना चाहिए। अजित पवार ने साफ कर दिया कि हमारी तरफ से कोई देरी नहीं है। उन्होंने कहा किहम कांग्रेस से बात करेंगे और राज्यपाल से ज्यादा वक्त मांगने की कोशिश करेंगे।

कांग्रेस को नैतिक अधिकार नहीं

कांग्रेस नेता संजय निरुपम ने कहा है कि कांग्रेस के पास सरकार बनाने के लिए कोई नैतिक अधिकार नहीं है, ये बीजेपी और शिवसेना का फेलियर है कि उन्होंने राज्य को राष्ट्रपति शासन के कगार पर खड़ा कर दिया है।

हम होंगे कामयाब, जरूर होंगे: संजय राउत

सत्ता को लेकर उठापठक के बीच शिवसेना नेता संजय राउत ने ट्वीट कर कहा है कि लहरों से डर कर नौका पार नहीं होती, कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती, बच्चन। हम होंगे कामयाब, जरूर होंगे।

यह भी पढ़ें…टूट गया 30 साल पुराना रिश्ता! BJP-शिवसेना के रास्ते हुए अलग

इसके बाद अब सबकी निगाहें राज्यपाल पर है, क्योंकि सरकार कैसे बनेगी वह सब उनके ही हाथ में है। बीजेपी केबाद उन्होंने शिवसेना को सरकार बनाने का न्योता दिया और वह एनसीपी-कांग्रेस के समर्थन को साबित नहीं कर पाई।

सोमवार को दिनभर सियासी नाटक चला। शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने एनसीपी प्रमुख शरद पवार से बात की, लेकिन एनसीपी-कांग्रेस ने समर्थन का पत्र नहीं दिया।

यह भी पढ़ें…जम्मू-कश्मीर: सेना को बड़ी कामयाबी, मार गिराए 2 आतंकी

शिवसेना ने बीजेपी से रिश्ता तोड़ एनसीपी का साथ लेने चाहा तो इसमें कांग्रेस अहम किरदार के रूप में सामने आ गई है। कांग्रेस के कई विधायकों ने शिवसेना को समर्थक देने की बात कही है, लेकिन अंतिम फैसला सोनिया गांधी के हाथ में है। कांग्रेस की वर्किंग कमेटी की बैठक में तय नहीं हो पाया कि समर्थन देना है या नहीं। मंगलवार को कांग्रेस समर्थन के मसले पर अंतिम फैसला लेगी।

बता दें कि शिवसेना नेता आदित्य ठाकरे की अगुवाई में सोमवार को पार्टी नेता राज्यपाल से मिले और उन्होंने समर्थन पत्र देने के लिए कुछ और समय की मांग की, लेकिन राज्यपाल ने समय देने से इंकार कर दिया। आदित्य ने कहा कि सरकार बनाने के लिए हमने दो पार्टियों से बात शुरू की है, जो आगे बढ़ रही है।

यह भी पढ़ें…अयोध्या: योगी सरकार के इस फैसले ने दी केंद्र सरकार को बड़ी राहत

महाराष्ट्र में बीते 48 घंटों में राजनीतिक घटनाक्रम बदला है। पहले शिवसेना 24 घंटे में समर्थन पत्र नहीं जुटा पाई, ऐसा ही अब एनसीपी के साथ हुआ है। अब एनसीपी भी 24 घंटे में समर्थन नहीं जुटा पाती है तो राज्य में राष्ट्रपति शासन लग सकता है।