महाराष्ट्र में सरकार पर सस्पेंस, राष्ट्रपति शासन लगाने की उठी मांग

महाराष्ट्र में सरकार गठन के लिए अब कुछ ही समय बचे हैं। भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) नेताओं ने गुरुवार को राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात की, लेकिन सरकार बनाने का दावा पेश नहीं किया। इसके अलावा शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने पार्टी विधायकों के साथ बैठक की।

मुंबई: महाराष्ट्र में सरकार गठन के लिए अब कुछ ही समय बचे हैं। भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) नेताओं ने गुरुवार को राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात की, लेकिन सरकार बनाने का दावा पेश नहीं किया। इसके अलावा शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने पार्टी विधायकों के साथ बैठक की। बैठक के बाद उद्धव ठाकरे ने कहा कि जो तय हुआ था, हमें वह चाहिए।

राष्ट्रपति शासन की मांग

वंचित बहुजन अगड़ी पार्टी के नेता प्रकाश अंबेडकर ने बुधवार को राज्यपाल से मुलाकात की। उन्होंने राज्यपाल से महाराष्ट्र की राजनीतिक हालात पर चर्चा की। उन्होंने प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग की है।

बता दें कि अभी तक किसी भी दल ने सरकार बनाने का दावा पेश नहीं किया है। चुनाव में बीजेपी-शिवसेना गठबंधन को बहुमत मिला है, हालांकि सीएम पद को लेकर दोनों पार्टियों में जंग चल रही है। इसकी वजहे से सरकार का गठन नहीं हो पा रहा है।

राज्यपाल से मिले कमिश्नर

मुंबई के पुलिस कमिश्नर संजय बार्वे ने राजभवन में महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात की।

विधायकों की खरीद-फरोख्त करती है बीजेपी: ममता

शिवसेना ने बीजेपी पर विधायकों की खरीद-फरोख्त की कोशिश करने का आरोप लगाया है। इस टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी ने कहा कि यह सभी जगह होता है। ममता ने कहा कि बीजेपी ऐसा काम कर्नाटक में कर चुकी है, हालांकि वहां बहुमत मजबूती से साथ एकजुट खड़ा रहा और इन लोगों को कामयाबी नहीं मिली।

राज्यपाल से मिले एडवोकेट जनरल

प्रदेश में सरकार बनाने की कवायद के बीच महाराष्ट्र के एडवोकेट जनरल ने भी राजभवन में गुरुवार को राज्यपाल भगत सिंह भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात की।

बता दें कि महाराष्ट्र विधानसभा का कार्यकाल 9 नवंबर को खत्म होने जा रहा है। ऐसे में राज्य में राष्ट्रपति शासन या फिर सबसे बड़ी पार्टी बीजेपी को सरकार बनाने का न्योता दिया जा सकता है।

विधानसभा का कार्यकाल समाप्त होने के बाद कोई भी पार्टी अगर सरकार नहीं बना पाती है तो 6 महीने तक राष्ट्रपति शासन लगाया जा सकता है।

इससे पहले गुरुवार दोपहर शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने पार्टी के सभी नवनिर्वाचित विधायकों और वरिष्ठ नेताओं के साथ बैठक की। वहीं दूसरी ओर बीजेपी नेता राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मिले।

मुलाकात के बाद बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने कहा कि जनता ने बीजेपी-शिवसेना को बहुमत दिया है। हमने राज्यपाल को सरकार बनने की देरी में बताया। अब फैसला केंद्रीय नेतृत्व को लेना होगा।

महाराष्ट्र बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल की अगुवाई में पार्टी नेता आज राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मिलने पहुंचे थे।

संजय राउत ने बीजेपी पर कसा तंज

राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से बीजेपी नेताओं की मुलाकात पर शिवसेना नेता संजय राउत ने तंज कसा है। संजय राउत ने कहा कि हमारा रुख नहीं बदला है।

शिवसेना के हित में उद्धव ठाकरे फैसला लेंगे। सीएम तो शिवसेना का ही होगा। उन्होंने कहा कि राज्यपाल के सामने सरकार बनाने का दावा किए बगैर खाली हाथ क्यों लौट आए।

ये भी पढ़ें…पाकिस्तान की सेना ने फेंका पासा! इमरान के खिलाफ किया ये एलान

बहुमत सिर्फ बीजेपी-शिवसेना के गठबंधन को नहीं मिला है, बल्कि गठबंधन की शर्तों को भी मिला है। गठबंधन ऐसे नहीं चलता है।

उद्धव ठाकरे बोले- हमने कुछ ज्यादा नहीं मांगा

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने आज अपने पार्टी विधायकों के साथ बैठक की। शिवसेना को विधायकों को टूटने का डर सता रहा है। बैठक के बाद उद्धव ठाकरे ने कहा कि हमने कुछ ज्यादा नहीं मांगा है।

जो पहले तय हुआ था, हमें वह चाहिए।  बीजेपी नेताओं से मेरी कोई भी सीधी बात नहीं हुई है।  हमारे पास सभी विकल्प हैं, लेकिन हम नहीं चाहते हैं कि उन पर हम विचार करें।

ये भी पढ़ें…सिद्धू को पाकिस्तान जाने की मिली इजाजत, केंद्र को तीन बार लिख चुके थे चिट्ठी

शिवसेना मे फूट के डर से उद्धव ठाकरे ने मातोश्री में बैठक के बाद विधायकों को होटल भेज दिया।

महाराष्ट्र पर फैसला जल्द

महाराष्ट्र में सरकार गठन पर केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि जल्द फैसला हो जाएगा। देवेंद्र फडणवीस की अगुवाई में महाराष्ट्र में बीजेपी-शिवसेना की सरकार बनेगी।

इस मामले से आरएसएस और मोहन भागवत का कोई संबंध नहीं है। उन्होंने कहा कि मेरा सीएम बनने का सवाल ही नहीं है। मैं दिल्ली में ही रहूंगा।

तुम्हारे पांव के नीचे कोई ज़मीन नहीं: संजय राउत

मातोश्री में विधायकों की बैठक से पूर्व संजय राउत ने ट्वीट करके कहा, ‘तुम्हारे पांव के नीचे कोई ज़मीन नहीं, कमाल है कि, फ़िर भी तुम्हें यक़ीन नहीं- दुष्यंत कुमार।

 

शिवसेना का ही होगा सीएम: संजय राउत

शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा कि हम बयानबाजी में विश्वास नहीं करते हैं। जिसके पास बहुमत है वह सरकार बनाएगा। मुख्यमंत्री तो शिवसेना का होगा। मेरी कभी कोई आकांक्षा नहीं थी।

उन्होंने कहा कि मातोश्री में आज शिवसेना विधायकों की बैठक में उद्धव ठाकरे आगे की रणनीति बताएंगे।

ये भी पढ़ें…प्लान-बी तैयार: बीजेपी को शिवसेना का 48 घंटे का अल्टीमेटम

सामना के जरिये शिवसेना ने कही ये बात

अपने विधायकों के टूटने का डर झेल रही शिवसेना अब आक्रामक हो गई है। पार्टी के मुख पत्र सामना में शिवसेना ने कहा है कि कुछ लोग नये विधायकों से संपर्क कर थैली की भाषा बोल रहे हैं।

शिवसेना ने कहा है कि राज्य में मूल्य विहीन राजनीति वो नहीं चलने देगी इसके लिए शिवसैनिक तलवार लेकर खड़े हैं।

बीजेपी नेता ने सरकार बनाने को लेकर दिया ये संकेत

बुधवार को बीजेपी विधायक सुधीर मुनगंटीवार ने कहा कि जल्दी ही लोगों को खुशखबरी सुनने को मिलेगी। बीजेपी ने खुशखबरी सुनाने की बात तो कह दी, लेकिन आंकड़ों का ब्यौरा नहीं दिया।

बुधवार को बीजेपी कोर कमिटी की बैठक के बाद राज्य के वित्त मंत्री सुधीर मुनगंटीवार ने कहा था कि चंद्रकांत पाटील के नेतृत्व में बीजेपी का एक प्रतिनिधिमंडल सीएम देवेंद्र फड़णवीस द्वारा मंजूर संदेश के साथ राज्यपाल से मुलाकात करेगा।”

ये भी पढ़ें…सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद शरद पवार ने दिया बड़ा बयान

बीजेपी

‘थैली’ की भाषा बोल रहे हैं कुछ लोग: सामना

विधायकों के टूटने का डर झेल रही शिवसेना ने बिना नाम लिये बीजेपी पर हमला बोला है। शिवसेना ने अपना मुख पत्र सामना में लिखा है कि कुछ लोग नए विधायकों से संपर्क कर ‘थैली’ की भाषा बोल रहे हैं और ऐसी शिकायतें बढ़ रही है।

शिवसेना ने कहा है कि पिछली सत्ता का उपयोग अगली सत्ता के लिए ‘थैलियां’ बांटने में हो रहा है। पर किसानों के हाथ कोई दमड़ी भी रखने को तैयार नहीं है।

इसीलिए महाराष्ट्र के किसानों को शिवसेना की सत्ता चाहिए। सामना में लिखा गया है कि महाराष्ट्र की प्रतिष्ठा धूमिल करके यहां पर कोई राज नहीं कर सकता। इसके लिए शिवसेना वहां तलवार लेकर खड़ी है।

ये भी पढ़ें…शिवसेना कार्यकर्ताओं का बवाल: ये क्या! सरकार बनने से पहले तोड़फोड़

मोहन भागवत से मिलेंगे गडकरी

महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर सस्पेंस पर केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी आज राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) प्रमुख मोहन भागवत से मुलाकात करेंगे। यह मुलाकात नागपुर में संघ मुख्यालय पर होगी।

शिवसेना-एनसीपी सरकार के पक्ष में कांग्रेसी विधायक

शिवसेना नेता संजय राउत ने कल एनसीपी नेता शरद पवार से मुलाकात की थी। इसके बाद संजय राउत ने मुंबई में कांग्रेस नेता हुसैन दलवाई से भी मुलाकात की।

कांग्रेस ने साफ कहा कि उनका मकसद है किसी भी तरीके से बीजेपी को सत्ता से दूर रखना। इसके लिए कांग्रेस के कई विधायक शिवसेना-एनसीपी की सरकार के पक्ष में हैं। इसके एवज में कांग्रेस स्पीकर पद चाहती है।