Top

CAA के खिलाफ हैदराबाद से लेकर कोलकाता तक ममता-ओवैसी का हल्ला-बोल

बंगाल: नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी शुक्रवार को कोलकाता में नॉन-स्टॉप धरना प्रदर्शन कर रही हैं। वहीं हैरादाबाद में असुदुद्दीन ओवैसी के नेतृत्व में तिरंगा यात्रा निकाली जाएगी। लाखों की संख्या में लोग ममता और ओवैसी के साथ सीएए के खिलाफ आवाज बुलंद करेंगे।

Shivani Awasthi

Shivani AwasthiBy Shivani Awasthi

Published on 10 Jan 2020 8:12 AM GMT

CAA के खिलाफ हैदराबाद से लेकर कोलकाता तक ममता-ओवैसी का हल्ला-बोल
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बंगाल: नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी शुक्रवार को कोलकाता में नॉन-स्टॉप धरना प्रदर्शन कर रही हैं। वहीं हैरादाबाद में असुदुद्दीन ओवैसी के नेतृत्व में तिरंगा यात्रा निकाली जाएगी। लाखों की संख्या में लोगों ने ममता और ओवैसी के साथ सीएए के खिलाफ आवाज बुलंद की।

Live Update:

हैदराबाद में AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी की तिरंगा रैली की शुरुआत हुई।

बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की ओर से CAA के खिलाफ नॉन स्टॉप धरने का ऐलान किया गया। टीएमसी की ओर से कोलकाता में नेता इसके खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं।

नागरिकता संशोधन एक्ट के खिलाफ देश के कई हिस्सों में विरोध प्रदर्शन जारी है।

हैदराबाद में असदुद्दीन ओवैसी की अगुवाई AIMIM तिरंगा रैली निकाल रही है।

दिल्ली की जामा मस्जिद के बाहर हजारों प्रदर्शनकारी, कोलकाता में TMC की रैली जारी है।

ये भी पढ़ें: आर्टिकल 370 पर सरकार को झटका! सुप्रीम कार्ट ने कही ये बड़ी बात

11 जनवरी को पीएम नरेंद्र मोदी के बंगाल में दौरे के दौरान भाजपा की रैली को इजाजत नहीं मिली है।

अब भाजपा रैली को लेकर कोर्ट जाने की तैयारी में है।

ये भी पढ़ें: प्रियंका गांधी के वाराणसी पहुंचते ही कांग्रेस कार्यकर्ता ने पार्टी छोड़ने का किया ऐलान

सीएए के विरोध में मुस्लिमों ने रखा एक दिन का रोजा

आज जुमे की नमाज़ का दिन है, ऐसे में मुस्लिम संगठनों की ओर से ऐलान किया गया है कि वह आज एक दिन का रोज़ा रखेंगे। ये सांकेतिक रूप से केंद्र सरकार द्वारा लाए गए नागरिकता संशोधन एक्ट के विरोध में होगा। शाम को संविधान की प्रस्तावना पढ़ने के साथ ही रोज़ा तोड़ा जाएगा।

शुक्रवार को देश की कई हाईकोर्ट में दाखिल की गई नागरिकता संशोधन एक्ट के खिलाफ याचिकाओं को सुप्रीम कोर्ट ट्रांसफर किया जाएगा। इसे लेकर केंद्र सरकार को सुप्रीम कोर्ट ने नोटिस जारी किया है। अगली सुनवाई 22 जनवरी को होगी।

ये भी पढ़ें: आतंकियों की बिछी लाशें: सेना ने की ताबड़तोड़ गालियों की बौछार

Shivani Awasthi

Shivani Awasthi

Next Story