मोदी का कांग्रेस पर बड़ा हमला, आपके रास्ते पर चलते तो कुछ न कर पाते

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रपति के अभिभाषण पर पेश किए गए धन्यवाद प्रस्ताव पर कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा। एक घंटा 40 मिनट के भाषण में पीएम ने राम मंदिर, सीएए, जम्मू-कश्मीर, तीन तलाक, पाकिस्तान, गांधी-नेहरू समेत कई मुद्दों का जिक्र करने के साथ ही कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी को भी निशाने पर लिया।

Women's Day: PM मोदी ने इन महिलाओं को सौंपा अपना ट्विटर हैंडल

Women's Day: PM मोदी ने इन महिलाओं को सौंपा अपना ट्विटर हैंडल

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रपति के अभिभाषण पर पेश किए गए धन्यवाद प्रस्ताव पर कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा। एक घंटा 40 मिनट के भाषण में पीएम ने राम मंदिर, सीएए, जम्मू-कश्मीर, तीन तलाक, पाकिस्तान, गांधी-नेहरू समेत कई मुद्दों का जिक्र करने के साथ ही कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी को भी निशाने पर लिया। उन्होंने कहा कि यदि हम भी कांग्रेस के रास्ते पर चलते तो कुछ भी न कर पाते। पीएम के भाषण के दौरान विपक्ष ने कई बार भारी हंगामा किया। पीएम के भाषण के बाद राष्ट्रपति के अभिभाषण पर लाया गया धन्यवाद प्रस्ताव लोकसभा में पारित कर दिया गया।

सीएए का नागरिकों पर असर नहीं

देश के कई हिस्सों में सीएए के भारी विरोध के मद्देनजर पीएम ने कहा कि मैं फिर से इस सदन के माध्यम से बड़ी जिम्मेदारी के साथ स्पष्ट कहना चाहता हूं कि सीएए से हिंदुस्तान के किसी भी नागरिक पर कोई असर नहीं पड़ेगा। चाहे वो मुस्लिम हो, हिंदू हो, सिख हो या अन्य किसी धर्म को मानने वाला हो। उन्होंने कहा कि दरअसल कांग्रेस की दिक्कत ये है कि वो सिर्फ बातें करती है, झूठे वादे करती है और दशकों तक उन वादों को टालती रहती है। आज हमारी सरकार अपने राष्ट्र निर्माताओं की भावनाओं पर चलते हुए फैसले ले रही है तो कांग्रेस को बहुत दिक्कत हो रही है।

आपके लिए मुस्लिम, हमारे लिए भारतीय

मोदी ने कहा कि कांग्रेस और उसके जैसे अन्य दलों ने जिस दिन भारत को भारत की नजर से देखना शुरू कर दिया उस दिन उन्हें अपनी गलती का अहसास होगा। हमें याद दिलाया जा रहा है कि क्विट इंडिया और जय हिंद का नारा देने वाले मुस्लिम ही थे। दिक्कत यही है कि कांग्रेस की नजर में ये लोग हमेशा ही सिर्फ मुस्लिम थे। लेकिन हमारे लिए वो भारतीय हैं, हिंदुस्तानी हैं। पूरे देश ने देख लिया है कि दल के लिए कौन है और देश के लिए कौन है। जब बात निकली है तो दूर तलक जानी चाहिए। मोदी ने कांग्रेस पर हमला करते हुए कहा कि किसी को प्रधानमंत्री बनना था। इसलिए हिंदुस्तान में लकीर खींची गई और हिंदुस्तान का बंटवारा कर दिया गया।

यह भी पढ़ें…भारत मेडागास्कर के बीच समुद्री सुरक्षा सहयोग पर बनी सहमति

रंग लाएगी देश की चुप्पी

पीएम ने कहा कि संविधान बचाने के नाम पर दिल्ली और देश में क्या-क्या हो रहा है, वो पूरा देश देख भी रहा है और समझ भी रहा है। देश की चुप्पी भी कभी न कभी रंग जरूर लाएगी। सर्वोच्च अदालत ने बार-बार कहा है कि आंदोलन ऐसे न हों जिनसे लोगों को तकलीफ हो। लेकिन वामपंथी और कांग्रेस के लोग वहां जाकर लोगों को उकसा रहे हैं और भडक़ाऊ बातें कर रहे हैं।

कांग्रेस के रास्ते पर चलते तो कुछ न होता

पीएम मोदी ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि अगर हम भी आप लोगों के दिखाए रास्ते पर चलते तो शायद 70 साल के बाद भी इस देश से अनुच्छेद 370 नहीं हटता, मुस्लिम महिलाओं को तीन तलाक की तलवार आज भी डराती। हमारी सरकार आपकी ही सोच के साथ चलती तो राम जन्मभूमि आज भी विवादों में फंसी रहती। अगर आपकी ही सोच पर आगे बढ़ते तो करतारपुर साहिब कॉरिडोर कभी नहीं बन पाता। कांग्रेस के रास्ते पर चलते तो भारत-बांग्लादेश विवाद कभी नहीं सुलझता।

यह भी पढ़ें…इनको मिली राम मंदिर की जिम्मेदारी, जानें कौन हैं ये शख्स…

किया नेहरू-लियाकत समझौते का जिक्र

मोदी ने कहा कि भारत-पाकिस्तान में रहने वाले अल्पसंख्यकों के संरक्षण के लिए 1950 में नेहरू-लियाकत समझौता हुआ था। इस समझौते में धार्मिक अल्पसंख्यकों का जिक्र हुआ था। उन्होंने कहा कि नेहरू जी इतने बड़े विचारक थे, फिर उन्होंने उस समय वहां के अल्पसंख्यकों की जगह, वहां के सारे नागरिक को समझौते में शामिल क्यों नहीं किया? जो बात हम आज बता रहे हैं, वही बात नेहरू जी की भी थी। मोदी ने कांग्रेस से पूछा कि क्या पंडित नेहरू कम्युनल थे? उन्होंने कहा कि पांच नवंबर 1950 को इसी संसद में नेहरू जी ने कहा था कि इसमें कोई संदेह नहीं हैं कि जो प्रभावित लोग भारत में बसने के लिए आए हैं, ये नागरिकता मिलने के अधिकारी हैं और अगर इसके लिए कानून अनुकूल नहीं हैं तो कानून में बदलाव किया जाना चाहिए। हम वही तो कर रहे हैं।

विपक्षियों की बेरोजगारी खत्म नहीं करूंगा

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि जब विपक्ष मुझसे पूछता है कि ये काम क्यों नहीं हुआ है तो इसे मैं आलोचना नहीं समझता हूं, बल्कि इसे मैं मार्गदर्शन मानता हूं, क्योंकि आपने मुझमें विश्वास जताया है और आपने ये समझा है कि करेगा तो यही करेगा। पीएम ने कहा कि मैं सबकुछ करूंगा, लेकिन एक काम नहीं करूंगा और वो काम ये है कि मैं आपकी बेरोजगारी कभी खत्म नहीं करूंगा।

यह भी पढ़ें…राम मंदिर निर्माण से पहले उठी ये बड़ी मांग, अनशन पर बैठे महंत

जम्मू-कश्मीर में संविधान क्यों नहीं लागू किया

कश्मीर का जिक्र करते हुए मोदी ने कहा कि कश्मीर भारत का मुकुटमणि है। कश्मीर की पहचान बम, बंदूक और अलगाववाद की बना दी गई थी। 19 जनवरी 1990 की वो काली रात थी जब कुछ लोगों ने कश्मीर की पहचान को दफना दिया था। कश्मीर की पहचान सूफी परंपरा और सर्व पंथ समभाव की है। मैं पूछना चाहता हूं कि कांग्रेस के समय हिंदुस्तान की क्या स्थिति थी, लोगों के अधिकार की स्थिति क्या थी? अगर ये लोग मानते हैं कि संविधान इतना महत्वपूर्ण है तो हिंदुस्तान के संविधान को जम्मू-कश्मीर में लागू करने से इन्हें किसने रोका था।

यह भी पढ़ें…पीएम मोदी ने ली इन दिग्गजों की चुटकी: सदन में लगे ठहाके

डंडे खाने को बढ़ा दूंगा सूर्य नमस्कार

पीएम मोदी ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी का नाम लिए बिना कहा कि मैंने कांग्रेस के एक नेता का कल भाषण सुना कि 6 महीने में मोदी को डंडे मारेंगे। ये काम थोड़ा कठिन है। तैयारी में छह महीने तो लगते ही हैं। मैंने भी तय किया है कि 6 महीने में सूर्य नमस्कार की संख्या बढ़ा दूंगा। 20 साल से मैंने जिस प्रकार से गंदी गाली सुनकर खुद को गाली प्रूफ बना दिया है तो 6 महीने ऐसी मेहनत करूंगा कि मेरी पीठ को हर डंडा सहने की ताकत मिले। पीएम ने तंज कसते हुए कहा कि मैं 40 मिनट से बोल रहा हूं, लगता है अब जाकर करंट दौड़ा है। ऐसी कई ट्यूबलाइट हैं। कैबिनेट के प्रस्ताव को प्रेस कॉन्फ्रेंस में फाड़ देने वाले लोगों को संविधान बचाने की शिक्षा लेना बहुत जरूरी है। पीएम ने कांग्रेस के नेता अधीर रंजन पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा कि गांधीजी आपके लिए ट्रेलर हो सकते हैं, हमारे लिए जिंदगी हैं।