Top

बीजेपी के 40 साल पूरे: पीएम मोदी बोले- न थकना है, न रुकना है, बस जीतना है...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीजेपी के 40 वें स्थापना दिवस के मौके पर कार्यकर्ताओं को सम्बोधित किया। पीएम मोदी ने कहा हमारी पार्टी का स्थापना दिवस, एक ऐसे कालखंड में आया है, जब देश ही नहीं, पूरी दुनिया, एक मुश्किल वक्त से गुजर रही है।

Aditya Mishra

Aditya MishraBy Aditya Mishra

Published on 6 April 2020 6:40 AM GMT

बीजेपी के 40 साल पूरे: पीएम मोदी बोले- न थकना है, न रुकना है, बस जीतना है...
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीजेपी के 40 वें स्थापना दिवस के मौके पर कार्यकर्ताओं को सम्बोधित किया। पीएम मोदी ने कहा हमारी पार्टी का स्थापना दिवस, एक ऐसे कालखंड में आया है, जब देश ही नहीं, पूरी दुनिया, एक मुश्किल वक्त से गुजर रही है। चुनौतियों से भरा ये वातावरण देश की सेवा के लिए, हमारे संस्कार, हमारे समर्पण, हमारी प्रतिबद्धता को और प्रशस्त करता है।

श्रद्धेय श्यामा प्रसाद मुखर्जी, पं. दीन दयाल उपाध्याय जी, अटल बिहारी वाजपेजी जी जैसे अनगिनत महानुभावों ने राष्ट्र प्रथम का आदर्श दिया है। आज भी हमारे बीच अनेक वरिष्ठ महानुभाव हैं, जिन्होंने इसी मंत्र को लेकर दशकों तक जिया है और हमें शिक्षा दी है।

भारत ने दुनिया के सामने एक अलग ही उदाहरण प्रस्तुत किया: पीएम मोदी

कोरोना वैश्विक महामारी से निपटने के लिए भारत के अबतक के प्रयासों ने दुनिया के सामने एक अलग ही उदाहरण प्रस्तुत किया है। भारत दुनिया के उन देशों में है जिसने कोरोना वायरस की गंभीरता को समझा और और समय रहते इसके खिलाफ एक व्यापक जंग की शुरुआत की।

भारत ने एक के बाद एक अनेक निर्णय किए, उन फैसलों को जमीन पर उतारने के भरसक प्रयास किया। सभी सरकारों को साथ लेकर आगे बढ़ने में काई कमी न रहे इसकी चिंता की।

ये भी पढ़ें...BJP के 40 साल: शून्य से शिखर तक की यात्रा ऐतिहासिक ,ऐसे बदला पार्टी का स्वरूप

एक बाद एक प्रोएक्टिव होकर भारत ने कई फैसले लिए: पीएम मोदी

उन्होंने कहा कि हर स्तर पर एक बाद एक प्रोएक्टिव होकर भारत ने कई फैसले लिए। राज्य सरकारों के सहयोग से इन फैसलों को गति भी मिली। भारत ने जिस तेजी और समग्रता से काम किया है। उसकी प्रसंशा सिर्फ भारत ने ही नहीं, विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी की है।

तमाम देश एकजुट होकर कोरोना का मुकाबला करें, इसके लिए सार्क देशों की विशेष बैठक हो या G-20 देशों का विशेष सम्मेलन, भारत ने इन सारे आयोजनों में अहम भूमिका निभाई है।

हमारे शास्त्रों में कई महत्वपूर्ण बातें कही गईं हैं। हमारे वहां कहा गया है। समानो मंत्र: समिति: समानी। समानम् मनः सह चित्तम् एषाम्। यानि हमारे विचार, हमारे संकल्प और हमारे हृदय एकजुट होने चाहिए।

भारत जैसा इतना बड़ा देश, 130 करोड़ लोगों का ये देश, लॉकडाउन के समय भारत की जनता ने जिस तरह की maturity दिखाई है, गांभीर्य दिखाया है, वो अभूतपूर्व है। कोई कल्पना नहीं कर सकता था कि इतने विशाल देश में, लोग इस तरह अनुशासन और सेवा भाव का पालन करेंगे।

कल रात को 9 बजे, हमने 130 करोड़ देशवासियों की सामूहिक शक्ति के दर्शन किए: पीएम मोदी

कल भी, रात को 9 बजे, हमने 130 करोड़ देशवासियों की सामूहिक शक्ति के दर्शन किए हैं। हर वर्ग, हर आयु के लोग, अमीर गरीब, पढ़ा-लिखा हो, अनपढ़ हो, सभी ने मिलकर, एकजुटता की इस ताकत को नमन किया, कोरोना के खिलाफ लड़ाई का अपना संकल्प और मजबूत किया।

आज देश का लक्ष्य एक है, मिशन एक है, और संकल्प एक है- कोरोना महामारी के खिलाफ लड़ाई में जीत। ये लंबी लड़ाई है, न थकना है, न हारना है। लंबी लड़ाई के बाद भी जीतना है। विजयी होकर निकलना है। आज देश का लक्ष्य एक है, मिशन एक है, और संकल्प एक है- कोरोना महामारी के खिलाफ लड़ाई में जीत।

भाजपा कार्यकर्ताओं को एक ही मंत्र सिखाया गया है कि दल से बाद बाद देश। सेवा हमारे संस्कार में है। कोरोना के इस मुश्किल घड़ी में हमारा दायित्व और भी ज़्यादा बढ़ ज्यता है।

बीजेपी नेता बोले, तबलीगी जमात के लोगों को कोरोना बम बनाकर पाकिस्तान भेजे सरकार

कार्यकर्ताओं को दी पंच-आग्रह मानने की सलाह

साथियों पार्टी के 40वें स्थापना दिवस पर मैं आज आपसे कुछ सुझाव पर कार्य करने का आग्रह करना चाहता हूं। वैसे भाजपा ने, हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा जी ने हमारी राष्ट्रीय टीम ने जो एक खाका तैयार किया है मैं उसी को अपने तरीके से दोहरा रहा हूं।

इसे एक तरह से आप मेरे पंच-आग्रह मान सकते हैं। इसमें पहला आग्रह है, गरीबों को राशन के लिए अविरत सेवा अभियान। दूसरा आग्रह है कि अपने साथ ही आप 5-7 अन्य लोगों के लिए फेस-कवर बनवाएं और उनका वितरण करें।

तीसरा आग्रह है, धन्यवाद अभियान के लिए। पार्टी ने पांच अलग-अलग वर्ग बनाए हैं। पहला वर्ग - नर्सेस और डॉक्टर्स हों, दूसरा वर्ग - सफाई कर्मचारी तीसरा वर्ग – पुलिसकर्मी चौथा वर्ग- बैंक और पोस्ट ऑफिस के कर्मचारी, पांचवां वर्ग- आवश्यक सेवाओं में जुटे हुए सभी कर्मचारी।

कोरोना के खिलाफ लड़ाई में मदद करने के लिए एक 'आरोग्य सेतु ऐप' विकसित किया गया है। मेरा चौथा आग्रह है कि ज्यादा से ज्यादा लोगों को इसकी जानकारी दें और कम से कम 40 लोगों के मोबाइल में ये ऐप इंस्टॉल भी करवाएं।

सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला: बीजेपी नेता को किया मंत्री पद से बर्खास्त, जानें पूरा मामला

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story