उमर अब्दुल्ला का हुआ ऐसा हाल, अब कैद में रहना ही पसंद उन्हें

उमर अब्दुल्ला की रोजाना जांच भी की जाती है ताकि उनके स्वास्थ्य के बारे में लगातार अपडेट मिलते रहें। यह रिपोर्ट गृह मंत्रालय को सौंपी जाती है। वैसे अब्दुल्लाह शाम को किताबें और न्यूजपेपर पढ़ते हैं।

उमर अब्दुल्ला का हुआ ऐसा हाल, अब कैद में रहना ही पसंद उन्हें

उमर अब्दुल्ला का हुआ ऐसा हाल, अब कैद में रहना ही पसंद उन्हें

श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला आर्टिकल 370 हटने के बाद अभी तक नजरबंद हैं। श्रीनगर के हरि निवास गेस्ट हाउस में रह रहे अब्दुल्लाह नजरबंद होने के बाद से अपना ज़्यादातर समय पढ़ने-लिखने में बिताते हैं। इसके अलावा वह स्केच बनाते हैं और जिम भी करते हैं।

यह भी पढ़ें: लखनऊ: बड़े इमामबाड़े से मेहंदी का जुलूस निकला गया, देखें तस्वीरें

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, उमर अब्दुल्ला रोजाना दो घंटे जिम और कसरत करते हैं। इसके बाद वह सुबह-सुबह खुले में टहलते हैं। वैसे अब्दुल्लाह का नजरबंद होने के बाद से वजह काफी कम हो गया है। यही नहीं, अब्दुल्लाह अब हंसते नहीं हैं। हालांकि, सिक्योरिटी स्टाफ के साथ उनका व्यवहार बेहद शालीन है।

यह भी पढ़ें: वरिष्ठ वकील राम जेठमलानी का 95 साल की उम्र में निधन

कैसा होता है मॉर्निंग शेड्यूल?

उमर अब्दुल्ला सुबह 5:45 बजे उठ जाते हैं। उठते साथ ही वह नमाज पढ़ते हैं। इसके बाद वो एक कप कॉफी पीते हैं। फिर सुबह सात बजे से एक घंटे तक मॉर्निंग वॉक करते हैं। हाउस के परिसर में ही उनके मॉर्निंग वॉक के लिए खुली जगह उपलब्ध कराई गई है। मॉर्निंग वॉक के बाद वह 8:30 बजे से 9 बजे के बीच घर का बना ब्रेकफास्ट करते हैं। सबसे दिलचस्प बात यह है कि उमर अब्दुल्ला रोजाना अच्छे कपड़े पहनते हैं। वैसे उनकी दाढ़ी भी बढ़ गयी है।

यह भी पढ़ें: टेक्नो ग्रुप की फ्रेशर्स पार्टी में दिखा जूनियर्स का ‘टशन’

उमर अब्दुल्ला दोपहर में करते हैं ये काम

दोपहर में लंच के बाद वह एक आंटी, बहनों और दो भतीजों से मिलते हैं। बता दें, अब्दुल्लाह को रोजाना घर का बना खाना ही दिया जाता है। इस खाने की जांच भी होती है। मुताबिक उनके खाने की जांच सिक्योरिटी प्रोटोकोल के तहत की जाती है। उनको जेड प्लस सिक्युरिटी भी दी गयी है।

शाम को करते हैं ये काम

उमर अब्दुल्ला की रोजाना जांच भी की जाती है ताकि उनके स्वास्थ्य के बारे में लगातार अपडेट मिलते रहें। यह रिपोर्ट गृह मंत्रालय को सौंपी जाती है। वैसे अब्दुल्लाह शाम को किताबें और न्यूजपेपर पढ़ते हैं। इसके अलावा उनको डीवीडी उपलब्ध कराए गए हैं, जिनको वो शाम में ही देखना पसंद करते हैं।