Top

उपचुनाव का शंखनादः सपा का योगी सरकार के खिलाफ पोल खोल अभियान कल

यूपी में 11 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव के लिए सभी दलों ने शंखनाद कर दिया है। लोकसभा चुनाव की तरह कोई महागठबंधन तो नहीं बना है लेकिन सभी प्रमुख दल यूपी में सत्तारूढ़ भाजपा को घेरने के लिए कमर कस चुके है।

Aditya Mishra

Aditya MishraBy Aditya Mishra

Published on 30 Sep 2019 2:50 PM GMT

उपचुनाव का शंखनादः सपा का योगी सरकार के खिलाफ पोल खोल अभियान कल
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: यूपी में 11 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव के लिए सभी दलों ने शंखनाद कर दिया है। लोकसभा चुनाव की तरह कोई महागठबंधन तो नहीं बना है लेकिन सभी प्रमुख दल यूपी में सत्तारूढ़ भाजपा को घेरने के लिए कमर कस चुके है।

विपक्षी दल कांग्रेस और सपा यूपी की योगी सरकार को कानून-व्यवस्था के मुददे पर घेरने की तैयारी में है। संगठन के अभाव में जहां कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी टिवटर के जरिये प्रदेश सरकार पर हमलावर है तो वहीं सपा ने आगामी पहली अक्टूबर को पूरे प्रदेश में योगी सरकार के खिलाफ पोल खोल अभियान चलाने का ऐलान करते हुए पार्टी के युवा कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों को जोरदार अभियान चलाने की जिम्मेदारी दी है।

ये भी पढ़ें...क्या शिवपाल यादव की होगी घर वापसी, सपा ने उठाया ये बड़ा कदम

विधानसभा उपचुनाव को देखते हुए सपा के रणनीतिकारों ने केंद्र की मोदी सरकार और यूपी की योगी सरकार को घेरने की रणनीति बनायी है। इसके लिए सपा कार्यकर्ता पहली अक्टूबर को यूपी की हर तहसील पर प्रदर्शन करेगी और आकंड़ों के जरिये दोनों सरकारों की पोल जनता के सामने खोलेगीं।

इसके लिए सपा ने बीते ढ़ाई साल के योगी कार्यकाल की योजनाओं के कई आकंड़े और तथ्य जमा किए है। पार्टी की ओर से युवा कार्यकर्ताओं को निर्देश दिया गया है कि वह तथ्यों और आकंड़ों पर पूरा ध्यान दे और इसी के आधार पर सरकार को बहस के लिए चुनौती भी दे।

सपा के मुख्य प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी ने बताया कि पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव के निर्देश पर गूंगी-बहरी भाजपा सरकार को जगाने के लिए जनसमस्याओं से सम्बन्धित 11-सूत्रीय मांगो को लेकर हर जिलें में तहसील स्तर पर सपा द्वारा धरना दिया जाएगा।

ये भी पढ़ें...मोहम्मद आजम खां को लेकर सपा नेता चौधरी का बड़ा बयान

गांधी जयंती पर यूपी के सभी जिलों में होगा कार्यक्रमों का आयोजन

वहीं 02 अक्टूबर को पूर्वांह्न जीपीओ पार्क, हजरतगंज, लखनऊ में पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव की उपस्थिति में महात्मा गांधी की प्रतिमा के पास उनके प्रिय भजनों, राष्ट्रगान तथा देश प्रेम के अन्य गीतों के साथ गांधीजी के जीवनदर्शन पर चर्चा करते हुए उनकी कल्पना के भारत के निर्माण के लिए संकल्प लिया जाएगा। सभी जिला मुख्यालयों पर भी यह कार्यक्रम आयोजित किया जायेगा।

उन्होंने बताया कि पहली अक्टूबर को तहसील स्तर पर बढ़ती मंहगाई, भ्रष्टाचार, किसानों की बदहाली, नौजवानों की बेरोजगारी, ध्वस्त कानून व्यवस्था तथा पूर्व मंत्री, सांसद मोहम्मद आजम खां और उनके द्वारा स्थापित मोहम्मद अली जौहर विश्वविद्यालय के विरूद्ध बदले की कार्यवाही के विरोध में पार्टी विशाल धरना देगी।

चौधरी ने बताया कि तहसील स्तर पर आयोजित धरना कार्यक्रम में बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों में सरकारी तौर पर आर्थिक मदद न होने की स्थिति को भी पार्टी के ज्ञापन में शामिल किया जाएगा।

उन्होंने बताया कि धरना शांतिपूर्ण और बड़ी संख्या में जनभागीदारी के साथ सम्पन्न होगा। इसमें भाजपा सरकार की जनविरोधी नीतियों का पर्दाफाश किया जाएगा।

ये भी पढ़ें...शिवपाल की पार्टी प्रसपा का महंगाई के खिलाफ प्रदर्शन, राज्यपाल को सौंपा ज्ञापन

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story