शिवसेना का मोदी सरकार पर बड़ा हमला: ‘नमस्ते ट्रंप’ कार्यक्रम से बढ़ा कोरोना का संक्रमण

शिवसेना नेता संजय राउत ने देश कि महानगरों में कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर मोदी सरकार पर बड़ा हमला बोला है। शिवसेना नेता ने कहा की गुजरात में अमेरिकी राष्ट्रपति के स्वागत में आयोजित नमस्ते ट्रंप कार्यक्रम के जरिए इस वायरस का संक्रमण गुजरात के बाद मुंबई और दिल्ली में फैला।

मुंबई: शिवसेना नेता संजय राउत ने देश कि महानगरों में कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर मोदी सरकार पर बड़ा हमला बोला है। शिवसेना नेता ने कहा की गुजरात में अमेरिकी राष्ट्रपति के स्वागत में आयोजित नमस्ते ट्रंप कार्यक्रम के जरिए इस वायरस का संक्रमण गुजरात के बाद मुंबई और दिल्ली में फैला।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के स्वागत में 24 फरवरी को अहमदाबाद में बड़ा कार्यक्रम आयोजित किया गया था जिसमें काफी संख्या में लोगों ने शिरकत की थी। रोड शो के बाद मोटेरा स्टेडियम में आयोजित कार्यक्रम में पीएम मोदी और ट्रंप ने एक लाख से अधिक लोगों को संबोधित किया था।

राज्यपाल से मिले शिवसेना नेता संजय राउत, दिया ये बड़ा बयान

ट्रंप की टीम ने फैलाया दिल्ली-मुंबई में कोरोना

शिवसेना नेता ने कहा कि इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता कि ट्रंप के स्वागत में जुटे बड़े जनसमूह के कारण ही इस वायरस का संक्रमण गुजरात में फैला। शिवसेना के मुखपत्र सामना में अपने साप्ताहिक लेख में उन्होंने कहा कि ट्रंप की टीम के कुछ सदस्य बाद में दिल्ली और मुंबई भी गए थे जिसके कारण यह वायरस इन महानगरों में भी तेजी से फैला।

बिना किसी योजना के लॉकडाउन लागू किया

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने बिना किसी योजना के लॉकडाउन को लागू कर दिया और अब इसे हटाने की जिम्मेदारी राज्यों पर डाल दी गई है। सरकार की इस अनिश्चितता पूर्ण नीति से देश में कोरोना और बढ़ेगा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी की लॉकडाउन फेल होने की बात में काफी दम है और उन्होंने इसका सटीक विश्लेषण किया है।

राहुल की फैन हुई शिवसेना, कहा- मुश्किल वक्त में दिखाया विपक्ष को कैसा होना चाहिए

राष्ट्रपति शासन की मांग में कोई दम नहीं

राउत ने कहा कि कुछ लोग महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने की निराधार मांग कर रहे हैं। इसके लिए कोरोना के बढ़ते मामलों को कारण बताया जा रहा है। अगर इस आधार पर महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग की जा रही है तो इसे 17 उन राज्यों में भी लगाया जाना चाहिए जहां कोरोना के काफी मामले हैं। सही बात तो यह है कि केंद्र सरकार इस महामारी को रोकने में पूरी तरह विफल रही है क्योंकि उसने इस बारे में कोई योजना ही नहीं बनाई थी।

नहीं सफल होगी भाजपा की साजिश

शिवसेना नेता ने कहा कि भाजपा की महाराष्ट्र सरकार को गिराने की साजिश में सफल नहीं हो पाएगी। महाराष्ट्र सरकार को किसी प्रकार का कोई खतरा नहीं है। यहां तक कि अगर सत्तारूढ़ साझेदारों के बीच किसी प्रकार का आंतरिक संघर्ष है तो भी उद्धव ठाकरे सरकार पर कोई खतरा नहीं मंडरा रहा।

प्रदेश के राजनीतिक हालात को देखते हुए ठाकरे सरकार को बचाए रखने के लिए शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस का एक साथ रहना मजबूरी है। अगर भाजपा और शिवसेना के बीच गहरे अंतरिक्ष संघर्षों के बावजूद फडणवीस सरकार पांच साल चल सकती है तो उद्धव सरकार क्यों नहीं चल सकती।

कहां थे शाह? जब दिल्ली में लगी थी आग, शिवसेना ने किया वार

निराश हो चुके हैं फडणवीस

राउत ने कहा कि फडणवीस ने भी हाल में कहा था कि उनका उद्धव सरकार को अस्थिर करने का कोई इरादा नहीं है और यह सरकार अपने आप ही गिर जाएगी। फडणवीस की बातों से पूरी तरह साफ है कि सरकार को गिराने की उनकी सारी कोशिशें विफल साबित हुई हैं। विधायकों को तोड़ने की अपनी कोशिशें विफल होने के बाद अब वे निराश हो गए हैं और इस तरह की बातें कर रहे हैं।

महाराष्ट्र में राज्यपाल की बैठक पर सियासत गरमाई, शिवसेना ने साधा निशाना