शाह की कल प्रस्तावित वर्चुअल रैली पर आग बबूला हुए तेजस्वी, कही ये बड़ी बात

बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष और राष्ट्रीय जनता दल के नेता तेजस्वी यादव ने बीजेपी पर निशाना साधा है। तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार को टारगेट करते हुए एनडीए सरकार पर प्रवासी मजदूरों के साथ सौतेला व्यवहार करने का आरोप लगाया।

पटना: कोरोना काल में भी राजनीतिक दल एक दूसरे पर निशाना साधने का कोई भी मौक़ा हाथ से गंवाना नहीं चाह रहे हैं। रविवार को भाजपा के पूर्व अध्यक्ष व केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह वर्चुअल रैली से लोगों को संबोधित करने वाले हैं। बताया जा रहा है कि इस रैली के साथ ही बीजेपी बिहार में विधानसभा चुनाव के लिए शंखनाद करने वाली है।

तेजस्वी ने उठाई इस लड़की की जिम्मेदारी: राबड़ी ने की बात, किया ये वादा

जिसे लेकर बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष और राष्ट्रीय जनता दल के नेता तेजस्वी यादव ने बीजेपी पर निशाना साधा है। तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार को टारगेट करते हुए एनडीए सरकार पर प्रवासी मजदूरों के साथ सौतेला व्यवहार करने का आरोप लगाया।

उन्होंने विपक्षी गठबंधन में दरार की खबरों को खारिज करते हुए कहा कि किसी भी लोकतंत्र के लिए विरोधाभासी विचार होना स्वस्थ है।
तेजस्वी यहीं नहीं रुके बल्कि आगे कहा कि प्रवासी मजदूर विधानसभा चुनाव में प्रमुख मुद्दा होंगे।

तेजस्वी बोले- लालू राज में रही होंगी कुछ खामिया, पर मैं नया बिहार बनाने का करता हूं वादा

बीजेपी का चुनाव अभियान चलाना राजनीतिक फायदा लेने की कोशिश

उन्होंने ये भी कहा कि उम्मीद है कि सभी समान विचारधारा वाले दल एकजुट होंगे और विभाजनकारी और 15 साल की विफल सरकार का मुकाबला करेंगे।

तेजस्वी यादव ने अमित शाह की रैली ओर हमला बोलते हुए कहा कि देश में कोरोना वायरस संकट के समय चुनाव अभियान चलाना राजनीतिक फायदा लेने की कोशिश है। उन्होंने आरोप लगाया कि भले ही लोगों की जान जाए भगवा पार्टी की दिलचस्पी केवल चुनावी जीत में है।

नीतीश पर निशाना साधते हुए कहा कि बीजेपी गरीबों की मौत का जश्न मना रही है। लोग भूख से मर रहे हैं। जिस तरह से लोग बेरोजगार हैं और ऐसे में जो कल चिट्ठी जारी की गई थी उसका एक-एक शब्द, एक-एक वाक्य सीएम नीतीश के अंतरात्मा की उपज थी। उनका और उनकी पार्टी के दो ही काम हैं एक पीठ में छुरा भोंकना और दूसरे के कंधे पर रख कर बंदूक चलाना।

लंबे समय बाद पटना लौटे तेजस्वीः जदयू ने कसा तंज, कर डाली यहां भेजने की मांग