Top

महाराष्ट्र गठबंधन खतरे में! गिर सकती है ठाकरे की सरकार, अहम बैठक आज

महाराष्ट्र में शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस की गठबंधन वाली सरकार के बीच सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है। ठाकरे और पवार के बीच भीमा कोरेगांव मामले में तनाव बढ़ गया है।

Shivani Awasthi

Shivani AwasthiBy Shivani Awasthi

Published on 17 Feb 2020 5:36 AM GMT

महाराष्ट्र गठबंधन खतरे में! गिर सकती है ठाकरे की सरकार, अहम बैठक आज
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

मुंबई: महाराष्ट्र में शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस की गठबंधन वाली सरकार तो बन गयी लेकिन दलों के बीच सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है। उद्धव ठाकरे और शरद पवार के बीच भीमा कोरेगांव मामले में तनाव बढ़ गया है। इसी कड़ी में शरद पवार ने सोमवार को अहम बैठक बुलाई है, जिसमें एसीपी के सभी मंत्री शामिल होंगे।

ठाकरे और शरद पवार के बीच ठनाठनी:

भारतीय जनता पार्टी का साथ छोड़ शिवसेना ने शरद पवार की राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी और कांग्रेस के साथ गठबंधन की सरकार बनाई है। लेकिन शुरू से ही कई मुद्दों पर सीएम उद्धव ठाकरे से एनसीपी का विवाद हो चुका है। इन दिनों दोनों दलों के बीच तनाव और ज्यादा गरमा गया है।

ये भी पढ़ें: BJP में जश्न आज: 14 साल बाद मिलेगा इस दिग्गज का साथ, शाह करायेंगे पार्टी ज्वाइन

बुलाई एनसीपी के मंत्रियों की अहम बैठक

एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने आज अपने घर पर एक अहम बैठक बुलाई है। इस बैठक में राज्य सरकार में शामिल एनसीपी कोटे के सभी 16 मंत्री शामिल होंगे। अचानक एनसीपी के मंत्रियों संग अहम बैठक बुलाये जाने पर राजनीतिक गलियारें में कई अटकलें लगने लगी हैं।

भीमा कोरेगांव मामले की जांच को लेकर बढ़ा विवाद:

दरअसल, दोनों दलों के बीच के तनाव की प्रमुख वजह भीमा कोरेगांव ममले की जांच है। पहले कहा गया था कि भीमा कोरेगांव मामले की जांच महाराष्ट्र पुलिस करेगी, लेकिन इसके बाद उद्धव ठाकरे ने एनआईए को इस मामले की जांच सौंपने का फैसला कर लिया। इसके बाद से पवार और ठाकरे के बीच विवाद शुरू हो गया।

ये भी पढ़ें: निर्भया के दोषियों की किस्मत आज होगी तय: तीसरा डेथ वारंट हो सकता है जारी

इस मामले में शरद पवार ने अपनी नाराजगी भी जाहिर की थी। उन्होंने कहा था, 'भीमा-कोरेगांव मामले में महाराष्‍ट्र पुलिस के कुछ अधिकारियों का व्‍यवहार आपत्तिजनक था। मैं चाहता था कि इन अधिकारियों के व्‍यवहार की भी जांच की जाए, लेकिन जिस दिन सुबह महाराष्‍ट्र सरकार के मंत्रियों ने पुलिस अधिकारियों से मुलाकात की, उसी दिन शाम को 3 बजे केंद्र ने पूरे मामले को एनआईए को सौंप दिया। संविधान के मुताबिक यह गलत है, क्‍योंकि आ‍पराधिक जांच राज्‍य के क्षेत्राधिकार में आता है।'

NPR पर ठाकरे के सामने आई कांग्रेस-एनसीपी

वहीं गठबंधन की सरकार के बीच दूसरा विवाद का मामला उद्धव ठाकरे का महाराष्ट्र में राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (NPR) को मंजूरी देना है। कांग्रेस और एनसीपी एनआरपी के खिलाफ है और सीएम ठाकरे के फैसले के समर्थन में नहीं है।

ये भी पढ़ें: शपथ ग्रहण में करोड़ों खर्च: केजरीवाल ही नहीं इन दिग्गजों ने भी जमकर की फिजूलखर्ची

Shivani Awasthi

Shivani Awasthi

Next Story