Top

होली पर पैरेंट्स अलर्ट: रंग खेलने से पहले बच्चों को ऐसे करें तैयार, ताकि न हो नुकसान

यह बच्‍चों की नाजुक स्किन को नुकसान नहीं पहुंचाते। अगर ये रंग बच्‍चों की आंखों या मुंह में भी चले जाएं तो ये कैमिकल वाले रंगों की तुलना में कम नुकसान पहुंचाते हैं।

Suman

SumanBy Suman

Published on 23 March 2021 5:43 AM GMT

होली पर पैरेंट्स अलर्ट: रंग खेलने से पहले बच्चों को ऐसे करें तैयार, ताकि न हो नुकसान
X
किसी को जबरदस्‍ती लगाने की कोशिश ना करें आदि।  इससे बच्‍चे किसी भी तरह के नुकसान से बचे रहेंगे।
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

जयपुर: होली के रंग और त्योहार का जीवन में बहुत महत्व रहता है। इस दिन रंग और गुलाल के साथ गले मिलकर खुशियां मनाते हैं। बच्चे होली के दिन भर चलती है, उनकी ढेर सारी हुड़दंग और मौज मस्‍ती। ऐसे में पेरेंट्स को बच्‍चों के प्रति ज्यादा अलर्ट रहने की जरूरत पड़ती है।

होली की मौज मस्‍ती में बच्चों के कारण कोई परेशानी ना पैदा हो जाए, इसके लिए कुछ खास बातों का ध्यान रखना जरुरी होता है क्‍योंकि अगर रंगों के साथ बच्‍चे सुरक्षित नहीं हैं या उनके साथ किसी तरह की दुर्घटना घट गई या वे बीमार पड़ गए तो होली का सारा आनंद बर्बाद हो सकता है। ऐसे में होली के दिन बच्चों को कहीं भी भेजने से पहले कुछ बातों का ध्‍यान रखना जरूरी है...

फर्स्ट एड बॉक्स

होली से पहले बच्चों के नाखूनों को जरूर काट दें। अगर उनके नाखून कटे रहेंगे तो वे गंदें कम होंगे और दूसरों को चोट भी नहीं पहुचाएंगे। सावधानियों को बरतते हुए फर्स्ट एड बॉक्स पहले ही तैयार रखें। कई बार होली खेलते समय भागदौड़ में किसी को भी चोट लग सकती है।

जबरदस्‍ती लगाने की कोशिश ना करें

कोशिश करें कि होली के पीक आवर में बच्‍चे घर पर हीं रहें। ऐसा करने से बच्‍चे हुड़दंगियों से बचे रहेंगे। बच्‍चों को खेलने से पहले यह बता दें कि किन चीजों से बचना है। जैसे गीले फर्श पर ना दौड़ें, उपद्रवियों से दूर रहें, किसी को जबरदस्‍ती लगाने की कोशिश ना करें आदि। इससे बच्‍चे किसी भी तरह के नुकसान से बचे रहेंगे।

एक्‍सट्रा कपड़े निकालकर रखें

होली खेलते वक्‍त अक्‍सर बच्‍चे खाना पीना भूल जाते हैं और डिहाइड्रेट हो जाते हैं।ऐसे में उन्‍हें घर से निकलने से पहले कुछ खिला पिला दें और कुछ कुछ देर में पानी पिलाते रहें। अधिक देर तक गीले कपड़ों में रहने पर बच्‍चे बीमार पड़ सकते हैं। उनके लिए आज के दिन के लिए एक्‍सट्रा कपड़े निकालकर रखें और बदलते रहे।holi2

यह पढ़ें...कोरोना वैक्सीन से ताउम्र नहीं मिलेगा प्रोटेक्शन, इतने दिन शरीर पर रहेगा असर

ऑर्गेनिक कलर

कैमिकल वाले रंगों की तुलना में ऑर्गेनिक कलर थोड़े फीके जरूर दिखते हैं लेकिन यह बच्‍चों की नाजुक स्किन को नुकसान नहीं पहुंचाते। अगर ये रंग बच्‍चों की आंखों या मुंह में भी चले जाएं तो ये कैमिकल वाले रंगों की तुलना में कम नुकसान पहुंचाते हैं। ऐसे में नेचुरल कलर का ही प्रयोग करें।

नारियल या सरसों का तेल लगाना न भूलें

होली खेलने से पहले बच्‍चों को नारियल या सरसों का तेल लगाना न भूलें। खासतौर पर एक्‍पोस्‍ड एरिया में तो आप जरूर उन्‍हें तेल, क्रीम या पेट्रोलियम जेली लगाकर ही बाहर भेजें। ऐसा करने से कैमिकल युक्‍त रंग उनकी स्किन को कम नुकसान पहुंचाते हैं और रंगों को हटाना भी आसान होता है।

फुल स्‍लीव कपड़े पहने

होली के लिए अगर आपके बच्‍चे बाहर जा रहे हैं तो इस बात का ध्‍यान रखें कि वे फुल स्‍लीव कपड़े पहने हों। अगर उनके हाथ और पैर ढके रहेंगे तो कैमिकल युक्‍त रंगों से उनका बचाव हो सकेगा।

holi

यह पढ़ें...बंगाल चुनाव: बीजेपी ने जारी की 13 प्रत्याशियों की सूची, ये नाम शामिल

बाहर जाने से पहले बच्‍चों के बालों में अच्‍छी तरह से तेल लगाएं और बाल को बांध दें। इससे उनके बालों पर रंगों का कम प्रभाव पड़ेगा। कोशिश करें कि उनके बाल होली खेलते वक्‍त बार बार आंखों पर ना आए।

Suman

Suman

Next Story