पेरेंटिंग टिप्स:आपके नन्हे-मुन्ने के लिए ये दो चीजें है जहर समान, भूलकर भी न दें

घर में कोई बच्चा होता है तो उसका ख्याल अधिक रखा जाता है ताकी उसे कोई समस्या न हो। जब बच्चा 6 महीने का हो जाता है तो उसे दूध के अलावा ऐसा क्या दें जो उसके लिए फायदेमंद है। आमतौर में घरों में मौजूद लोग बच्चों के  खाने की चीजें देने से मना करते है, लेकिन बच्चे के मुंह का स्वाद बदलने के लिए उसे खाने में नमक

जयपुर: घर में कोई बच्चा होता है तो उसका ख्याल अधिक रखा जाता है ताकी उसे कोई समस्या न हो। जब बच्चा 6 महीने का हो जाता है तो उसे दूध के अलावा ऐसा क्या दें जो उसके लिए फायदेमंद है। आमतौर में घरों में मौजूद लोग बच्चों के  खाने की चीजें देने से मना करते है, लेकिन बच्चे के मुंह का स्वाद बदलने के लिए उसे खाने में नमक और फलों में चीनी आदि मिला देता है। लेकिन आप जानते है कि 1 साल तक के बच्चे के लिए नमक व शक्कर का सेवन करना कितना खतरनाक है।  अक्सर लोगों से कहते सुना होगा कि नवजात बच्चे के लिए नमक जहर की तरह है। छोटे बच्चों  नमक और चीनी वाला भोजन कब देना चाहिए? अक्सर, यह सवाल न्यू मदर्स के मन में आता है।स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ संध्या रानी के अनुसार,  आमतौर पर बच्चे को धीरे-धीरे वो सारी चीज़ें खिलाने की बात करते हैं। जिन्हें,  आपके पारिवारिक भोजन में स्थान मिला है। लेकिन, क्या है शक्कर और नमक  के बारे में भी है?  छोटे बच्चों  को 6 महीने के बाद वीनिंग  शुरु करने की सलाह दी जाती है।

यह पढ़ें….HEALTH TIPS: इन खिलाड़ियों की तरह चाहिए फिटनेस तो रोज 1 घंटे करें ये काम

 

शक्कर कब खिलाएं

विशेषज्ञों के मुताबिक, बच्चों को शक्कर नहीं देनी चाहिए। जब, बच्चे की उम्र 2 वर्ष से अधिक हो तो ही सीमित मात्रा में शक्कर खिलानी चाहिए। दरअसल, एक्सपर्ट्स के मुताबिक बच्चों को 2 वर्ष से पहले शक्कर वाली चीज़ें खिलाने से उन्हें टूथ कैविटी होने की संभावना बहुत अधिक बढ़ जाती है।

शक्कर में कैलोरी की मात्रा भी बहुत अधिक होती है। इसीलिए, इस हाई कैलोरी फूड के सेवन से बच्चों में मोटापे या ओबेसिटी का खतरा बढ़ जाता है, वहीं डायबिटीज़, सुस्ती और दांतों को नुकसान का खतरा भी बढ़ जाता है। इसीलिए, बच्चों को कम से कम एक वर्ष (हो सके तो दो वर्ष) तक शक्कर नहीं खिलानी चाहिए।

 

यह पढ़ें…4 JAN: इन लोगों को ससुराल से होगी परेशानी, जानिए अन्य राशियों का दिनभर का हाल

नमक कब दें

आमतौर पर  लोग या विशेषज्ञ बच्चों को एक साल की उम्र के बाद ही नमक खाने की सलाह देते हैं। क्योंकि, छोटे बच्चों की किडनियां कमज़ोर होती हैं। जिससे उनके शरीर में नमक प्रोसेस करके बच्चों के शरीर को इसके फायदे पाने में मदद नहीं करतीं।

बच्चों को पेट फूलने (ब्लोटिंग) और डिहाइड्रेशन जैसी परेशानियां होने लगती हैं। इसीलिए, एक साल तक बच्चे को नमक बिल्कुल ना दें। फिर, उसके बाद बहुत कम मात्रा में नमक बच्चों की रेसिपी में मिलाएं।

बच्चों को तब तक नमक का स्वाद पता नहीं चलेगा। जब तक कि, आप उसे नमक वाला भोजन नहीं देते। इसीलिए, बच्चे को बिना नमक वाला भोजन खिलाने में कोई नुकसान नहीं।