300 साल के योगी: समाधी में थे लीन, इस हाल में निकाले गए बाहर

दरअसल, वायरल हो रहे इस वीडियो में एक व्यक्ति नजर आ रहा है। उसके शरीर पर कई घाव भी साफ तौर पर दिख रहे हैं। इन घावों से खून निकल रहा है। दावा किया जा रहा है कि ये व्यक्ति योगी सिद्धार्थ हैं जो आज से तीन सौ साल पहले समाधि पर चले गए थे।

नई दिल्ली: सोशल मीडिया पर आए दिन वायरल होते रहते हैं। जिनको देखने के बाद कभी कभी तो यकीन भी नहीं होता है। आज हम आपको एक ऐसे ही वीडियो की सच्चाई के बारे में बताने जा रहे हैं।

दरअसल, वायरल हो रहे इस वीडियो में एक व्यक्ति नजर आ रहा है। उसके शरीर पर कई घाव भी साफ तौर पर दिख रहे हैं। इन घावों से खून निकल रहा है। दावा किया जा रहा है कि ये व्यक्ति योगी सिद्धार्थ हैं जो आज से तीन सौ साल पहले समाधि पर चले गए थे।

सोशल मीडिया पर किया जा रहा ये दावा

योगी सिद्धार्थ तमिलनाडु के वेल्लूर में समाधि पर गए थे। वहीं से इस व्यक्ति को तीन सौ साल बाद निकाला गया। लेकिन आपको बता दें कि ये दावा सच नहीं है। सोशल मीडिया पर वीडियो के साथ लिखा गया है कि तमिलनाडु के वल्लियूर में एक मंदिर की खुदाई के दौरान योगी सिद्धार्थ को जिंदा बाहर निकाला गया।

ये भी पढ़ें—दुर्लभ संयोग: 499 साल बाद बना ग्रहों का ये योग, होली पर देंगे शुभ फल

बता दें कि वायरल हो रहा ये वीडियो काफी पुराना है। इसे पहले भी कई बार सोशल मीडिया पर शेयर किया जा चुका है। कुछ समय पहले इस वीडियो को विदेशी वेबसाइट डेली मेल ने शेयर किया था। वीडियो में दावा किया गया कि भालू की गुफा में कई महीने बिताने के बाद इस व्यक्ति को इस हाल में बाहर निकाला गया था।

फैक्ट चेक में सामने आई सच्चाई

जब इस वीडियो की सच्चाई जांची गई तो पता चला कि वीडियो में दिख रहा शख्स अलेक्सेंडर है। पता चला कि इस शख्स को अकोबे शहर से निकाला गया था। बाद में कई मीडिया हाउस ने भी इस खबर को प्रकाशित किया। जब भारत में ये वीडियो वायरल हुआ, तो इसे धर्म से जोड़ दिया गया।

ये भी पढ़ें—गजब की हुई ये शादी: यहां दूल्हा नहीं बल्कि दुल्हन पहुंची लेकर अपनी बारात