Top

टला बड़ा हादसा : चलती ट्रेन में चढ़ रही थी लड़की, तभी हुआ कुछ ऐसा, देखें Video

इससे पहले कि वह प्लेटफार्म और बोगी के बीच खाली हिस्से में फंस पाती। चींख सुनकर मौके पर तैनात रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) की महिला सिपाही ने साहस दिखाते हुए युवती को मौत के मुंहाने से बाहर निकाला।

suman

sumanBy suman

Published on 24 Feb 2021 5:09 AM GMT

टला बड़ा हादसा : चलती ट्रेन में चढ़ रही थी लड़की, तभी हुआ कुछ ऐसा, देखें Video
X
चलती ट्रेन में चढ रही थी लड़की तभी हुआ कुछ ऐसा....खींच लाई महिला RPF सिपाही, video
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: चलती ट्रेन पर चढ़ते लोगों अक्सर देखा होगा, जो कभी-कभी जानलेवा भी होता है। बीते मंगलवार सुबह लखनऊ के चारबाग रेलवे स्टेशन पर कुछ ऐसा ही देखने को मिला, यहां एक बड़ा हादसा होते-होते टला। एक युवती ने चलती ट्रेन पर चढ़ने का प्रयास किया। इस दौरान ट्रेन की गति बढ़ते ही युवती का संतुलन बिगड़ गया। जिसके कारण वह प्लेटफार्म पर गिर गई।

युवती प्लेटफार्म पर घिसटने लगी। इससे पहले कि वह प्लेटफार्म और बोगी के बीच खाली हिस्से में फंस पाती। चींख सुनकर मौके पर तैनात रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) की महिला सिपाही ने साहस दिखाते हुए युवती को मौत के मुंहाने से बाहर निकाला। पूरा दृश्‍य प्लेटफार्म पर लगे सीसी कैमरे में रिकॉर्ड हो गया।

यह भी पढ़ेंं....IND vs ENG: डे-नाइट टेस्ट में होगा कड़ा मुकाबला, शुरुआत में हावी रहेंगे पेसर

ट्रेन रफ्तार पकड़ी

बता दें कि, लखनऊ से चलकर नई-दिल्ली जाने वाली 02419 गोमती एक्सप्रेस चारबाग रेलवे स्‍टेशन से रवाना हुई। यह ट्रेन रफ्तार पकड़ ही रही थी कि तभी एक युवती ने चढ़ने का प्रयास किया। इस बीच उसका पैर फिसल गया। वह प्लेटफार्म पर घिसटने लगी। चींख सुनकर ड्यूटी पर तैनात आरपीएफ सिपाही विनीता कुमारी की नजर उस युवती पर पड़ी। दौड़कर युवती को प्लेटफार्म के नीचे जाने से बचा लिया।

यह भी पढ़ेंं....पक्षियों की Kissing: तस्वीरों में देखें बेजुबानों का प्यार, Love Birds का मतलब ये

इससे पहले भी बचाया

इससे पहले भी 4 जनवरी को रेलवे सुरक्षा बल की महिला कर्मचारी विनीता कुमारी ने एक महिला यात्री को चलती ट्रेन से उतरते वक्‍त बचाया था। जिसके लिए विनीता को मंडल रेल प्रबंधक संजय त्रिपाठी ने पुरुस्कृत भी किया गया था।

कबीरदास ने सही कहा है कि जाको राखे साइया मार सके ना कोई। इस घटना ने इस दोहे को सत्यापित किया है कि उपर से जबतक बुलावा नहीं आता आपका कोई बाल भी बाका नहीं कर सकता हैं।

suman

suman

Next Story