Top

Father's Day 2020: इस बेटी ने की थी शुरूआत, दुनियाभर से लड़ गई थी अकेले

दुनियाभर में जून के तीसरे रविवार को फादर्स डे सेलिब्रेट किया जाता है। लेकिन क्या आपको पता है कि इस दिन की शुरूआत कैसे हुई। अगर नहीं तो चलिए हम आपको बताते हैं आखिर ये दिन क्यों सेलिब्रेट किया जाता है।

Shreya

ShreyaBy Shreya

Published on 17 Jun 2020 1:11 PM GMT

Fathers Day 2020: इस बेटी ने की थी शुरूआत, दुनियाभर से लड़ गई थी अकेले
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: एक पिता और उसके बच्चे के बीच का रिश्ता बहुत ही अनमोल होता है। पापा के लिए उसकी बेटी प्रिंसेस तो बेटा प्रिंस होता है तो वहीं बच्चों के लिए उसका पिता एक सुपर हीरो जो उसकी सभी विश पूरी करता है। दुनिया में ऐसी ज्यादातर लोग हैं जो अपने पिता यानी Father को ये कहने से कतराते हैं वो उनसे कितना प्यार करते हैं। इसलिए एक खास दिन है, जब सभी बेझिझक अपने पिता को ये बताते हैं और फिल कराते हैं कि वो अपने पापा से कितना प्यार करते हैं और वो दिन होता है फादर्स डे (Father's Day).

कहां से हुई फादर्स डे की शुरूआत?

दुनियाभर में जून के तीसरे रविवार को फादर्स डे सेलिब्रेट किया जाता है। लेकिन क्या आपको पता है कि इस दिन की शुरूआत कैसे हुई। अगर नहीं तो चलिए हम आपको बताते हैं आखिर ये दिन क्यों सेलिब्रेट किया जाता है।

यह भी पढ़ें: देश का बुरा हाल: 15 दिनों में हुईं सबसे ज्यादा मौतें, बढ़ता जा रहा कहर

16 साल की लड़की को आया ये ख्याल

साल 1909 में एक लड़की ने इस दिवस को मनाना शुरू किया गया। इसकी पहल की सोनोरा लुईश स्मार्ट डॉड नाम की एक 16 साल की लड़की ने। दरअसल, जब सोनोरा लुईश 16 साल की थी, तब उसकी मां उसे और उसके पांच छोटे भाइयों को छोड़कर चली गई थीं। जिसके बाद पूरे घर और बच्चों की सारी जिम्मेदारियों उनके पिता पर आ गई थी।

मदर्स डे है तो फिर फादर्स डे क्यों नहीं

1909 में सोनोरा ने एक दिन मदर्स डे के बारे में सुना, तभी उसे ऐसा लगा कि पिता के लिए भी एक ऐसा दिन होना चाहिए। बस फिर क्या था सोनोरा ने फादर्स डे सेलिब्रेट करने के लिए याचिका दायर कर दी। याचिका में सोनोरा ने यह भी कहा था कि जून में उसके पिता का बर्थडे आता है, इसलिए वह चाहती है कि जून में ही इस दिन को मनाया जाए।

यह भी पढ़ें: फिर निर्भया कांड: चलती बस में हैवान लूटते रहे आबरू, चिल्लाती रही पीड़िता

सोनारा ने फादर्स डे सेलिब्रेट करना ठान लिया था

इस याचिका के लिए सोनारा को दो साइन की जरूरत थी। इसलिए सोनारा आस-पास स्थित सभी चर्च के सदस्यों के पास गई और उन्हें याचिका पर साइन करने के लिए तैयार किया। हालांकि इसके लिए उसका साथ किसी ने भी नहीं दिया। लेकिन सोनारा ठान चुकी थी कि फादर्स डे सेलिब्रेट करना है।

सबसे पहली बार 1910 में मनाया गया Father's Day

सोनोरा ने यूएस तक में कैंपेन किया। जिसके बाद सोनारा को आखिरकार जीत हासिल हुई और पहली बार फादर्स डे साल 1910 में मनाया गया। धीरे-धीरे ये ट्रेंड पूरी दुनिया तक फैला। अब हर साल दुनियाभर में पिता को समर्पित इस खास दिन को सेलिब्रेट किया जाता है। हर साल लोग फादर्स डे बहुत ही प्यार के साथ सेलिब्रेट करते हैं।

यह भी पढ़ें: भूकंप से हिला मुंबई: जोरदार झटके से कांपे लोग, निकले घरों से बाहर

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shreya

Shreya

Next Story