×

महात्मा गांधी का चश्मा नीलाम: 2.55 करोड़ लगी बोली, इस शख्स ने खरीदा

महात्मा गांधी के चश्मे की नीलामी से पहले उम्मीद जताई थी कि ये करीब 14 लाख रुपये से अधिक क़ीमत में बिकेगा। हालाँकि चश्मा ढ़ाई करोड़ रूपए से ज्यादा में बिका।

Shivani
Updated on: 21 Aug 2020 5:40 PM GMT
महात्मा गांधी का चश्मा नीलाम: 2.55 करोड़ लगी बोली, इस शख्स ने खरीदा
X
mahatma gandhi spectacles auctioned worth 2.55 crore
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

नई दिल्ली: महात्मा गांधी पूरी दुनिया के लिए बापू हैं। उनके आदर्श और अहिंसावादी कथन कई देशों के लोगों के बीच प्रचलित हैं लेकिन अमेरिका का एक शख्स बापू से इस कदर प्रभावित हैं कि उनका चश्मा करोड़ों की नीलामी में खरीद लिया। दरअसल महात्मा गांधी के चश्मे की ब्रिस्टल में नीलामी हुई, जहां एक शख्स ने बोली लगाते हुए चश्मे को 2.55 करोड़ रुपये में खरीदा है। बोली जीतने वाला शख्स अमेरिका में कलेक्टर हैं।

ब्रिटेन में नीलाम हुआ गांधी का चश्मा

ईस्ट ब्रिस्टल ऑक्शन्स (नीलामी एजेंसी) के मुताबिक, चश्मे की नीलामी से पहले उम्मीद जताई जा रही थी कि ये करीब 14 लाख रुपये से अधिक क़ीमत में बिकेगा। हालाँकि बोली लगाने के दौरान चश्मे की नीलामी दो करोड़ रूपए से ज्यादा पहुँच गयी।

अमेरिका के एक कलेक्टर ने खरीदा

ईस्ट ब्रिस्टल ऑक्शन्स के इतिहास की ये सबसे अहम नीलामी थी। वहीं कम्पनी के मालिक ने नीलामी को लेकर ख़ुशी जाहिर कि नीलामी से मिले पैसे वह अपनी बेटी के साथ बांटेंगे।

ये भी पढ़ेंः बिहार चुनाव टालने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर, बताई ये वजह

दक्षिण अफ्रीका मे काम के दौरान चाचा ने दिया था गांधी जी को

वहीं अगर गांधी जी के चश्मे की बात करें, तो दावा किया जा रहा है कई ये महात्मा गांधी को उनके चाचा ने उस वक्त दिया था, जब वह दक्षिण अफ्रीका में काम कर रहे थे। ये 1910 से 1930 के बीच का दौर था।

2.55 करोड़ रुपये लगी बोली

नीलामी कम्पनी कि ओर से बताया कि ये चश्मा लगभग पचास साल तक ऐसे ही अलमारी में बंद रहा है। जब इस चश्मे को नीलामी में खरीदा गया था, तो उस समय चश्मे के पहले मालिक ने इसे फेंकने की इच्छा जताई थी क्योंकि उन्हें इसमें कोई मुनाफा नजर नहीं आ रहा था। लेकिन खरीदने के बाद नए मालिक ने सालों तक इसे संभाल कर रखा। वहीं अब उम्मीद से ज्यादा रकम मिलने पर उनकी खुशी का ठिकाना नहीं है।

ये भी पढ़ेंः शिवराज कैबिनेट पर आई आफत: अब ये मंत्री कोरोना पॉजिटिव, हालत ऐसी

गांधी जी पहला चश्मा

चश्मे के मालिक का कहना है कि 1920 के दशक में उनके परिवार के एक सदस्य ने दक्षिण अफ्रीका के दौरे के दौरान गांधी से मुलाक़ात की थी। उनके पास से ये चश्मा अगली पीढ़ी के पास गया। वहीं संभावना जताई गयी कि ये वही चश्मा है, जिसे गांधी जी ने पहली बार पहना होगा।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए@newstrackऔर ट्विटर पर फॉलो करने के लिए@newstrackmediaपर क्लिक करें।

Shivani

Shivani

Next Story