×

अब गांधी जी से जुड़ी इन चीजों की होने जा रही लाखों में नीलामी

ऑनलाइन नीलामी में बोली पहले ही £ 55,000 से शुरू हो गई है। ईस्ट ब्रिस्टल नीलामी घर का कहना है कि उन्हें विश्वास है कि गांधी जी द्वारा इस्तेमाल की गई इन पवित्र वस्तुओं की बोली £ 60,000 और £ 80,000 के बीच जा सकती है।

Chitra Singh

Chitra SinghBy Chitra Singh

Published on 5 Jan 2021 10:51 AM GMT

अब गांधी जी से जुड़ी इन चीजों की होने जा रही लाखों में नीलामी
X
अब गांधी जी से जुड़ी इन चीजों की होने जा रही लाखों में नीलामी
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

राम कृष्ण वाजपेयी

लखनऊ: महात्मा गांधी का कटोरा और चम्मच- कांटा जो उन्होंने 1940 के दशक में भारत में कैद के दौरान इस्तेमाल किये थे। इन चीजों को 60 हजार पौंड यानी लगभग साठ लाख रुपये में बेचा जा सकता है।द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान ब्रिटिश शासकों ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को आगा खां पैलेस में कैद करके रखा था । इस दौरान महात्मा गांधी द्वारा द्वारा धातु के इस कटोरे, दो चम्मचों और एक कांटे का इस्तेमाल किया गया था।

1942 से 1944 तक जेल में रहें महात्मा गांधी

महात्मा गांधी 1942 से 1944 तक इस जेल में रहे थे। इसी दौरान उनकी पत्नी की मृत्यु हो गई थी। अपनी रिहाई के बाद गांधीजी सुमति मोरारजी नामक मित्र के यहां रहने चले गए थे, सुमति ने बाद में कटोरे और कटलरी को वर्तमान विक्रेता को बेच दिया था।

यह भी पढ़ें... हिन्दुओं के नायक कल्याण सिंह, 90 के दशक के सबसे बड़े राम मंदिर के योद्धा

गांधी जी के वस्तुओं की नीलामी

ऑनलाइन नीलामी में बोली पहले ही £ 55,000 से शुरू हो गई है। ईस्ट ब्रिस्टल नीलामी घर का कहना है कि उन्हें विश्वास है कि गांधी जी द्वारा इस्तेमाल की गई इन पवित्र वस्तुओं की बोली £ 60,000 और £ 80,000 के बीच जा सकती है। ब्रिस्टल के इसी विक्रेता ने पिछले साल गांधी के चश्मे की एक जोड़ी को 260,000 पौंड में नीलामी में बेचा था। गांधी जी के चश्मे की 26 बार बोली लगी थी।

Mahatma Gandhi

बापू की कटलरी और कटोर

कटलरी और कटोरे के बारे में बताते हुए, नीलामीकर्ता एंड्रयू स्टोवे ने कहा: 'यह वास्तव में इतिहास का सबसे बड़ा टुकड़ा है। वैसे तो यह एक बहुत ही साधारण कच्ची धातु का कटोरा है , जिसे आधुनिक इतिहास में सबसे प्रतिष्ठित हस्तियों में से एक द्वारा दैनिक जीवन में उपयोग किया गया।

कटोरा कटलरी के तीन आइटम

वह कहते हैं 'कई मायनों में यह कटोरा उस हर चीज का प्रतीक है जो गांधी जी के लिए थी। यह सोचने के लिए बहुत आश्चर्यजनक है कि गांधी जी हर दिन इस कटोरे से, कांटे और चम्मच के साथ खाते थे।

उन्होंने इसे न केवल गांधी के लिए बल्कि भारत के इतिहास से संबंधित वस्तुओं की 'ऐतिहासिक कलाकृतियों का एक अविश्वसनीय रूप से महत्वपूर्ण सेट' बताया। कटोरा कटलरी के तीन आइटमों के साथ है जिसमें दो चम्मच और लकड़ी से नक्काशीदार एक कांटा शामिल है।

गांधी जी के वस्तुओं से भरा नीलामी घर

स्टोवे ने कहा कि नीलामी घर को गांधी जी के चश्मे की बिक्री के बाद गांधी जी से संबंधित वस्तुओं के साथ भर दिया गया था। इन वस्तुओं में कई सिक्के, तस्वीरें या चित्र थे, लेकिन फिर यह एक के माध्यम से आया और हमने सोचा, वाह! किसी और के लिए यह सिर्फ एक पुराना भोजन का कटोरा है, लेकिन बहुत से लोगों के लिए यह न केवल एक महत्वपूर्ण ऐतिहासिक कला का प्रतिनिधित्व करता है, बल्कि दुनिया के सबसे प्रतिष्ठित हस्ती से जुड़ा एक वास्तविक मूर्त लिंक है।'

ये भी पढ़ेंः जन्मदिन विशेष: कल्याण सिंह की जनतंत्र को निहारती कविताएं

पर्सन ऑफ द ईयर चुने गए गांधीजी

द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान भारत से अंग्रेजों की वापसी की मांग के बाद गांधी को अपने भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस आंदोलन के अन्य नेताओं के साथ कैद कर लिया गया था। इस समय तक, गांधी ऐसे पहले प्रमुख राष्ट्रवादी व्यक्ति थे जिन्हें 1930 में टाइम मैगज़ीन का पर्सन ऑफ द ईयर चुना गया था।

उनके 'भारत छोड़ो' आंदोलन ने ब्रिटिश शासकों को नाराज कर दिया, जिन्होंने 1942 में गांधी की गिरफ्तारी के बाद इसका विरोध कर रहे 100,000 और लोगों को कैद किया। लेकिन वह गांधी की गति को रोकने में विफल रहे और गांधी ने 1944 में अपनी रिहाई के बाद स्वतंत्रता के लिए अपने अहिंसात्मक अभियान को जारी रखा।

Mahatma Gandhi

कटोरा-कटलरी बना क्रिसमस कलेक्शंस का हिस्सा

अंततः 1947 में देश को स्वतंत्रता मिल गई, लेकिन गांधी की 30 जनवरी 1948 को गांधी की हत्या कर दी गई। कटोरा और कटलरी ईस्ट ब्रिस्टल के क्रिसमस कलेक्शंस ऑक्शन का हिस्सा है जो 10 जनवरी को समाप्त होगा।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Chitra Singh

Chitra Singh

Next Story