Top

कई कंपनियों के लिए वरदान बना कोरोना, मुसीबत के दिनों में भी मुनाफे में उछाल

लॉकडाउन की वजह से इन दिनों लोग घरों में कैद हैं और एक-दूसरे से चाह कर भी मुलाकात नहीं कर पा रहे हैं। लॉकडाउन की लंबी अवधि के कारण लोग एक-दूसरे से जूम ऐप पर ही मीटिंग कर रहे हैं।

Shivani Awasthi

Shivani AwasthiBy Shivani Awasthi

Published on 27 April 2020 4:21 PM GMT

कई कंपनियों के लिए वरदान बना कोरोना, मुसीबत के दिनों में भी मुनाफे में उछाल
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

अंशुमान तिवारी

नई दिल्ली। कोरोना संकट के कारण घोषित लॉकडाउन ने दुनिया की तमाम कंपनियों की हालत खस्ता कर दी है। लॉकडाउन की वजह से दुनिया भर के बाजारों में सन्नाटा पसरा हुआ है और तमाम उद्योगों की तो कमर ही टूट गई है। लेकिन संकट कि ये दिन भी कुछ कंपनियों के लिए वरदान बन कर आए हैं और उन्हें जबर्दस्त बूम मिला है। कोरोना संकट के दिनों में भी इन कंपनियों का धंधा चमक गया है और उन्हें जबर्दस्त आर्थिक फायदा हो रहा है।

जूम ऐप को मिली लोकप्रियता

लॉकडाउन की वजह से इन दिनों लोग घरों में कैद हैं और एक-दूसरे से चाह कर भी मुलाकात नहीं कर पा रहे हैं। लॉकडाउन की लंबी अवधि के कारण लोग एक-दूसरे से जूम ऐप पर ही मीटिंग कर रहे हैं। कोरोना संकट के दिनों में यह ऐप पूरी दुनिया में खासा लोकप्रिय हो गया है। इस ऐप के जरिए लोग दूरदराज के शहरों में बैठे अपने तमाम मित्रों के साथ मुलाकात कर रहे हैं और विचारों का आदान-प्रदान कर रहे हैं। लॉकडाउन के दौरान लोगों को एक-दूसरे का लुक देखने में भी खासा मजा आ रहा है।

युवान की हो रही दुनिया भर में चर्चा

यह ऐप जूम वीडियो कम्युनिकेशंस का है और इस कंपनी के संस्थापक चीन के एरिक युवान हैं। युवान भले ही कुछ समय तक दुनिया के लिए उतने जाने पहचाने नाम ना रहे हों मगर इस समय उनकी चर्चा चारों ओर है। ऑनलाइन की दुनिया में उनका खासा नाम हो चुका है और मौजूदा समय में उनकी संपत्ति 740 करोड़ अमेरिकी डालर के करीब है। हालांकि उनकी संपत्ति का यह आकलन कुछ समय पहले का है और माना जा रहा है कि इसमें अब काफी बढ़ोतरी होनी तय है।

ये भी पढ़ेंः सऊदी अरब ने लिए ये ऐतिहासिक फैसले, दुनियाभर में हो रही तारीफ

ऑनलाइन क्लासेज में भी ऐप का सहारा

भारत के कई विश्वविद्यालयों में भी जूम ऐप और अन्य माध्यमों के जरिए ऑनलाइन क्लासेस चल रही हैं। तमाम अन्य संस्थानों में भी इस ऐप के जरिए मीटिंग हो रही हैं और योगा क्लासेस तक चल रही हैं। तमाम परिवार इस ऐप के जरिए एक-दूसरे से संपर्क साध रहे हैं और खासा मनोरंजन भी कर रहे हैं।

गेमिंग कंपनियां भी काट रहीं चांदी

जूम के अलावा तमाम गेमिंग कंपनियां भी लॉकडाउन के इन दिनों में जमकर चांदी काट रही हैं। ये कंपनियां बहुत दिनों से अपनी ग्रोथ के लिए तमाम योजनाएं बना रही थीं, लेकिन जो काम योजनाएं बनाकर पूरा नहीं हो पा रहा था वह काम कोरोना संकट ने कर दिखाया है। लॉकडाउन के इन दिनों में ऑनलाइन गेमिंग कंपनियों की डिमांड काफी बढ़ गई है। ऐसी ही एक कंपनी है रॉबलॉक्स (roblox)। इस गेमिंग प्लेटफार्म पर गेम खेलने के साथ ही खुद भी गेम तैयार किया जा सकता है। इस कंपनी को भी कोरोना संकट ने जबर्दस्त फायदा पहुंचाया है।

इन कंपनियों की भी बढ़ी डिमांड

इनके अलावा अमेजॉन की लाइवस्ट्रीमिंग वीडियो सर्विस ट्विच (twitch) भी इन दिनों लोगों के बीच में खासी लोकप्रिय हो रही है। लोगों के बीच इसकी मांग भी काफी बड़ी है। माइक्रोसॉफ्ट के मालिकाना हक वाली गेमिंग प्लेटफॉर्म मिक्सर को भी इस दौरान खासी लोकप्रियता मिली है।

ये भी पढ़ेंः अमीरों पर ‘कोविड टैक्स’: लग सकता है भारत के रईसों को झटका, पूर्व सीएम ने की मांग

नेटफ्लिक्स के ग्राहकों में भारी बढ़ोतरी

वीडियो स्ट्रीमिंग की दिग्गज कंपनी नेटफ्लिक्स भी इन दिनों लोगों के बीच खासी लोकप्रिय हो रही है। इस साल की पहली तिमाही में कंपनी में 5.7 7 अरब डालर की कमाई की है। इससे कंपनी के राजस्व में 22 फ़ीसदी की वृद्धि हुई है। कोरोना की महामारी और अमेरिकी डॉलर के उतार-चढ़ाव के बावजूद नेटफ्लिक्स के शेयरों में तेजी दिखाई दी है। कंपनी ने मार्च की पहली तिमाही में 1.58 करोड़ नए ग्राहक जोड़े हैं और अब कंपनी के दुनिया भर में 18.2 करोड़ से अधिक ग्राहक हो चुके हैं।

मुकेश अंबानी भी कर सकते हैं निवेश

गेमिंग प्लेटफार्म की इस बढ़ती डिमांड को देखकर देश के सबसे बड़े उद्योगपति मुकेश अंबानी भी ऑनलाइन गेमिंग इंडस्ट्री में भारी निवेश करने के बारे में सोच रहे हैं। उन्होंने पिछले दिनों इस इंडस्ट्री में निवेश की बात कही थी। हालांकि उनका यह भी कहना था कि दुनिया के अन्य देशों की अपेक्षा अभी भारत में गेमिंग प्लेटफार्म उतना विस्तार नहीं पा सका है मगर निश्चित रूप से इस इंडस्ट्री में टीवी और म्यूजिक इंडस्ट्री से आगे निकल जाने की संभावनाएं छिपी हुई है। माना जा रहा है कि आने वाले दिनों में मुकेश अंबानी भी इस इंडस्ट्री में निवेश कर सकते हैं।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shivani Awasthi

Shivani Awasthi

Next Story