बड़ी कार्रवाई: BCCI ने 100 से ज्यादा खिलाड़ियों को किया बैन, किया था ये फर्जीवाड़ा

भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) ने 100 से अधिक खिलाड़ियों पर बैन लगा दिया है। बीसीसीआई ने खिलाड़ियों पर यह प्रतिबंध फर्जी आयु प्रमाण पत्र और फर्जी निवास प्रमाण पत्र देने पर लगाया है। इन खिलाड़ियों में महिला और पुरुष दोनों शामिल हैं।

नई दिल्ली: भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) ने 100 से अधिक खिलाड़ियों पर बैन लगा दिया है। बीसीसीआई ने खिलाड़ियों पर यह प्रतिबंध फर्जी आयु प्रमाण पत्र और फर्जी निवास प्रमाण पत्र देने पर लगाया है। इन खिलाड़ियों में महिला और पुरुष दोनों शामिल हैं। ये मामले इस साल स्थापित एक हेल्पलाइन के माध्यम से सामने आए जहां शिकायतें दर्ज कराई जा सकती हैं।

यह भी पढ़ें…लोकसभा में नागरिकता बिल पास, राज्यसभा में सरकार के लिए है ये बड़ी चुनौती

101 प्रतिबंधित खिलाड़ियों में पाया गया कि 75 क्रिकेटरों ने फर्जी आयु प्रमाण पत्र दिया है, तो वहीं 26 क्रिकेटरों ने फर्जी निवास प्रमाण पत्र दिया है। एक अंग्रेजी अखबार को अधिकारी डाॅ अभिजीत साल्वी ने यह जानकारी दी। पहले संदेह था कि एक खिलाड़ी ओवरएज था, लेकिन किसी को पता नहीं था कि इसकी शिकायत कहां की जाए। अगर राज्य संघ में शिकायत करने जाते तो शिकायतकर्ता के खिलाफ कार्रवाई का खतरा था। बता दें कि अभिजीत साल्वी बीसीसीआई के साथ रजिस्टर्ड खिलाड़ियों के आयु प्रमाण पत्र की जांच करते हैं।

यह भी पढ़ें…इस जेल से आया फंदा! निर्भया गैंगरेप के आरोपी को भेजा गया तिहाड़

उन्होंने बताया कि इसके लिए हमने एंटी-डोपिंग हेल्पलाइन की तर्ज पर उम्र में धोखाधड़ी की शिकायत के लिए हेल्पलाइन नंबर बनाया। शिकायतें सामने आईं। कुछ ने प्रमाण दिए, कुछ ने नहीं। इसलिए हमने अपनी जांच की। उन्होंने बताया कि बीसीसीआई ने खिलाड़ियों द्वारा दिए जन्म और निवास प्रमाण पत्र की स्वतंत्र रूप से जांच करने के लिए लोगों को काम पर रखा है।

यह भी पढ़ें…जवानों ने की ताबड़तोड़ फायरिंग, 3 अधिकारियों की मौत, मचा हड़कंप

जांचकर्ता स्कूलों, कॉलेजों, अस्पतालों, स्थानीय नगर पालिकाओं और प्रमाणपत्रों में दिए पते की जांच करने के लिए जाते हैं कि क्या दिया विवरण सही है। सालवी ने कहा कि उन्होंने कंप्यूटर से बने जन्म प्रमाण पत्रों की भी जांच की। उन्होंने कहा कि हमने अपने दम पर जांच की और राज्य संघों को इसमें शामिल नहीं किया। उनको नहीं पता है कि कौन लोग हैं जो खिलाड़ियों की जांच कर रहे हैं। हालांकि बीसीसीआई ने बैन किए गए खिलाड़ियों के बारे में कोई जानकारी नहीं दी है।