टोक्यो ओलंपिक पर कोरोना का साया: इन देशों ने शामिल होने से किया इंकार

कोरोना का कहर पूरी दुनिया में जारी है। अब जापान के टोक्यो शहर में इस साल होने वाले ओलंपिक खेलों के आयोजन को बड़ा झटका लगा है।

नई दिल्ली:  कोरोना का कहर पूरी दुनिया में जारी है। जिसके चलते कई आयोजन और समारोह स्थगित किए जा रहे हैं। अब इसी कड़ी में एक नया नाम जुड़ गया है। अब जापान के टोक्यो शहर में इस साल होने वाले ओलंपिक खेलों के आयोजन को बड़ा झटका लगा है। कोविड-19 के कारण विश्व भर में अभी 14,500 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है।
ऐसे में ओलंपिक के भविष्य पर खतरा मंडरा रहा है। ओलंपिक खेलों का आयोजन 24 जुलाई से नौ अगस्त के बीच होना है।

कनाडा नहीं लेगा हिस्सा

ये भी पढ़ें-  लॉकडाउन: फिर आमने-सामने आए केजरीवाल सरकार-केंद्र सरकार, जानें पूरा मामला

ओलंपिक खेलों का आयोजन 24 जुलाई से नौ अगस्त के बीच होना है। ऐसे में ओलंपिक खेलों में भाग लेने वाले देशों का नाम एक एक कर वापस लेना चिंता का विषय है। टोक्यो ओलंपिक 2020 पर विश्व भर में फैले कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण खतरा मंडरा रहा है और इसे स्थगित करने की मांग उठ रही है। इंटरनेशनल ओलंपिक संघ (IOC) ने ओलंपिक खेलों को स्थगित करने के मामले में अब तक कोई सख्त कदम नहीं उठाया है। इसी बीच कनाडा ने ऐलान किया कि वह टोक्यो ओलंपिक में हिस्सा नहीं लेगा। कनाडियन ओलंपिक कमिटी (COC) और कनाडियन पैरालंपिक कमिटी (CPC) ने कहा कि कोरोना वायरस के चलते वह ओलंपिक और पैरालंपिक में हिस्सा नहीं लेगा।

अन्य देश भी कर रहे मांग

ये भी पढ़ें-  कोरोना वायरस: कनिका कपूर की रिपोर्ट फिर आई पॉजिटिव, SGPGI में चल रहा ईलाज

कनाडा के अलावा बीते 48 घंटे में कई और देशों के खेल संघ और ओलंपिक कमिटियां भी अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक संघ पर यह दबाव डाल रहे हैं कि जुलाई से शुरू होने वाले इन खेलों को स्थगित किया जाए।
वहीं, ऑस्ट्रेलियाई ओलंपिक कमिटी ने सोमवार को अपने खिलाड़ियों को कहा कि वे सभी अगले साल यानी 2021 को ध्यान में रखते हुए ओलंपिक की तैयारियां करें, क्योंकि बहुत संभव है कि ओलंपिक स्थगित होकर अगले साल आयोजित किया जाए।

14,500 लोगों की हो चुकी मौत

ये भी पढ़ें- ये है कोरोना की सेकंड स्टेज, गए कहीं नहीं लेकिन भैया आ गया कोरोना वायरस

चीन के वुहान से शुरू हुए कोरोना वायरस का कहर अभी भी पूरे विश्व में जारी है। पूरी दुनिया में इस खतरनाक वायरस से लाखों की संख्या में लोग बीमार हुए हैं। जबकि 14,500 लोगों की मौत भी हो चुकी है। WHO ने इस खतरनाक वायरस को महामारी घोषित कर दिया है। जिसके बाद दुनिया का हर देश इस बीमारी से लड़ने का प्रयास कर रहा है।