Top

कपिल देव ने इमरान खान को दी नसीहत, कहा-आतंकवाद की जगह यहां खर्च करें पैसे

कोरोना महामारी ने पूरी दुनिया को तहस-नहस करके रख दिया हैं। इस महामारी से उबरे के लिए पूरी दुनिया प्रयासरत है। इस बीच क्रिकेट ऑलराउंडर कपिल देव  का बयान आया है और उनका मानना है कि कोरोना महामारी से निजात मिलने के बाद स्कूल और कॉलेज खोलना युवाओं को प्राथमिकता होनी चाहिए और कुछ समय के लिए खेलों की बहाली टाली जा सकती है। 

suman

sumanBy suman

Published on 25 April 2020 2:50 PM GMT

कपिल देव ने इमरान खान को दी नसीहत, कहा-आतंकवाद की जगह यहां खर्च करें पैसे
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली : कोरोना महामारी ने पूरी दुनिया को तहस-नहस करके रख दिया हैं। इस महामारी से उबरे के लिए पूरी दुनिया प्रयासरत है। इस बीच क्रिकेट ऑलराउंडर कपिल देव का बयान आया है और उनका मानना है कि कोरोना महामारी से निजात मिलने के बाद स्कूल और कॉलेज खोलना युवाओं को प्राथमिकता होनी चाहिए और कुछ समय के लिए खेलों की बहाली टाली जा सकती है।

पहले बच्चों के भविष्य की चिंता

इस महामारी से आईपीएल, ओलंपिक सारे खेल रद्द हो चुके हैं। इस कपिल पर देव ने एक बयान में कहा कि, 'मैं वृहत तस्वीर देख रहा हूं। क्या आपको लगता है कि इस समय बात करने के लिए क्रिकेट ही बचा है। मैं बच्चों को लेकर चिंतित हूं जो स्कूल और कॉलेज नहीं जा पा रहे।'

यह पढ़ें...अखिलेश का बड़ा आरोप, कहा-लॉकडाउन में RSS-BJP कर रहे ये गलत काम

पाकिस्तान को नसीहत

कपिल ने कहा, वे चाहते हैं कि पहले स्कूल खुलें। क्रिकेट और फुटबॉल बाद में होते रहेंगे।' कपिल ने कोरोना से निपटने के लिए धन जुटाने की भारत और पाकिस्तान के बीच द्विपक्षीय श्रृंखला के शोएब अख्तर के प्रस्ताव पर कहा कि वह इसके खिलाफ है। पाकिस्तान अगर भारत के साथ द्विपक्षीय क्रिकेट खेलने के लिए बेचैन है तो पहले सरहद पार से विरोधी गतिविधियां बंद करे और पैसा नेक काम में लगाए।

यह पढ़ें...पाकिस्तान नहीं डरता: हथियार जुटाने में लगे इमरान, कोरोना से कोई मतलब नहीं

क्रिकेट खेलना प्राथमिकता नहीं

कपिल ने कहा कि 'आप भावनाओं के वेग में बहकर कह सकते हैं कि भारत और पाकिस्तान के मैच कराए जाने चाहिए। इस समय क्रिकेट खेलना प्राथमिकता नहीं है। अगर आपको पैसा चाहिए तो सीमा पार से गतिविधियां बंद कीजिए। वह पैसा अस्पतालों और स्कूलों पर लगाइए। अगर हमें पैसा चाहिए तो हमारे कई धार्मिक संगठन हैं और इस समय आगे आना उनका फर्ज है।'

suman

suman

Next Story