Top

इस भारतीय दिग्गज खिलाड़ी का खुलासा, 'मैं समलैंगिक हूं, गांव की ही लड़की से है संबंध'

एशियाई खेलों में भारत के लिए दो सिल्वर मेडल जीतने वाली स्टार धावक दुती चंद ने बड़ा खुलासा किया है। 100मीटर दौड़ में नेशनल रिकॉर्ड होल्डर दुती चंद ने अपने जीवनसाथी के बार में बताया है। दुती ने कहा कि वह अपने शहर की ही एक महिला मित्र के साथ रिलेशनशिप में हैं।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumarBy Dharmendra kumar

Published on 19 May 2019 7:54 AM GMT

इस भारतीय दिग्गज खिलाड़ी का खुलासा, मैं समलैंगिक हूं, गांव की ही लड़की से है संबंध
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: एशियाई खेलों में भारत के लिए दो सिल्वर मेडल जीतने वाली स्टार धावक दुती चंद ने बड़ा खुलासा किया है। 100मीटर दौड़ में नेशनल रिकॉर्ड होल्डर दुती चंद ने अपने जीवनसाथी के बार में बताया है। दुती ने कहा कि वह अपने शहर की ही एक महिला मित्र के साथ रिलेशनशिप में हैं।

दुती चंद ओडिशा के चाका गोपालपुर गांव की रहने वाली हैं और जाजपुर जिले में उनके माता-पिता बुनकर हैं। भारत की स्टार धावक दुती चंद 100 मीटर, 200 मीटर और 4x100 मीटर दौड़ में शामिल होती हैं। दुती के साथ समलैंगिक रिश्तों में कोई और नहीं बल्कि उनके गांव की ही एक लड़की है, लेकिन उन्होंने अपनी महिला साथी की पहचान को सार्वजनिक नहीं किया।

यह भी पढ़ें...टाइगर श्रॉफ के फैंस के लिये खुशखबरी- डिब्बाबंद नहीं हुई है रैंबो- तय हुई रिलीज डेट

दुती चंद ने एक अंग्रेजी अखबारको दिए इंटरव्यू में यह खुलासा किया है। उन्होंने कहा कि 'मैंने अपना हमसफर ढूंढ लिया है।' दुती ने आगे कहा, 'मुझे लगता है कि हर किसी को यह आजादी होनी चाहिए कि जिसके साथ भी वह रहना चाहते हैं वह अपना साथी चुन सके।'

23 वर्षीय एथलिट ने कहा कि 'मैंने हमेशा ही उन लोगों का समर्थन किया है जो समलैंगिक हैं। यह हर किसी कि व्यक्तिगत पसंद है। फिलहाल मेरा फोकस आगामी विश्व चैंपियनशिप और ओलिंपिक खेलों पर हैं, लेकिन भविष्य में मैं उसके (अपनी साथी) के साथ सेटल होना चाहूंगी।'

यह भी पढ़ें...PM मोदी की केदारनाथ यात्रा से बौखलाई TMC, चुनाव आयोग से की शिकायत

इस दिग्गज खिलाड़ी ने कहा, 'आईपीसी की धारा 377 को पिछले साल सुप्रीम कोर्ट द्वारा गैरअपराधिक करार देने के बाद उन्हें अपने संबंधों के बारे में खुलकर बोलने का विश्वास मिला है।' दुती ने कहा, 'मुझे लगता है कि बतौर एक ऐथलीट किसी को भी मुझे लेकर अपनी राय बनाने का हक नहीं है, क्योंकि यह मेरा निर्णय है कि मैं उसके साथ हूं, जिसके साथ मैं रहना चाहती हूं। यह एक निजी निर्णय है, जिसका सम्मान होना चाहिए।'

दुती चंद ने कहा, 'मैं बीते 10 साल से धावक हूं और अगले 5 से 7 साल तक दौड़ती रहूंगी। मैं प्रतियोगिताओं में हिस्सा लेने पूरी दुनिया घूमती हूं, यह आसान नहीं है। मुझे किसी का सहारा भी चाहिए।'

Dharmendra kumar

Dharmendra kumar

Next Story