रोहित ने छीना ये रिकॉर्ड! वीरेंद्र सहवाग ने बदली थी ओपनिंग की परिभाषा

सहवाग ने हमेशा भारतीय टीम को एक तेज शुरुआत दी है। सहवाग गेंदबाजों पर शुरू से ही हावी हो जाते थे। सहवाग अगर अपने फॉर्म में हों तो किसी भी आक्रमण को ध्वस्त करने की क्षमता रखते हैं। सहवाग जब तक क्रीज पर रहते थे, तब तक विरोधियों के माथे पर उनकी क्रीज पर मौजूदगी का खौफ साफ-साफ देखा जा सकता था।

Published by Manali Rastogi Published: October 20, 2019 | 10:49 am
Modified: October 20, 2019 | 10:59 am

नई दिल्ली: भारतीय टीम के पूर्व सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग आज अपना 41वां जन्मदिन मना रहे हैं। विस्फोटक बल्लेबाजी के लिए मशहूर का जन्म 20 अक्टूबर 1978 को हरियाणा के एक जाट परिवार में हुआ था। अपने माता-पिता के चार बच्चों में सहवाग तीसरी संतान है। सहवाग के जन्मदिन पर उनके पिता किशन सहवाग बताते हैं कि वीरू में क्रिकेट के लिए प्यार सात महीने की उम्र से ही जाग गया था, जब उन्होंने पहली बार उसे खिलौना बैट लाकर दिया।

यह भी पढ़ें: कमलेश मर्डर-पाकिस्तानी कनेक्शन! ये रहा सबूत, अब जांच शुरू

वीरू 12 साल की उम्र में क्रिकेट के दौरान जब अपना दांत तुड़वाकर घर पहुंचे, तो पिता ने उनके क्रिकेट खेलने पर प्रतिबंध लगा दिया। बाद में वीरू की मां कृष्णा सहवाग के हस्तक्षेप के बाद ही ये प्रतिबंध हटा। उसके बाद तो क्रिकेट उनकी जिंदगी का जैसे पहला प्यार ही बनकर रह गया। वैसे यह अलग बात है कि साल 2004 में उन्होंने आरती से शादी रचा ली और उससे उनके दो बेटे भी हैं। वे अपने परिवार के साथ दिल्ली के नजफगढ इलाके में रहते हैं।

लाजवाब रहा क्रिकेट करियर

इमरान ख़ान से लेकर रिचर्ड हेडली और बॉब विलिस के दिल में खौफ पैदा करने वाले विवियन रिचर्डस का वीरेंद्र सहवाग को लेकर कहना है कि, ‘वीरेंद्र सहवाग भारत का ऐसा बल्लेबाज़ है, जिससे दुनिया का हर गेंदबाज खौफ खाता है।’ युसूफ पठान का भी कहना है कि, ‘वीरेंद्र सहवाग के बेखौफ अंदाज ने उन्हें इस बेहतरीन खेलने के लिए प्रेरित करता है।’

यह भी पढ़ें: सेना पर चली गोलियां! पाकिस्तान की कायराना हरकत, कितना गिरेगा ये देश

सहवाग ने हमेशा भारतीय टीम को एक तेज शुरुआत दी है। सहवाग गेंदबाजों पर शुरू से ही हावी हो जाते थे। सहवाग अगर अपने फॉर्म में हों तो किसी भी आक्रमण को ध्वस्त करने की क्षमता रखते हैं। सहवाग जब तक क्रीज पर रहते थे, तब तक विरोधियों के माथे पर उनकी क्रीज पर मौजूदगी का खौफ साफ-साफ देखा जा सकता था। वीरेंद्र सहवाग आज भी “नज़फगढ़ के नवाब”, “मुल्तान के सुल्तान” और “जेन मास्टर ऑफ़ मॉडर्न क्रिकेट” जैसे नामों से फेमस हैं।

जानिए वीरेंद्र सहवाग के कीर्तिमान

  • टेस्ट क्रिकेट में भारत की ओर से तिहरा शतक जड़ने के रिकार्डधारी सहवाग ने अब तक 228 एकदिवसीय मैच में 13 शतक और 36 अर्धशतकों की मदद से 7380 रन बनाए।
  • सहवाग एकदिवसीय बैटिंग औसत 34.65 का था, जबकि एकदिवसीय मैचों में उनका सर्वाधिक स्कोर 219 रन रहा।
  • दिलचस्प बात तो ये है कि सहवाग की आक्रामक खेल शैली वनडे क्रिकेट के अनुकूल है लेकिन वह टेस्ट मैचों में अधिक सफल रहे, जिसमें उन्होंने 72 टेस्ट मैचों में 52.50 के औसत से 17 शतक और 19 अर्धशतकों समेत 6248 रन बनाए।
  • मार्च 2010 में उन्होंने हैमिल्टन में न्यूजीलैंड के खिलाफ सिर्फ 60 गेंदों पर शतक बनाया था।
  • टेस्ट क्रिकेट में पहले विकेट के लिये सबसे बड़ी साझेदारी का रिकार्ड भी सहवाग के ही नाम है।
  • राहुल द्रविड़ के साथ 410 रन की साझेदारी बना करके वीरू ने कीर्तिमान बनाया था।
  • एकदिवसीय क्रिकेट मैच में उनका सर्वाधिक स्कोर 219 रन है, जो कि एक वर्ल्ड रिकॉर्ड था। हालांकि, रोहित शर्मा ने उनका ये रिकॉर्ड तोड़ दिया, जब रोहित ने एकदिवसीय मैच में 264 रन बनाए थे।
  • सहवाग पहले भारतीय खिलाड़ी हैं जिन्होंने टेस्ट मैच में तिहरा शतक जड़ा है।
  • सर डोनाल्ड ब्रेडमैन और ब्रायन लारा के बाद सहवाग दुनिया के तीसरे ऐसे बल्लेबाज हैं, जिन्होंने टेस्ट क्रिकेट में दो बार तिहरा शतक बनाने का कीर्तिमान स्थापित किया है।
  • इंटरनेशनल क्रिकेट में किसी बल्लेबाज द्वारा यह सबसे तेज गति से बनाया तिहरा शतक (319 रन) भी है।
  • 319 रन बनाने के लिए वीरेंद्र सहवाग ने 278 गेंद ही खेलीं।
  • वह दुनिया के एकमात्र ऐसे खिलाड़ी हैं, जिन्होंने टेस्ट मैचों में दो तिहरे शतक बनाने के साथ एक पारी में 5 विकेट भी हासिल किए।