जब इंग्लैंड घूमने निकले गांगुली और सिद्धू पर तान दी बंदूक, ऐसे बची दोनों की जान

साल 1996 में भारतीय टीम इंग्लैंड के दौरे पर गई थी। इसी सीरीज से टीम इंडिया के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने अपने टेस्ट करियर की शुरुआत की। इस सीरीज के दौरान सौरव गांगुली और नवजोत सिंह सिद्धू के साथ एक ऐसी घटना भी घटी थी जिसे वो आज तक भुल नहीं पाए होंगे।

नई दिल्ली: साल 1996 में भारतीय टीम इंग्लैंड के दौरे पर गई थी। इसी सीरीज से टीम इंडिया के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने अपने टेस्ट करियर की शुरुआत की। इस सीरीज के दौरान सौरव गांगुली और नवजोत सिंह सिद्धू के साथ एक ऐसी घटना भी घटी थी जिसे वो आज तक भुल नहीं पाए होंगे।

इस सीरीज में पहला टेस्ट मैच भारतीय टीम हार गई थी। इसके बाद गांगुली और नवजोत सिंह सिद्धू इंग्लैंड घूमने के लिए निकल पड़े। सौरव गांगुली और नवजोत सिंह सिद्धू लंदन ट्यूब (मेट्रो) में यात्रा कर रहे थे। तभी कुछ नशेड़ी युवक भी मेट्रो में चढ़ गए और गांगुली व सिद्धू को देखकर गंदे इशारे करने लगे। सिद्धू ने सोचा कि वो टीम इंडिया के हार जाने के कारण उन्हें चिढ़ा रहे हैं।

यह भी पढ़ें…मोदी ने BJP सांसदों को गांधी जयंती से पटेल जयंती तक दिए यह कार्य करने के निर्देश

इस दौरान एक शख्स ने बियर की बोतल से सिद्धू को मार दिया। इस बाद गुस्से से लाल सिद्धू लड़कों से उलझ गए। सिद्धू उन युवकों को जवाब देने के लिए उठे तो हालात बिगड़ गए और हाथापाई की नौबत आ गई। तब तक अगला स्टेशन आ गया और ट्रेन रुकने की वजह से सभी नशेड़ी युवक नीचे उतर गए।

इस बीच उनमें से एक युवक फिर से मेट्रो में चढ़ गया और उसने सिद्धू की ओर बंदूक तान दी, लेकिन सिद्धू इससे डरे नहीं और उसकी ओर झपट पड़े। इस दौरान सौरव गांगुली ने सिद्धू को रोका और कहा कि वो नशे में है, सचमुच में गोली चला देगा। तब जाकर कहीं सिद्धू शांत हुए और दोनों तुरंत ट्रेन की फर्श पर लेट गए।

यह भी पढ़ें…सीबीआई की बड़ी कार्रवाई, जानिए क्यों 19 राज्यों के 110 ठिकानों पर मारा छापा

इसी दौरान ट्रेन चलने लगी तो वो युवक भी तेज़ी से उतर गया। इसके बाद अगले स्टेशन पर गांगुली और सिद्धू भी उतरे और टैक्सी से अपने होटल पहुंचे।

3 मैचों की इस टेस्ट सीरीज़ के पहले मैच में भारतीय टीम को शिकस्त मिली थी। दूसरे टेस्ट मैच में गांगुली और द्रविड़ को डेब्यू करने का मौका मिला। गांगुली ने अपने पहले ही टेस्ट में 131 रनों की शानदार पारी खेली और 3 विकेट भी चटकाए। जबकि द्रविड़ ने भी 95 रनों की अहम पारी खेली। ये टेस्ट मैच ड्रॉ रहा।