मोदी ने BJP सांसदों को गांधी जयंती से पटेल जयंती तक दिए यह कार्य करने के निर्देश

दिल्ली में मंगलवार को भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) संसदीय दल की बैठक हुई। इस बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, रक्षामंत्री राजनाथ सिंह समेत बीजेपी के कई नेता संसद परिसर पहुंचे। इस बैठक में पीएम मोदी ने कहा, “बीजेपी के सभी सांसद 2 अक्टूबर को महात्मा गांधी की 150वीं जयंती से 31 अक्टूबर को सरदार पटेल की जंयती के बीच पर पदयात्रा करेंगे।

modi

modi

नई दिल्ली: दिल्ली में मंगलवार को भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) संसदीय दल की बैठक हुई। इस बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, रक्षामंत्री राजनाथ सिंह समेत बीजेपी के कई नेता संसद परिसर पहुंचे। इस बैठक में पीएम मोदी ने कहा, “बीजेपी के सभी सांसद 2 अक्टूबर को महात्मा गांधी की 150वीं जयंती से 31 अक्टूबर को सरदार पटेल की जंयती के बीच पर पदयात्रा करेंगे। यह यात्रा कुल 150 किलोमीटर की पदयात्रा होगी। साथ ही पीएम ने गांधी जी के विचारों, शिक्षाओं का प्रचार एवं वृक्षारोपण करने को भी कहा।

संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री मोदी ने मंगलवार को भाजपा संसदीय पार्टी की बैठक में पार्टी सांसदों को संबोधित करते हुए लोकसभा के साथ-साथ राज्यसभा सदस्यों से भी भाजपा संगठन की ओर से आयोजित होने वाले ऐसे कार्यक्रमों में हिस्सा लेने को कहा।

यह भी पढ़ें…दहशत के साए में जायरा वसीम, ठुकराया इतने करोड़ का ये ऑफर

जोशी ने बताया, ”इन यात्राओं का मकसद गांवों का उन्नयन और शून्य बजट कृषि को प्रोत्साहित करते हुए गांव को आत्मनिर्भर बनाना है।” संसदीय दल की बैठक में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि गांधी जयंती से पटेल जयंती (2 अक्टूबर से 31 अक्टूबर) तक सभी सांसद अपने संसदीय क्षेत्र में 150 किलोमीटर की पदयात्रा करेंगे। इसके लिए अलग-अलग समूह बनेंगे और सांसद एक दिन एक समूह के साथ पदयात्रा करेंगे। इसमें भाजपा विधायक, कार्यकर्ता सभी शामिल होंगे। इस तरह से रोज 15 किलोमीटर की पदयात्रा करेंगे और सभी बूथ कवर करेंगे। प्रत्येक क्षेत्र में 15:20 टीमों का गठन किया जायेगा।

राज्यसभा सांसदों को भी संसदीय क्षेत्र आवंटित किया जायेगा। पदयात्रा के माध्यम से संसद के सदस्य गांधी जी के विचारों, शिक्षाओं का प्रचार करेंगे और वृक्षारोपण करेंगे। पार्टी स्तर की एक कमेटी बनाई जाएगी जो इन कार्यक्रमों को अमल में लाएगी।

यह भी पढ़ें…ITBP ने 8 पर्वतारोहियों के ‘आखिरी पलों’ का जारी किया वीडियो, सभी हो गए थे लापता

संसदीय कार्य मंत्री अर्जुन राम मेघवाल ने बताया कि प्रधानमंत्री ने जोर दिया कि इस पदयात्रा का मुख्य जोर गांव पर होना चाहिए। इसके अलावा अधिक से अधिक लोगों से संवाद स्थापित किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि इसका मकसद लोगों से सम्पर्क करके सरकार के कार्यो के बारे में उनका विचार जानना और यह पता लगाना है कि लोगों की उम्मीदें क्या हैं।

कर्नाटक में वर्तमान राजनीतिक स्थिति के बारे में एक प्रश्न के जवाब में प्रह्लाद जोशी ने कहा कि अपनी विफलताओं के लिये भाजपा को जिम्मेदार ठहराना कांग्रेस की आदत बन चुकी है। उनके (कांग्रेस) विधायकों ने राज्यपाल को इस्तीफा सौंपा है। हम स्थिति पर नजर रखे हुए हैं और स्थिति के अनुरूप ही कोई फैसला करेंगे। संसदीय पार्टी की बैठक में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सांसदों को बजट के बारे में बताया। उन्होंने बजट को दूरदर्शी बताया और कहा कि यह अगले 10 साल का बजट है।

यह भी पढ़ें…Bollywood: Shahid Kapoor ने ‘Kabir Singh’ इस शख्स के कहने पर की थी

जोशी के अनुसार प्रधानमंत्री ने कहा कि हमने अपने संकल्प पत्र में कहा था कि यह भविष्य के बारे में हमारे दृष्टिकोण को स्पष्ट करता है। अब हमें इस दिशा में आगे बढ़ना है। भाजपा संसदीय पार्टी की बैठक में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के अलावा रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जे पी नड्डा, केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद और धर्मेन्द्र प्रधान सहित पार्टी सांसदों ने हिस्सा लिया ।

लोकसभा चुनाव में जीत के बाद पिछले सप्ताह भाजपा संसदीय पार्टी की बैठक में प्रधानमंत्री ने कहा था कि किसी भी प्रकार का दुर्व्यवहार अस्वीकार्य है। प्रधानमंत्री ने आगे कहा था कि अगर किसी ने कुछ गलत किया है तो कार्रवाई की जानी चाहिए और यह भी कहा कि यह सभी पर लागू है।

भाषा