ayodhya ram mandir

गुजरात (Gujarat) के एक मुस्लिम दंपति ने भी मंदिर निर्माण के लिए चंदा दिया है। इस दंपति ने 1.51 लाख रुपये का दान दिया है। बता दें कि गुजरात से राम मंदिर के निमार्ण के लिए अब तक 31 करोड़ रुपये जमा किए जा चुके हैं।

राममंदिर के निर्माण का इंतजार अब खत्म हो गया है। कल यानी गुरुवार से नींव की खोदाई शुरू कर दी गई। इसका आधिकारिक ऐलान भी हो गया है। इससे पहले की नींव खोदना शुरू हो, भूमि पूजन किया गया।

राम मंदिर निर्माण के लिए चंदा इकट्ठा करने के अभियान की शुरुआत होने के बाद से राम भक्त दिल खोलकर भव्य मंदिर के लिए दान कर रह हैं। अब तक दिग्गज नेता भी राम मंदिर निर्माण में सहयोग करने के लिए अपनी तरफ से चंदा दे चुके हैं।

राम मंदिर निर्माण में अपना सहयोग देते हुए गौतम गंभीर ने एक करोड़ रुपये का चेक दिया है। उन्होंने ये चेक दिल्ली में स्वामी अवधेशानंद को सौंपा। इस मौके पर उन्होंने कहा कि यह केवल एक मंदिर ही नहीं बल्कि करोड़ों भारतीयों की आस्था का प्रतीक है।

मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस सांसद दिग्विजय सिंह (Congress MP Digvijay Singh) ने भी राम मंदिर निर्माण के लिए दान दिया है। दिग्विजय सिंह ने एक लाख ग्यारह हजार एक सौ एक रुपये (1,11,111 रु.) का चंदा दिया है।

अयोध्या में भगवान श्री राम का मंदिर निर्माण करने में धनराशि का अभाव न होने पाए, इसके लिए शहर के लोगों ने खुलेमन से दान किया। यहां उत्सव गेस्ट हाउस में आरएसएस द्वारा आयोजित श्री राम जन्म भूमि निधि समर्पण अभियान के शुभारंभ कार्यक्रम में तमाम लोगों ने चेक के माध्यम से दान किया।

अयोध्या में चल रही योजनाओं को एक दूसरे से जोड़कर रामनगरी का विकास किया जाएगा। इसको अंतरराष्ट्रीय कल्चरल कैपिटल टूरिस्ट हब बनाया जाएगा। अयोध्या को पौराणिकता के साथ ही उसे आधुनिक बनाने के लिए आईआईटी इंदौर से मदद ली जाएगी।

ग्रेटर नोएडा की तर्ज पर रामनगरी में 81 किमी परिधि में रिंग रोड बनाकर हजारों एकड़ में आवासीय, व्यावसायिक और औद्योगिक उपनगर बसाने की तैयारी है। रामनगरी के चारों ओर विस्तार की यह नई योजना जल्द सामने आ जाएगी।

इसको लेकर विशेषज्ञों की 8 सदस्यीय समिति के सुझाव पर सहमति बन गई है। हालांकि यह गर्भ गृह के केवल पश्चिम तरफ़ ही बनेगी अथवा प्रस्तावित राम मंदिर के चारों तरफ बनाई जाएगी, इस पर विचार मंथन जारी है।

ठंड के चलते श्री राम जन्मभूमि पर विराजमान रामलला ने रजाई ओढ़ ली है। मौसम के बदलते मिजाज और तेजी से बढ़ती ठंड से बचाने के लिए बाल स्वरूप रामलला के लिए ब्लोअर लगाया गया है। इससे बाल स्वरूप के भगवान श्री रामलला पर ठंड का कोई असर नहीं पड़ेगा।