ayodhya ram mandir

अयोध्या के बहुप्रतीक्षित राम मंदिर के निर्माण में भरतपुर के प्रसिद्ध गुलाबी पत्थरों का इस्तेमाल किया जाएगा। भरतपुर जिले के बांसी पहाड़पुर में पाया जाने वाला यह पत्थर दुनिया भर में प्रसिद्ध है और अब राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार ने बांसी पहाड़पुर में खनन को वैध बना दिया है।

नृपेंद्र मिश्रा यहां दो दिन रूककर मंदिर निर्माण का कार्यक्रम शुरू करवाएगें। निर्माणाधीन कम्पनी लार्सन टृब्रो कम्पनी के इंजीनियर पहले ही यहां पहुंच चुके हैं।

अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण होने के पहले ही योगी आदित्यनाथ ने मुख्यमंत्री बनते ही राम की नगरी को पर्यटन के लिहाज से विकसित कर ना शुरू कर दिया था।

अयोध्या में बनने वाले विशाल राम मंदिर के निर्माण में बुंदेलखंड के पत्थरों से बनी गिट्टी का ही प्रयोग होगा। इन्हीं गिट्टियों पर ये विशाल राम मंदिर खड़ा होगा।

दिल्ली आतंकी हमले को लेकर बड़ा खुलासा हुआ है। शनिवार सुबह स्पेशल सेल की टीम द्वारा पकड़े गए आईएसआईएस आतंकी ने खुलासा किया है कि अयोध्या राम मंदिर में धमाका करने की आतंकी साजिश थी।

इस घंटे की खास बात यह है कि इसमें गुणवत्तापूर्ण मेटल का उपयोग किया गया है। बताया जा रहा है कि जब यह घंटा बजेगा तो इसकी आवाज 15 किलोमीटर दूर तक सुनाई पड़ेगी।

अयोध्या में भूमि पूजन के बाद अब हर किसी की इच्छा है कि जल्द से जल्द भव्य राम मंदिर का निर्माण हो। इसके लिए लोगों ने दिल खोलकर दान देना शुरू कर दिया है।

श्री राम जन्मभूमि परिसर में मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन करने आए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साक्षात रामलला को दंडवत कर अपने माता-पिता और अपने संस्कारों को प्रकट किया।

हमें कोई दूसरा समझाना ही नहीं चाहेगा कि सांस्कृतिक स्वतंत्रता प्राप्ति के जश्न के कोलाहल के बीच एक दूसरी बड़ी आबादी अपनी सुरक्षा को लेकर इतनी भयभीत और अलग-थलग सी महसूस क्यों कर रही है।

उत्तर प्रदेश के अयोध्या में पीएम मोदी ने 5 अगस्त को राम मंदिर की नींव रखी, जिसके चलते पूरी दुनिया में धूम मची हुई थी। अयोध्या राम नगरी में चल रहे इस कार्यक्रम का लाइव प्रसारण दुनियाभर के तमाम देशों में देखा गया।