baba ramdev

योग गुरु बाबा रामदेव को मद्रास हाईकोर्ट से तगड़ा झटका लगा है। हाईकोर्ट ने पतंजलि की दवा कोरोनिल के ट्रेडमार्क पर प्रतिबंध लगा दिया है।

बाबा रामदेव ने कहा कि उन्होने कोरोना वायरस की दवा बना ली है। इस दवा के प्रयोग से कोरौना के मरीज ठीक हो जाएंगे व इसके सेवन से लोगो को कोरोना नहीं होगा।

पतंजलि की कोरोनिल दवा पर काफी दिनों से विवाद चल रहा था, लेकिन ताजा खबर मिली है कि अब पतंजलि की कोरोनिल दवा से प्रतिबंध हटा लिया गया है।

योग गुरु बाबा रामदेव कोरोनिल विवाद पर आज प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सफाई दे रहे हैं। बाबा रामदेव ने कहा है कि हमारे खिलाफ केस दर्ज कराए गए। मेरे धर्म, जाति और संन्यास पर सवाल उठाए गए।

बा रामदेव के पतंजलि आयुर्वेदिक संस्थान द्वारा कोरोना की दवा कोरोनिल बनाने का दावा कर अपने लिए मुसीबत खड़ी कर ली है। इस मामले में केंद्र सरकार के आयुष मंत्रालय द्वारा पतंजलि पर दवा के प्रचार-प्रसार पर रोक लगाई गई और विभिन्न राज्यों में पतंजलि पर केस लगा दिए गए है।

स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने कहा, 'आयुष मंत्रालय जांच कर रहा है और मुझे पता चला है कि आयुष मंत्रालय ने बाबा रामदेव से सारी जानकारियां हासिल की हैं।

कोरोनिल दवा को लेकर अब बाबा रामदेव, बालकृष्ण समेत अन्य के खिलाफ ड्रग्स एंड मेडिकल रेमेडी एक्ट और डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट के तहत एफआईआर दर्ज करने की मांग हुई है।

राम देव अपने उत्पादों के अलावा जमीन के झंझटों में भी फंस चुके हैं। पतंजलि के फूड पार्क और अन्य यूनिट्स की स्थापना के लिए महाराष्ट्र, यूपी, उत्तराखंड आदि राज्यों में सस्ते दामों पर जमीन देने के आरोप लगे हैं। 

कोरोना वायरस के इलाज को लेकर दुनिया के तमाम वैज्ञानिक और डॉक्टर्स शोध में जुटे है, इसी बीच योगगुरु रामदेव ने कोरोना की कारगर दवा बनाने का दावा किया और पतांजलि ने इसे देश में लॉन्च भी कर दिया।