indira gandhi

ज्ञानी जैल सिंह पर देश की सत्तारूढ़ पार्टी कांग्रेस के एक सांसद ने संगीन इल्जाम भी लगाए। उनके घर को आतंकवादियों का अड्डा करार दिया। इंदिरा गांधी के बाद प्रधानमंत्री बने राजीव गांधी से कटुता इस कदर बढ़ी कि महाभियोग की चर्चा भी होने लगी।

1946 में आज ही के दिन जन्मे संजय गांधी किसी जमाने में कांग्रेस में इतने ताकतवर हो गए थे कि कई बार वे अपनी मां इंदिरा गांधी के फैसले तक बदलवा देते थे।

इन्दिरा गांधी की रिपोर्टिंग (''टाइम्स आफ इंडिया'' के लिए) मैंने इक्कीस वर्षों (1963 से 1984) तक किया है। प्रेस कान्फ्रेंस और जनसभायें मिलाकर।

इंदिरा गांधी का नाम विश्व की महानतम और शक्तिशाली महिलाओं में शामिल है। सशक्त आत्मशक्ति और असाधारण हिम्मत के लिए वह जानी जाती हैं। उनमे एक विशेष राजनीतिक दूरदृष्टि थी। उनके व्यक्तित्व के निर्माण के पीछे राजनैतिक व ऐतिहासिक घटनाओं का एक सिलसिला है।

उनके फैसले ने देश को आर्थिक तौर पर मजबूत बनाया। इंदिरा गांधी का जन्म 19 नवंबर 1917 में हुआ और उनका पूरा बचपन देश की राजनीतिक माहौल में बीता था।

इंदिरा गांधी के जीवन में 1967 से लेकर 1971 के काल खंड को उनका कायांतरण काल कहा जा सकता है। नेहरू के निधन के बाद उन्‍होंने जब कांग्रेस के साथ मिलकर काम करना शुरू किया तो मोरार जी देसाई जैसे नेताओं के कड़े विरोध का सामना करना पड़ा।

कानपुर के एक व्यवसायी परिवार में जन्म लेने वाले कमलनाथ की संजय गांधी से दोस्ती दून स्कूल में पढ़ाई के दौरान हुई। कारोबारी परिवार से होने की वजह से कमलनाथ पर अपने व्यवसाय को आगे बढ़ाने का दबाव था लेकिन संजय की दोस्ती उन्हें राजनीति में घसीट लाई।

पंडित नेहरू के देहावसान के बाद कांग्रेस के दिग्गिज नेताओं ने पार्टी पर कब्जा जमा लिया। इसमें के कामराज, एसके पाटिल, निजलिंगप्पा और मोरार जी देसाई सरीखे नेताओं की भूमिका अहम थी।

कांग्रेस प्रदेश मुख्यालय पर आयोजित कार्यक्रम में प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी और लौहपुरुष सरदार बल्लभभाई पटेल के चित्र पर माल्यार्पण और पुष्पांजलि अर्पित कर नेताद्वय को अपनी भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की।